loader
रुझान / नतीजे चुनाव 2023

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

बीजेपी
0
आप
0
कांग्रेस
0
अन्य
0

महाराष्ट्र: मुंडे मंत्री नहीं बनीं तो बीजेपी के क़रीब 50 पदाधिकारियों का इस्तीफ़ा

केंद्र सरकार ने अपनी छवि सुधारने के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल में बड़े पैमाने पर बदलाव तो कर लिए लेकिन महाराष्ट्र में इस बदलाव को लेकर अलग तस्वीर नज़र आ रही है। केंद्रीय मंत्रिमंडल में औरंगाबाद के डॉ. भागवत कराड को जगह मिलने से गोपीनाथ मुंडे की पुत्री सांसद प्रीतम मुंडे के खेमे में नाराज़गी बढ़ती जा रही है। मुंडे समर्थक पार्टी पदाधिकारियों ने अपने पदों से इस्तीफ़ा देना शुरू कर दिया है। दर्जनों बीजेपी पदाधिकारियों, ज़िला परिषद सदस्यों, पंचायत समिति सदस्यों, नगरसेवकों और पदाधिकारियों ने अपने इस्तीफ़े पार्टी के बीड ज़िलाध्यक्ष को सौंप दिए हैं। यह नाराज़गी किस हद तक जाएगी, यह अभी कहा नहीं जा सकता, लेकिन एक बात तो साफ़ है कि पिछले दो साल से महाराष्ट्र बीजेपी में पंकजा मुंडे की वजह से उपजी कलह एक बार फिर से भड़क सकती है। अब देखना है कि इस मामले में पंकजा मुंडे क्या रणनीति अपनाती हैं?

ताज़ा ख़बरें

क्या पंकजा मुंडे फिर से कोई विरोध प्रदर्शन करने वाली हैं? दरअसल डॉ. कराड भी बंजारा समाज से आते हैं। प्रदेश में भारतीय जनता पार्टी की सत्ता जाने के बाद से पंकजा मुंडे ने पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को कई बार निशाने पर लिया था। फडणवीस और पार्टी की कार्य शैली पर बयानबाज़ी के चलते भाजपा ने उन्हीं के समाज के डॉ. कराड को जब राज्यसभा सदस्य के लिए चुना था उसी समय यह कहा जाने लगा था कि यह कार्रवाई पंकजा मुंडे या मुंडे परिवार का कद या प्रभाव कम करने के उद्देश्य से की गयी है। 

पार्टी में अपनी आवाज़ कमजोर होते देख पंकजा मुंडे ने अपने पिता गोपीनाथ मुंडे द्वारा बनायी गयी एक संस्था के माध्यम से अपनी नयी पारी शुरू करने की घोषणा भी की थी। लेकिन कुछ महीनों बाद उनका यह विरोध शांत हो गया। लेकिन इस बार उन्हें पूरा भरोसा था कि पार्टी का केंद्रीय नेतृत्व उनकी बहन प्रीतम को मंत्री पद देगा। लेकिन ऐसा हुआ नहीं और बीड ज़िले में बीजेपी में नाराज़गी के स्वर प्रबल होते जा रहे हैं।
क़रीब पचास पदाधिकारियों ने पिछले दो दिनों में अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है। बीड ज़िले के सभी 11 तालुका (तहसील) अध्यक्षों और उनकी कार्यकारिणी के पदाधिकारियों ने अपने इस्तीफ़े जिलाध्यक्ष को सौंप दिए हैं।

ज़िला महासचिव सर्जेराव तांदले ने भी अपना इस्तीफ़ा दे दिया है। पूर्व ज़िला परिषद की पूर्व अध्यक्ष और वर्तमान सदस्य सविता गोल्हार, ज़िला अध्यक्ष की पत्नी व ज़िला परिषद सदस्य जयश्री म्हस्के सहित 4 ज़िला परिषद सदस्यों ने भी अपने इस्तीफ़े सौंप दिए हैं। पाथर्डी पंचायत समिति में बीजेपी की विद्यमान सभापति सुनीता दौंड और उनके पति बीजेपी ज़िला उपाध्यक्ष गोकुल दौंड ने भी अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया। 3 पंचायत समिति सदस्य, छह नगरसेवकों ने भी अपने पद से इस्तीफ़ा दिया है। ज़िले में बीजेपी पदाधिकारियों के इस्तीफ़े का सिलसिला जारी है। सोशल मीडिया पर पार्टी पदाधिकारी तथा कार्यकर्ता अपनी नाराज़गी ज़ाहिर कर रहे हैं। बीजेपी प्रदेश नेतृत्व इस नाराज़गी को लेकर खामोश है। इस नाराज़गी पर उसकी रणनीति क्या होगी यह देखना है? 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

पंकजा के पहले के रुख को देखकर शायद पार्टी नेतृत्व इंतज़ार के मूड में है। क्योंकि अभी तक पंकजा मुंडे की तरफ़ से कोई आधिकारिक बयान नहीं आया है। सवाल ये खड़े हो रहे हैं कि क्या पंकजा मुंडे कोई बड़ा क़दम उठाने की तैयारी में हैं? क्योंकि जब से डॉ. कराड को बीजेपी ने राज्यसभा में भेजा है तबसे पंकजा मुंडे सहज नज़र नहीं आती हैं। पिछले साल पंकजा ने पार्टी में अपने समर्थक नेताओं और विधायकों को गोलबंद करने की कवायदें शुरू की थी। उन्होंने अपने पिता गोपीनाथ मुंडे की जयन्ती पर बंजारा समाज के तीर्थ क्षेत्र भगवान गढ़ पर शक्ति प्रदर्शन भी किया था। उस शक्ति प्रदर्शन में बीजेपी नेता एकनाथ खडसे सहित गोपीनाथ मुंडे के क़रीबी विधायक भी उपस्थित हुए थे। अब देखना यह है कि पंकजा मुंडे कौनसा रुख अख्तियार करती हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें