loader

ऑपरेशन लोटस: येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ होगी जांच, हाई कोर्ट का आदेश

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा की मुश्किलों में लगातार इजाफा हो रहा है। कैबिनेट के मंत्री के. एस. ईश्वरप्पा के द्वारा राज्यपाल से उनकी शिकायत करने के बाद कर्नाटक हाई कोर्ट के ताज़ा आदेश के कारण येदियुरप्पा मुश्किलों से घिर गए हैं। 

हाई कोर्ट ने 2019 के ऑपरेशन लोटस के मामले में येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ जांच के आदेश दिए हैं। इस मामले में येदियुरप्पा पर आरोप है कि उन्होंने तत्कालीन राज्य सरकार को गिराने के लिए सत्तारूढ़ गठबंधन के विधायकों को पैसे और मंत्री पद का लालच दिया था। इसे ऑपरेशन लोटस कहा जाता है। 

जस्टिस माइकल ने 31 मार्च को इस मामले में लगे स्टे को हटाने का आदेश दिया। अब इस बात की जांच की जाएगी कि ऑपरेशन लोटस में येदियुरप्पा की क्या भूमिका थी। 

ताज़ा ख़बरें

गुरुमितकल सीट से विधायक के बेटे शरणगौड़ा पाटिल ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि येदियुरप्पा ने उससे उसके पिता को पाला बदलकर बीजेपी में आने को राजी करने के लिए कहा था। पाटिल ने पुलिस को उनके बीच हुई बातचीत की ऑडियो रिकॉर्डिंग भी उपलब्ध कराई थी। इस मामले में मुक़दमा दर्ज किया गया था। 

ऐसा आरोप है कि ऑपरेशन लोटस के कारण ही कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस के विधायकों ने बग़ावत की थी और बहुमत न होने के कारण कुमारस्वामी सरकार गिर गई थी और बीजेपी ने सरकार बनाई थी। 

कामकाज में दख़ल देने का आरोप 

एक ही दिन पहले ग्रामीण विकास मंत्री के. एस. ईश्वरप्पा ने राज्यपाल विजूभाई वाला से शिकायत की थी कि येदियुरप्पा उनके कामकाज में हस्तक्षेप करते हैं, उन्होंने कई तरह की गंभीर गड़बड़ियां की हैं और अधिनायकवादी प्रवृत्ति के हैं। ईश्वरप्पा ने राज्यपाल को लिखी चिट्ठी में कहा है कि मुख्यमंत्री कैबिनेट में सत्ता के बंटवारे को लेकर बने कर्नाटक (ट्रांजैक्शन ऑफ़ बिज़नेस) रूल 1977 का उल्लंघन करते हैं। इस चिट्ठी की प्रतियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जे. पी. नड्डा को भी भेजी गई हैं। 

रमेश जारकिहोली ने बढ़ाई मुसीबत

येदियुरप्पा की मुसीबतें अपनी कैबिनेट के पूर्व मंत्री रमेश जारकिहोली के सैक्स सीडी स्कैंडल की वजह से भी बढ़ी हुई हैं। सैक्स सीडी को लेकर कर्नाटक में बवाल मचा हुआ है और येदियुरप्पा पर मंत्री को बचाने का आरोप लग रहा है। भारी दबाव के बाद रमेश जारकिहोली को पद से इस्तीफ़ा देना पड़ा था और अब उन पर गिरफ़्तारी की तलवार लटक रही है। 

operation lotus in karnataka probe against BS Yediyurappa - Satya Hindi
रमेश जारकिहोली।

कैबिनेट विस्तार भी बना था मुसीबत 

इस साल जनवरी में कैबिनेट का विस्तार करने के बाद भी येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ उनके राजनीतिक विरोधी एकजुट हो गए थे। येदियुरप्पा को कैबिनेट विस्तार के लिए लंबे वक़्त तक आलाकमान की हां का इंतजार करना पड़ा था। 
कर्नाटक से और ख़बरें

कैबिनेट के विस्तार के बाद येदियुरप्पा के विरोधियों ने आरोप लगाया था कि कैबिनेट के विस्तार में उन्होंने ‘अपने लोगों’ को अहमियत दी है। कर्नाटक बीजेपी के वरिष्ठ नेताओं ने कहा था कि कैबिनेट विस्तार में उन्हीं लोगों को मंत्री बनाया गया है जिन्होंने येदियुरप्पा को ब्लैकमेल किया या जो उनके क़रीबी लोग हैं। 

येदियुरप्पा के बीजेपी बीजेपी आलाकमान से रिश्ते ठीक नहीं चल रहे हैं। वह 75 साल की उम्र की सीमा को पार कर चुके हैं और आलाकमान उन्हें किसी राज्य का गवर्नर बनाकर राज्य की राजनीति से उनकी विदाई कराना चाहता है जबकि येदियुरप्पा इसके लिए तैयार नहीं हैं।

सीएम की कुर्सी के कई दावेदार 

कर्नाटक में बीजेपी के कई नेता मुख्यमंत्री बनने की कतार में हैं। इनमें पूर्व मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार, केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी, उप मुख्यमंत्री लक्ष्मण संगप्पा सावदी का नाम शामिल है। इसके अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बी. एल. संतोष से येदियुरप्पा का छत्तीस का आंकड़ा जगजाहिर है। संतोष चाहते हैं कि येदियुरप्पा की जगह वह या उनका कोई क़रीबी राज्य का मुख्यमंत्री बने।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें