loader

पीएम के फ़ैसले को मास्टरस्ट्रोक बताने वाले रविशंकर मास्टरस्ट्रोक के शिकार: राउत

शिवसेना नेता संजय राउत ने रविशंकर प्रसाद के मोदी मंत्रिमंडल से बाहर किए जाने पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि रविशंकर 'मास्टरस्ट्रोक का शिकार' हो गए। राउत ने कहा, 'रविशंकर प्रसाद हमेशा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यों को मास्टरस्ट्रोक बताते हुए शेखी बघारते थे। हालाँकि, इस बार यह मास्टरस्ट्रोक उन पर ही पलटवार करता दिख रहा है।' 

राउत का ऐसा तंज रविशंकर पर इसलिए आया है कि सरकार की तरफ़ से हर फ़ैसले पर सफ़ाई देने या प्रेस कॉन्फ़्रेंस करने के लिए अधिकतर बार रविशंकर ही आते रहे हैं। कई मौक़ों पर सरकार के फ़ैसलों को वह मास्टरस्ट्रोक क़रार देते रहे थे। 

ताज़ा ख़बरें

इस बीच मोदी कैबिनेट ने अपने मंत्रिमंडल का विस्तार किया। लेकिन विस्तार से पहले ही रविशंकर प्रसाद, प्रकाश जावड़ेकर ने इस्तीफ़ा दे दिया। इन दोनों नेताओं के साथ ही रमेश पोखरियाल निशंक, डॉ. हर्षवर्धन, संतोष गंगवार, सदानंद गौड़ा, बाबुल सुप्रियो, देबाश्री चौधरी, संजय धोत्रे, रतन लाल कटारिया, राव साहब दानवे पाटिल और प्रताप चंद्र सारंगी की भी कैबिनेट से विदाई हो गई। थावरचंद गहलोत को कर्नाटक का राज्यपाल नियुक्त किया गया है। इस फेरबदल में 43 मंत्रियों ने शपथ ली है।

मोदी सरकार की इसी कैबिनेट फेरबदल पर राउत ने तंज कसा है। उन्होंने अनुभवी प्रकाश जावड़ेकर और थावरचंद गहलोत को वापस भेजे जाने का ज़िक्र करते हुए कहा कि जाहिर तौर पर नये चेहरों को उन्होंने उनकी क़ाबिलियत के आधार पर जगह दी होगी।

वैसे, हाल ही में संजय राउत प्रधानमंत्री मोदी की तारीफ़ कर चुके हैं। कहा जा रहा है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने जब से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की है तब से शिवसेना और बीजेपी के बीच कुछ बदला हुआ नज़र आ रहा है। 

उद्धव ठाकरे और प्रधानमंत्री मोदी की मुलाक़ात के बाद संजय राउत ने भी प्रधानमंत्री की जमकर तारीफ़ की थी और बीजेपी की सफलता का क्रेडिट भी उन्हें दिया था। तब से बीजेपी के नेता भी शिवसेना पर सीधा हमला करने से बच रहे हैं।

पिछले हफ़्ते ही महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने तो यह भी कह दिया कि शिवसेना से हमारे मतभेद हो सकते हैं लेकिन शिवसेना हमारी दुश्मन बिल्कुल भी नहीं है।

sanjay raut calls ravi shankar prasad resign as modi masterstroke  - Satya Hindi

देवेंद्र फडणवीस से पहले शिवसेना के कई नेता दबी जुबान में बीजेपी के साथ फिर से गठबंधन की बात कर चुके हैं। शिवसेना के विधायक और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के क़रीबी माने जाने वाले प्रताप सरनाईक ने कुछ दिन पहले मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक चिट्ठी लिखकर यह वकालत की थी कि बीजेपी देश की सबसे बड़ी पार्टी है और ऐसा इशारा किया था कि अगर हम बीजेपी के साथ फिर से सरकार बनाते हैं तो यह पार्टी के हित में होगा। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

बहरहाल, ताज़ा फेरबदल के बाद मोदी मंत्रिमंडल में महाराष्ट्र से 4 मंत्री बनाए गए हैं। उनमें से एक नारायण राणे हैं। वह पहले कांग्रेस में थे, फिर शिवसेना में शामिल हुए थे और बाद में वह बीजेपी में चले गए। इस पर भी राउत ने प्रतिक्रिया दी है। एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार राउत ने कहा, 'महाराष्ट्र के दो से चार मंत्रियों को मंत्रिमंडल में शामिल किया गया है। मूल रूप से वे शिवसेना और राकांपा के सदस्य थे। इसलिए, हमें बीजेपी का आभारी होना चाहिए कि हमारी पार्टी के ऐसे प्रतिभाशाली नेता उनका हिस्सा बने और उन्होंने उन्हें नेता बनाया। वे अच्छा काम करेंगे और भारत और महाराष्ट्र की प्रगति में योगदान देंगे।'

मनसुख मंडाविया की स्वास्थ्य और परिवार मामलों के मंत्री के रूप में नियुक्ति पर संजय राउत ने कहा कि कैबिनेट का एक नया चेहरा सामने आया है और हम इसका स्वागत करते हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें