loader

बकरीद पर कोरोना प्रतिबंधों में छूट के लिए SC ने की केरल की खिंचाई

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को बकरीद के लिए कोरोना प्रतिबंधों में तीन दिन की छूट की अनुमति देने के लिए केरल सरकार की ज़बरदस्त खिंचाई की है। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह चौंकाने वाली स्थिति है कि केरल सरकार ने लॉकडाउन के नियमों में ढील देने की व्यापारियों की मांग को मान लिया है। लॉकडाउन में छूट देने के लिए केरल सरकार ने जो अधिसूचना जारी की थी उसे सुप्रीम कोर्ट ने रद्द तो नहीं किया, लेकिन अदालत ने साफ़ तौर पर कहा कि वह कांवड़ यात्रा पर सुप्रीम के निर्देशों का पालन करे। कुछ दिन पहले ही कोर्ट ने कांवड़ यात्रा को रद्द नहीं किया था, बल्कि उसने उत्तर प्रदेश सरकार को ख़ुद से कांवड़ यात्रा रद्द करने को कहा था। इसने उत्तर प्रदेश सरकार को कांवड़ यात्रा को रोकने का आदेश देने के लिए जीवन के मौलिक अधिकार का हवाला दिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने एक दिन पहले ही सोमवार को केरल सरकार से कहा था कि वह ईद के मद्देनज़र राज्य में कोरोना प्रतिबंधों में ढील के ख़िलाफ़ अपना जवाब दाखिल करे।

ताज़ा ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को कहा है कि बाज़ार में दबाव समूहों को स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने की अनुमति नहीं दी जा सकती है। आज छूट के आख़िरी दिन होने का हवाला देते हुए जब याचिकाकर्ता वरिष्ठ वकील विकास सिंह ने अदालत से कुछ आदेश पारित करने के लिए कहा था, तो न्यायमूर्ति नरीमन ने कहा, 'कोई मतलब नहीं है। हम अधिसूचना को रद्द नहीं कर रहे हैं क्योंकि अब ऐसा करना आग लगने पर कुँआ खोदने जैसे है।' 

सुप्रीम कोर्ट ने कहा, 'हम केरल को भारत के संविधान के अनुच्छेद 144 के साथ अनुच्छेद 21 पर ध्यान देने और कांवड़ यात्रा मामले में दिए गए हमारे आदेशों का पालन करने का निर्देश देते हैं।'

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने 17 जुलाई को एक संवाददाता सम्मेलन में छूट देने की घोषणा की थी और कहा था कि 21 जुलाई को मनाई जा रही बकरीद (ईद-उल-अजहा) के मद्देनज़र कपड़ा, जूते की दुकानों, आभूषण, फैंसी स्टोर, घरेलू उपकरण बेचने वाली दुकानों, इलेक्ट्रॉनिक सामान, सभी प्रकार की मरम्मत करने वाली दुकानों और आवश्यक सामान बेचने वाली दुकानों को ए, बी और सी श्रेणी के क्षेत्रों में 18-20 जुलाई को सुबह 7 बजे से रात 8 बजे तक खोलने की अनुमति होगी। 

पिनराई विजयन सरकार द्वारा बकरीद पर लॉकडाउन में छूट की घोषणा किए जाने के बाद इंडियन मेडिकल एसोसिएशन यानी आईएमए ने आपत्ति जताई थी।

इसने कहा था कि अगर केरल सरकार ने बकरीद पर लॉकडाउन में छूट देने का आदेश वापस नहीं लिया तो वह सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाने को मजबूर होगा। 

केरल से और ख़बरें
बता दें कि हाल के दिनों में केरल में देश में सबसे ज़्यादा कोरोना संक्रमण के मामले आ रहे हैं। एक दिन पहले ही 24 घंटे में 13 हज़ार से ज़्यादा मामले आए हैं। राज्यों में भी सक्रिय पॉजिटिव केसों की संख्या भी देश में सबसे ज़्यादा केरल में ही है। वहाँ अभी भी 1 लाख 22 हज़ार सक्रिए मामले हैं। केरल के अलावा महाराष्ट्र देश का दूसरा राज्य है जहाँ कोरोना के सक्रिय केसों की संख्या सबसे अधिक है। वहाँ क़रीब 99 हज़ार सक्रिए मामले हैं। केरल में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 10 फ़ीसदी से ज़्यादा है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें