loader

अमरावती बंद के दौरान हिंसा में निशाने पर समुदाय विशेष की दुकानें

महाराष्ट्र के अमरावती में बीजेपी की ओर से बुलाए गए बंद  के दौरान मुसलमानों की दुकानों को निशाना बनाया गया, तोड़फोड़ और आगजनी की गई।

'इंडियन एक्सप्रेस'  के अनुसार, कोतवाली के पुलिस प्रमुख ने कहा कि बंद के दौरान बीजेपी, बजरंग दल, विश्व हिन्दू परिषद और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के कार्यकर्ता बहुत बड़ी तादाद में वहाँ पहुँच गए और उन्हें संभालना पुलिस के लिए मुमकिन नहीं था।

पुलिस एक अधिकारी ने कहा कि ये लोग राजकमल चौक पर जमा हो गए। भीड़ में से कुछ लोग हिंसा पर उतर आए, उन्होंने दुकानों में तोड़फोड़ की, उनमें आग लगा दी और कुछ गाड़ियों को भी आग के हवाले कर दिया।

ख़ास ख़बरें

सुनियोजित हिंसा?

उन्होंने कहा, "ऐसा लगता है कि शुक्रवार को अल्पसंख्यक समुदाय की हिंसा के जवाब में हिंसा करने के लिए ये लोग तैयार होकर आए थे।"

दो दुकानों और उनके सामने खड़ी गाड़ियों में आग लगा दी गई, एक दुकान में तोड़फोड़ करने के बाद उसे आग के हवाले कर दिया गया। इसके अलावा आराधना के दो स्थलों को नुक़सान पहुँचाया गया।

हिंसा के जवाब में हिंसा

इसके पहले अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने त्रिपुरा में हुई हिंसा के खिलाफ़ शुक्रवार को प्रदर्शन किया। इस प्रदर्शन के दौरान बीजेपी के स्थानीय नेता प्रवीण पोते के घर पर पथराव किया गया, जिससे खिड़की के शीशे टूट गए। एक दूसरे जगह हुए पथराव में एक व्यक्ति घायल हो गया। इस प्रदर्शन में लगभग 25 हज़ार लोगों ने भाग लियाा था।

बीजेपी ने इसके जवाब में शनिवार को बंद रखा और विरोध प्रदर्शन किया। इसमें लगभग 6,000 लोगों ने भाग लिया।

पुलिस ने शुक्रवार के प्रदर्शन से जुड़े 15 और शनिवार के प्रदर्शन से जुड़े 11 मामले दर्ज किए हैं। इसके अलावा 60 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

muslim shops targeted during amaravati bandh - Satya Hindi

स्थिति नियंत्रण में

महाराष्ट्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक राजेंदर सिंह ने कहा कि 'स्थिति नियंत्रण में है, रविवार को फ्लैग मार्च किया गया।'

इस इलाके में हिन्दू मुसलमानों की मिश्रित आबादी रहती है और सांप्रदायिक सौहार्द्र भी रहता है। यहाँ पिछली बार सांप्रदायिक दंगा 1990 के दशक में हुआ था।

बता दें कि विश्व हिन्दू परिषद ने बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों और दुर्गा पूजा के पंडालों पर हुए हमलों के विरोध में 26 अक्टूबर त्रिपुरा के पानीसागर में  एक रैली की थी।

इस रैली के दौरान दो समुदाय के लोगों में झगड़ा हुआ और इसके बाद मामला पुलिस में पहुंच गया। अल्पसंख्यक समुदाय के लोगों ने आरोप लगाया कि उनकी तीन दुकानों को जला दिया गया और तीन घरों में तोड़फोड़ की गई। इसके अलावा एक मसजिद में भी तोड़फोड़, चोरी और महिलाओं के साथ अभद्रता करने का आरोप लगाया गया है।

दूसरी ओर से की गई शिकायत में आरोप लगाया गया है कि विहिप की रैली पर हमला किया गया। राज्य सरकार ने अदालत को बताया कि तमाम आरोपों की जांच की जा रही है।

राज्य के सूचना मंत्री सुशांत चौधरी ने कहा है कि पुलिस की जांच में पता चला है कि पानीसागर में किसी भी मसजिद में आग नहीं लगाई गई है। राज्य सरकार ने कहा है कि कुछ बाहरी लोगों ने अपने फ़ायदे के लिए सोशल मीडिया पर मसजिद जलाने के फर्जी फ़ोटो अपलोड किए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें