loader

महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को ईडी ने किया गिरफ़्तार 

ईडी ने सोमवार रात को महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख को गिरफ़्तार कर लिया है। इससे पहले जांच एजेंसी ने उनसे 12 घंटे तक पूछताछ की। भ्रष्टाचार और मनी लॉन्ड्रिन्ग के आरोपों के मामले में देशमुख की गिरफ़्तारी हुई है। देशमुख सोमवार को दिन में ईडी के दफ़्तर पहुंचे थे और देर रात उनकी गिरफ़्तारी हुई है। इस दौरान ईडी ने देशमुख के बयान भी दर्ज किए थे। देशमुख को आज हॉलिडे कोर्ट में पेश किया जाएगा।

अनिल देशमुख उस समय सीबीआई और ईडी के निशाने पर आए थे जब मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह ने अनिल देशमुख पर मुंबई के पब, रेस्टोरेंट और बार से हर महीने 100 करोड़ रुपये की वसूली करने के आरोप लगाए थे। परमबीर सिंह ने इस बारे में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखा था। 

ताज़ा ख़बरें

‘झूठे आरोप लगाए’

देशमुख ने सोमवार को एक वीडियो जारी कर कहा था कि मीडिया में इस बारे में ग़लत ख़बर चल रही है कि वे जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा था कि उनके स्टाफ़ और पूरे परिवार ने हमेशा से जांच में ईडी को सहयोग दिया है। देशमुख ने कहा था कि कुछ लोगों ने अपने फ़ायदे के लिए झूठे आरोप लगाकर उन्हें शिकार बना लिया। 

देशमुख ने कहा, “ये आरोप ऐसे लोगों ने लगाए थे जो न तो भरोसेमंद हैं और न ही इनकी कोई इज्जत है। ऐसे बेईमान लोग ख़ुद ही वसूली और हत्या के कई रैकेट्स में डूबे हुए हैं।” 

उन्होंने बिना नाम लिए परमबीर सिंह पर निशाना साधते हुए कहा कि पुलिस में आयुक्त जैसे ऊंचे पद पर रहा एक शख़्स अब भगोड़ा वांछित अपराधी बन चुका है। मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह का कहीं कोई पता नहीं है। 

29 अक्टूबर को बॉम्बे हाई कोर्ट ने ईडी की ओर से देशमुख के ख़िलाफ़ जारी किए गए समन को रद्द करने से इनकार कर दिया था और उन्हें निर्देश दिया था कि वे जांच एजेंसी के सामने पेश हों। ईडी ने आरोप लगाया था कि देशमुख ने गृह मंत्री रहते हुए कई बार मालिकों से 4.7 करोड़ रुपये का अवैध फ़ायदा लिया था। 

Anil Deshmukh arrested in money laundering case - Satya Hindi

कई बार भेजा था समन 

ईडी ने पूछताछ के लिए 5 बार अनिल देशमुख को समन भेजा लेकिन देशमुख एक भी बार पूछताछ के लिए ईडी के सामने हाजिर नहीं हुए। उसके बाद ईडी ने देशमुख के ख़िलाफ़ लुक आउट सर्कुलर भी जारी कर दिया था।

सीबीआई की छापेमारी 

सीबीआई ने बीते दिनों देशमुख के नागपुर और मुंबई के आवास और दफ़्तरों पर छापे मारे थे। सीबीआई ने देशमुख और कुछ अन्य अज्ञात लोगों के खिलाफ आपराधिक साजिश और मनी लॉन्ड्रिंग की धाराओं में मुक़दमा दर्ज किया था। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

सीबीआई ने भी कई बार पूछताछ के लिए अनिल देशमुख को समन जारी किया था लेकिन देशमुख एक बार भी सीबीआई के सामने हाजिर नहीं हुए। 

एनसीपी ने किया था विरोध

अनिल देशमुख के ठिकानों पर सीबीआई की छापेमारी के खिलाफ एनसीपी के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया था। एनसीपी कार्यकर्ताओं का कहना था कि केंद्र सरकार की एजेंसियां महाराष्ट्र सरकार और इसमें शामिल राजनीतिक पार्टियों के नेताओं के ख़िलाफ़ बदले की भावना से कार्रवाई कर रही हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें