loader

केरल: सतीशन बने विपक्ष के नेता, गुटबाज़ी पर कांग्रेस आलाकमान सख़्त

केरल में हाल में हुए विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद कांग्रेस आलाकमान गुटबाज़ी करने वाले नेताओं पर सख़्त हो गया है। पार्टी ने वीडी सतीशन का विपक्ष के नेता के रूप में चयन करके यह साफ संकेत दे दिया है कि गुटबाज़ी बर्दाश्त नहीं होगी। केरल में कांग्रेस नेताओं के बीच जबरदस्त गुटबाज़ी के कारण ही पार्टी आलाकमान ने विधानसभा चुनाव में किसी भी नेता को मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित नहीं किया था। 

सतीशन की नियुक्ति कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल के मजबूती से उनके पक्ष में खड़े रहने के कारण हुई है और आलाकमान इस बार पूर्व मुख्यमंत्री ओमन चांडी और पिछली विधानसभा में विपक्ष के नेता रहे रमेश चेन्निथला के दबाव में नहीं आया। 

राहुल गांधी के इस फ़ैसले से चेन्निथला को निराशा हुई है क्योंकि वह एक बार और इस पद पर रहना चाहते थे लेकिन राहुल ने उनसे अपेक्षाकृत युवा नेता को इस पद पर काम करने का मौक़ा दिया है।

केरल कांग्रेस में नेताओं के बीच मचे आपसी घमासान, गुटबाज़ी की वजह से ही राहुल गांधी ने विधानसभा चुनाव की कमान अपने हाथों में थामे रखी थी। राहुल गांधी के लिए अन्य राज्यों की तुलना में केरल सबसे ज़्यादा मायने रखता है, क्योंकि वे यहां की वायनाड लोकसभा सीट से सांसद हैं। 

ताज़ा ख़बरें

चांडी-चेन्निथला के गुट

वैसे तो केरल में कांग्रेसी नेताओं के अलग-अलग गुट हैं, लेकिन दो बड़े गुटों की वजह से कांग्रेस आलाकमान यहां मुश्किल में फंसता रहा है। ये गुट ओमन चांडी और रमेश चेन्निथला के हैं। केरल कांग्रेस में एक वक़्त दो बड़े कांग्रेसी नेताओं के. करुणाकरन और एके एंटनी के बीच जो सियासी लड़ाई थी, वैसी ही ओमन चांडी और रमेश चेन्निथला के बीच है। 

चार विधायकों की रही भूमिका 

बताया जाता है कि चांडी और चेन्निथला ने इस बार हाथ मिला लिए थे लेकिन कांग्रेस के चार विधायकों पीसी विष्णुनाथ, एम. विंसेंट, शफी परम्बिल और टी. सिद्दीकी ने राज्य में केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर भेजे गए वरिष्ठ नेता मल्लिकार्जुन खड़गे के सामने चेन्निथला का खेल बिगाड़ दिया। 

इन चारों विधायकों ने साफ कहा कि अगर कांग्रेस को केरल की सत्ता में वापस लाना है तो बदलाव करना ही होगा। उन्होंने यह भी तर्क दिया कि राज्य की सत्ता में लौटने वाली सीपीएम ने इस बार अपनी कैबिनेट में नए चेहरों को जगह दी है।

इसके अलावा भी केरल के कई कांग्रेस विधायकों, पार्टी नेताओं ने राज्य कांग्रेस में संगठनात्मक बदलाव करने की मांग की थी। 

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन ने उम्मीद जताई कि सतीशन अपने नए रोल में बढ़िया काम करेंगे। उन्होंने कहा कि सतीशन ने विधायक रहते हुए भी अपनी योग्यता को साबित किया है। सतीशन की नियुक्ति के बाद चेन्निथला ने भी आलाकमान के फ़ैसले पर सहमति जताई। यूडीएफ़ के सहयोगी दल इंडियन यूनियन मुसलिम लीग ने भी सतीशन की नियुक्ति का स्वागत किया है। 
VD Satheesan as Leader of Opposition in Kerala Assembly - Satya Hindi

यूडीएफ का ख़राब प्रदर्शन

केरल में हुए विधानसभा चुनाव में मार्क्सवादियों के नेतृत्व वाले लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट (एलडीएफ) और कांग्रेस के नेतृत्व वाले यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (यूडीएफ) के बीच हुआ था। लेकिन यूडीएफ का प्रदर्शन बेहद ख़राब रहा था और उसे 126 सीटों वाली विधानसभा में सिर्फ़ 41 सीटें मिली थीं जबकि एलडीएफ़ ने 97 सीटें जीती थीं। 

ये नतीजे कांग्रेस के लिए बेहद ख़राब रहे थे क्योंकि राहुल गांधी ने पांच राज्यों के चुनाव प्रचार में सबसे ज़्यादा जोर केरल में ही लगाया था और माना जा रहा था कि उनकी मेहनत रंग लाएगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें