loader

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

BJP
0
AAP
0
CONG
0
OTH
0

अश्लील फ़िल्म रैकेट केस- शिल्पा से भी हुई पूछताछ

राज कुंद्रा अश्लील फ़िल्म रैकेट मामले में मुंबई क्राइम ब्रांच ने फ़िल्म अभिनेत्री और राज कुंद्रा की पत्नी शिल्पा शेट्टी से शुक्रवार को 6 घंटे से भी अधिक समय तक पूछताछ की। क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना है कि शिल्पा शेट्टी अपने पति राज कुंद्रा के साथ विआन कंपनी में डायरेक्टर हैं इसलिए क्राइम ब्रांच यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि इस अश्लील फ़िल्म रैकेट मामले में शिल्पा शेट्टी की तो कोई भागीदारी नहीं है। 

उधर, शुक्रवार को राज कुंद्रा की पुलिस कस्टडी 27 जुलाई तक बढ़ा दी गयी है।

शुक्रवार को उस समय हलचल मच गई जब मुंबई क्राइम ब्रांच की एक टीम राज कुंद्रा को लेकर करीब दोपहर 3 बजे जुहू में उनके बंगले पर पहुंच गयी। क्राइम ब्रांच के सूत्रों का कहना है कि राज कुंद्रा से पूछताछ में कुछ ऐसी जानकारी सामने आई है जिनका संबंध अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी से है। 

ताज़ा ख़बरें

क्राइम ब्रांच शिल्पा शेट्टी से पूछताछ कर यह पता लगाना चाहती है कि राज कुंद्रा के काले कारनामों की जानकारी उन्हें थी या नहीं। हालांकि अभी तक शिल्पा शेट्टी की अश्लील रैकेट मामले में कोई भागीदारी नहीं दिख रही है।

आमने-सामने बैठाकर पूछताछ 

क्राइम ब्रांच के सूत्रों से जानकारी मिली है कि पहले क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने शिल्पा शेट्टी से अकेले में लगभग 2 घंटे तक पूछताछ की। उसके बाद राज कुंद्रा और उन्हें आमने-सामने बैठाकर सवाल-जवाब किए।  

दरअसल, राज कुंद्रा क्राइम ब्रांच को अपनी पत्नी शिल्पा शेट्टी की इस अश्लील फ़िल्म रैकेट में भागीदारी के बारे में कुछ जानकारी नहीं दे रहे थे जिसके बाद क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने फैसला किया कि शिल्पा शेट्टी और राज कुंद्रा से आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की जाए। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

ठोस जानकारी नहीं मिली 

हालांकि क्राइम ब्रांच को राज और शिल्पा से पूछताछ में कोई ठोस जानकारी हाथ नहीं लगी है। लेकिन राज कुंद्रा ने लंदन में स्थित केनरिन कंपनी के बारे में कुछ जानकारी क्राइम ब्रांच को दी है। क्राइम ब्रांच अधिकारियों का कहना है कि ज्यादातर अश्लील फिल्में केनरिन कंपनी के बैनर तले ही बनी थीं जिसका मालिक प्रदीप बख़्शी है।

हाल ही में क्राइम ब्रांच ने अंधेरी स्थित राज कुंद्रा की कंपनी विआन पर छापा मारा था। इस छापे के दौरान क्राइम ब्रांच ने कुंद्रा के लैपटॉप, कंप्यूटर समेत काफी हार्ड डिस्क भी बरामद की थीं। क्राइम ब्रांच को शक है कि राज कुंद्रा ने इस केस के उजागर होते ही काफी डाटा डिलीट कर दिया था। 

डिलीट किए गए डाटा को रिकवर करने के लिए क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने आईटी एक्सपर्ट्स से बात की है। क्राइम ब्रांच इसी केस में गिरफ्तार किए गए एजेंट जॉन से भी पूछताछ कर रही है। जॉन इस रैकेट से जुड़ा हुआ वह शख्स है जो मॉडलों से को-ऑर्डिनेशन का काम किया करता था।

हाई कोर्ट में कुंद्रा की दस्तक

बता दें कि राज कुंद्रा ने शुक्रवार को हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। कुंद्रा के वकीलों ने हाई कोर्ट में दलील दी है कि पुलिस ने कुंद्रा की गिरफ्तारी अवैध तरीके से की है। कुंद्रा के वकीलों का कहना है कि राज कुंद्रा का इस पूरे मामले से कोई लेना-देना नहीं है। 

वहीं, दूसरी ओर इसी रैकेट में सबसे पहले गिरफ्तार की गयीं मॉडल गहना वशिष्ठ का कहना है कि राज कुंद्रा जो फ़िल्में बना रहे थे वो अश्लील की श्रेणी में नहीं आती हैं। इन फ़िल्मों में सिर्फ बोल्ड सीन फ़िल्माए जाते थे। इस तरह की फ़िल्मों को एकता कपूर भी बना चुकी हैं लेकिन उनके ऊपर कोई कार्रवाई नहीं हुई।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सोमदत्त शर्मा

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें