loader

ड्रैगन ने हाथी को क्यों डसा?

शी जिनपिंग जब से 2013 में चीन के राष्ट्रपति बने हैं तब से भारत के साथ सीमाओं पर तनाव बढ़ाने वाली कई कार्रवाइयाँ हुई हैं। शी के कार्यकाल में चीनी सेना ने मौजूदा घुसपैठ को लेकर कुल पाँच बार भारतीय सीमाओं में अतिक्रमण किया है।  आखिर क्या वजह है कि चीन रह रह कर भारतीय सीमा में घुसपैठ करता है।

इसका खुलासा सामरिक मामलों के टिप्पणीकार रंजीत कुमार ने अपनी ई-बुक 'ड्रैगन ने हाथी को क्यों डसा ( भारत- चीन रिश्तों की कहानी)' में काफी गहराई से  किया  है। लेखक ने करीब साढ़े तीन दशक पहले 1984-85 में चीन में रह कर चीनी लोगों और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की कार्यप्रणाली को निकट से देखा और समझा है। 

करीब साढ़े तीन दशक पहले चीन में अपने प्रवास और इसके बाद चीन के कई दौरों के  अपने निजी संस्मरणों और अनुभवों के आधार पर ऐतिहासिक परिप्रेक्ष्य में चीन की मानसिकता को समझाते हुए लेखक ने आज के दौर में चीन की न केवल भारत के ख़िलाफ़, बल्कि दुनिया भर में विस्तारवादी नीतियों के ज़रिये अपना प्रभुत्व स्थापित करने की हरक़तों की व्याख्या की है।

ख़ास ख़बरें

1962 से भारत-चीन संबंध

1962 के युद्ध के अढ़ाई दशक बाद तक भारत- चीन  रिश्तों पर  पर बर्फ जमी रही। लेकिन भारत- चीन के रिश्ते 1988 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के ऐतिहासिक दौरे, जिसे आपसी रिश्तों पर जमी बर्फ को पिघलाने वाला दौरा कहा गया था, के बाद बेहतर होने शुरू हुए।

तब चीन के तत्कालीन राष्ट्रीय नेता और शिखर पुरुष कहे जाने वाले देंग जियाओ पिंग ने भारत के साथ रिश्तों के नये दौर की शुरुआत करने को हरी झंडी दिखाई। तब देंग जियाओ पिंग ने चीन को चहुँमुखी विकास की राह पर तेजी से आगे बढ़ाने के लिये चार आधुनिकीकरण की महत्वाकांक्षी योजना देशवासियों के सामने पेश की थी। 

शायद यह एक बड़ी वजह रही होगी कि चीन अपने आर्थिक विकास के पहिये को तेजी से घुमाने के लिये अपने पड़ोसी देशों खासकर भारत के साथ किसी तरह का तनाव का रिश्ता नहीं बने रहना देना चाहता था, ताकि उसके राष्ट्रीय कर्णधारों का ध्यान आर्थिक विकास के ज़रिये चीन को शक्तिशाली बनाने पर लगा रहे।

भारत-चीन संबंध

पिछली सदी के अंतिम दशक से लेकर मौजूदा सदी के पहले दशक तक भारत-चीन संबंध आपसी सौहार्द और सहयोगी रिश्ता स्थापित करने की राह में तेजी से आगे बढ़ने लगे थे, लेकिन अचानक  शी के सत्तारूढ़ होने  के बाद 2013 से चीन के तेवर न केवल भारत बल्कि दुनिया  को लेकर बदलने लगे।

देंग जियाओ पिंग के शासन काल में  चीन कहता था कि शांतिपूर्ण विकास उसका लक्ष्य है और वह किसी के साथ तनाव नहीं चाहता। अब जबकि चीन ने अपने विकास के लक्ष्यों को काफी हद तक हासिल कर लिया है, वह दुनिया पर राजनीतिक प्रभुत्व स्थापित करने का सपना देखने लगा है।

चीनी राष्ट्रपति शी ने कहा है कि  2049 तक  वह चीन को दुनिया का सबसे विकसित देश बनाने का ‘चाइना ड्रीम’ (चीनी सपना) देख रहे हैं। ‘चाइना ड्रीम’ वास्तव में चीन में एक नया राष्ट्रीय नारा बन चुका है।

dragon ne haathi ko kyun dasa ranjeet kumar e-book on india-china relations - Satya Hindi

भारत-चीन सीमा पर तनाव

पिछले साल पाँच मई को चीन ने पूर्वी लद्दाख के कई सीमांत इलाकों में अपनी सेना भेजकर भारतीय इलाकों में घुसपैठ की थी, जिसमें से चीनी सेना केवल पैंगोंग झील के इलाके में ही पीछे हटी है। 

चीनी सेना को गोगरा, हॉट स्प्रिंग और देपसांग के इलाकों से अपने जवानों को पीछे हटाना है, लेकिन चीनी सेना पीछे हटने का नाम नहीं ले रही। उलटे वह  उन इलाक़ों में अपनी सेना की तैनाती को और सुविधाजनक बनाने के लिये नये ढाँचागत निर्माण करती जा रही है।

सवाल यह उठता है कि आखिर क्या वजह है कि चीन ने भारत के साथ बेहतर होते रिश्तों को पटरी पर से उतारने वाली सैन्य कार्रवाई की है? क्या भारत ने चीन को ऐसा करने के लिये उकसाया या फिर यह  चीन की विस्तारवादी मानसिकता का परिचायक है जिसकी वजह से चीन ने भारत की पीठ में एक बार फिर छुरा घोंपने का दुस्साहस किया? 

कोरोना काल में जहाँ अखबारों  से लेकर अन्य  मुद्रित सामग्री को हाथ में लेने से लोग किनारा करने लगे हैं, ऑनलाइन बुक स्टोर पर पुस्तकें जारी करने का नया चलन शुरू हो गया है।

इसी के अनुरूप रंजीत कुमार ने अपनी पुस्तक भारतीय भाषाओं की ऑनलाइन बुक स्टोर नोटनुल. कॉम और अमेजन. इन पर स्वप्रकाशित की है। ऑनलाइन होने की वजह से यह  किंडल और नोटनुल ऐप पर पढ़ी जा सकती है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

साहित्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें