loader

एबीपी- सी वोटर सर्वे : केरल में फिर बन सकती है एलडीएफ़ की सरकार

केरल विधानसभा चुनाव के बाद मौजूदा वाम मोर्चा सरकार की वापसी हो सकती है। केरल में हर विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ दल या उनके गठबंधन की हार होती है। लेकिन इस बार सत्तारूढ़ गठबंधन की जीत हो सकती है। एबीपी- सी वोटर चुनाव पूर्व सर्वेक्षण से यह संकेत मिलता है। इस सर्वे के अनुसार, वाम लोकतांत्रिक मोर्चा यानी एलडीएफ़ को 71 से 83 सीटें मिल सकती हैं। केरल विधानसभा में 140 सीटें हैं। 
इस चुनाव-पूर्व सर्वेक्षण के अनुसार, कांग्रेस की अगुआई वाले गठबंधन यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट को 56 से 58 सीटें मिल सकती हैं। बीजेपी को शून्य से दो सीटें मिलने के आसार हैं। इसके अलावा किसी दल को कुछ मिलने की संभावना नहीं दिख रही है। यानी यह साफ़ है कि बीजेपी की स्थिति में बहुत बड़ा परिवर्तन नहीं पड़ने को है। 

वोट शेयर

इस सर्वेक्षण के अनुसार, इस बार एलडीफ को 42.4 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं। इसके अलावा यूडीएफ को 38.6 फीसदी वोट मिलने की संभावना है। बीजेपी को 16.4 फीसदी वोट मिल सकते हैं, जबकि दूसरे दलों के खाते में 2.6 फीसदी वोट जा सकते हैं। 

ABP- C Voter: LDF likely to comeback after polls - Satya Hindi
एबीपी- सी वोटर के सर्वे के अनुसार, सीपीआईएम की अगुआई वाले एलडीएफ को इस बार पिछली बार की तुलना में थोड़ा कम वोट मिलने के आसार हैं। उसे पिछली बार 43.5 प्रतिशत वोट मिले थे। यूडीएफ के वोट शेयर में मामूली बढ़त हो सकती है, यह घट थोड़ा बढ़ कर 38.8 फ़ीसदी हो सकता है। बीजेपी को पिछली बार 14.9 फीसदी वोट शेयर मिले थे। दूसरे दलों को 2.8 फीसदी वोट मिल सकते हैं। 

2016 का चुनावी नतीजा

याद दिला दें कि 2016 में हुए विधानसभा चुनाव में एलडीएफ ने 91 सीटों पर जीत हासिल की थी। दूसरी ओर, कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूडीएफ ने 47 सीटों पर जीत हासिल की थी। बीजेपी को सिर्फ एक सीट मिली थी। उस चुनाव में सीपीआईएम ने 84 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे, लेकिन सिर्फ 58 सीटों पर ही उसे जीत मिली थी। फ्रंट के दूसरे सदस्य सीपीआई ने 25 सीटों पर उम्मीदवार उतारे थे और 19 सीटों पर हासिल की थी। 

कांग्रेस ने 87 सीटों पर किस्मत आजमाया था, लेकिन उसे जीत 22 सीटों पर मिली थी। इस गठबंधन के एनसीपी ने चार सीटों पर चुनाव लड़ा था, दो पर कामयाबी हासिल की थी। इसी तरह इंडियन यूनियन मुसलिम लीग (आईयूएमएल) ने 23 सीटों पर चुनाव लड़ा था और 18 पर जीत हासिल की थी। जेडीएस को पाँच में से तीन पर जीत मिली थी। 
बता दें कि सी- वोटर ने एबीपी के लिए पाँच राज्यों का चुनाव-पूर्व सर्वे किया है। इस सर्वेक्षण में 47 हज़ार 334 लोगों की राय ली गई है। इसमें सबसे ज़्यादा पश्चिम बंगाल के 17 हज़ार 890 लोग शामिल हैं। इसके साथ ही 17 से 22 मार्च के बीच पश्चिम बंगाल में स्नैप पोल भी किया गया। इस पोल में 2 हज़ार 290 लोगों की राय ली गई। इस पोल में मार्जिन ऑफ एरर प्लस माइनस 3 प्रतिशत है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें