loader

ज्ञानपीठ से सम्मानित असमिया कवि नीलमणि फूकन की पाँच कविताएँ

सुविख्यात असमिया कवि नीलमणि फूकन को ज्ञानपीठ पुरस्कार से सम्मानित किए जाने की घोषणा की गई है। पिछले लगभग सात दशकों से कविता कर्म में सक्रिय फूकन इस सम्मान के सच्चे हक़दार हैं, क्योंकि उन्होंने असमिया कविता को नया अंदाज़ और मुहावरा दिया है। आम तौर पर यह कहा जाता है कि वे फ्रांसीसी प्रतीकवाद से प्रभावित हैं और उनकी कविता में ये भरपूर नज़र भी आता है। मगर सचाई यह है कि उनकी अपनी शैली है और उस पर उनका ज़बर्दस्त अधिकार भी है। वह प्रगतिशील सोच वाले आधुनिक कवि हैं और उनकी कविता का असर बाद की पीढ़ियों में भी साफ़ तौर पर देखा जा सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

पद्मश्री से सम्मानित फूकन को 1981 में उनके कविता संग्रह कविता  पर साहित्य अकादमी पुरस्कार मिल चुका है। सन् 2002 में साहित्य अकादमी ने उन्हें अपना फेलो बनाकर सम्मानित किया था। उन्हें प्रतिष्ठित ब्रम्हपुत्र वैली पुरस्कार के अलावा बहुत सारे सम्मान मिल चुके हैं। फूकन के 13 कविता संग्रह प्रकाशित हो चुके हैं। इसके अलावा आलोचना पर भी उनकी कई पुस्तकें हैं। उनकी आत्मकथा भी प्रकाशित हो चुकी है। 

सत्य हिंदी के पाठकों के लिए उनकी पाँच असमिया कविताओं का हिंदी अनुवाद प्रस्तुत है। पिछले तीन दशकों से असमिया, बांग्ला और हिंदी में परस्पर अनुवाद एवं लेखन कर रहीं सुपरिचित लेखिका पापोरी गोस्वामी ने इन कविताओं का असमिया से हिंदी में अनुवाद किया है। 

एक नील उपलब्धि 

उस विस्तृत शिलामय प्रान्त में दबा हुआ है 

सबसे कोमल स्वर में गीत गाने वाला वो आदमी

हरे-भरे खेतों के बीच से अपने हाथों को लहराता हुआ वो 

अब हमारे सर के ऊपर छाया बनने नहीं आएगा,

राजहंस बनकर पानी में खेलती हुई परियों से छीनकर 

अब वो प्रकाश जैसी परम आयु हमारे लिए नहीं लाएगा।

गले में फंदे डालकर झूलती हुई औरत की तरह 

अब उसकी आवाज़ की स्तब्धता में टुकड़े-टुकड़े होकर 

टूट जाता है एक विशाल अन्धकार दर्पण 

हम सभी की भावनाओं के प्राणों पर, 

लोगों से भरपूर कस्बों और शहरों तक बहती हवा के हर झोंके पर।

सबसे कोमल स्वर में गीत गाने वाला वो आदमी 

अलस्सुबह के सपनों की तरह उसकी आवाज़,

उसके गीतों के हर चाँद और सूरज

लाल फलों वाली झाड़ियों का हर पौधा 

अब हमारे अस्तित्व के अँधेरे गर्भ में 

एक नील उपलब्धि है।

साहित्य से और ख़बरें

पत्थर और झरनों से भरे इस पठार में 

पत्थर और झरनों से भरे पठार में जब बारिश होती है 

वो लोग मुझे अकेला छोड़ जाते हैं।

आड़ी तिरछी बरसती बूंदें मुझे भीतर से ढहाने लगती 

आधी रात की हवाएं उन लोगों की आँखों में खोल देते हैं

बाँध टूटकर बह जाने वाले नावों के पाल।

रात की मूसलाधार बारिश के बीच किसी की यंत्रणा भरी चीख सुनता हूँ।

पत्थरों के दबाव से निकलना मुश्किल है,

कोई चीख रहा है।

पत्थर और झरनों से भरे इस पठार में जब बारिश होती है 

खेतों को हरा-भरा करने वाले जलातंक अँधेरे में दिखने लगता है 

गले तक डूबी हुई कमला कुंवरी का चेहरा।

नोट- कमला कुंवरी एक किंवदंती की स्त्री है जिसने जनकल्याण के लिए आत्म-बलिदान किया था।

वो शुक्रवार या रविवार था 

वो शुक्रवार था या रविवार 

हवाओं ने छीन लिया था 

मुँह के सामने से संतरा

सीने के अन्दर महसूस कर रहा था मैं 

जैसे कलेजे पर धक्का देती हुई, 

एक लाल रंग में रंगी हुई नदी रुक गई थी।

दरख्तों के सामने कांपता हुआ

लटक रहा था 

उस शाम जलकर राख होती हुई आत्मग्लानि।

वो शुक्रवार था या रविवार

दर्पणों में प्रतिध्वनित हो रही थी 

टूटे हुए तारों की चीखें

ख़ास ख़बरें

रजस्वला मैदान पार करके तुम

रजस्वला मैदान पार करके शायद अब तुम 

बहुत दूर पहुँच गई हो।

पिंजरे में बंद है तुम्हारी वो चीख 

किसानों के बीच किसी बात को लेकर 

कोहराम है।

और अभी-अभी जैसे कुछ घट गया 

खिले हुए गुलाब के फूलों में 

चकित करने वाली निस्तब्धता है।

क्या कोई जबाव मिला तुम्हें

क्या कोई जबाव मिला 

अपने ही खून में खुद को तैरता हुआ क्या देख पाए

ये भी है एक तरह के चरम अनुभवों का क्रूर उद्दीपन।

जीवन के साथ जीवन का अप्रत्याशित,

भयानक रक्तरंजित साक्षात्कार।

क्या वापस पाया खुद को 

तुम्हारी प्यास 

तुम्हारा शोक।

डरे हुए भूखे अनाथ बच्चे की 

आंसू भरी आँखों को 

क्या कोई जवाब दे पाए तुम।

क्या अपने खून में खुद को तैरता हुआ देखा तुमने।

बहुत समय बीता,

बहुत समय।

हे परितृप्त मानव।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

साहित्य से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें