loader

आर्थिक नाकेबंदी से मिज़ोरम बेहाल, केंद्र से सड़क खुलवाने की अपील

पूर्वोत्तर राज्य मिज़ोरम को शेष भारत से जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग 306 को असम की सीमा के पास बंद कर दिया गया है।

असम-मिज़ोरम झड़प के बाद मिज़ोरम की इस नाकाबंदी का नतीजा यह है कि यह राज्य पूरे देश से कट गया है, वहाँ न कोई चीज पहुँच रही है, न ही वहाँ से कोई चीज बाहर आ रही है।

इससे मिज़ोरम के लोगों को खाने-पीने और रोज़मर्रा की दूसरी चीजों की क़िल्लत हो रही है। मिज़ोरम ने केंद्र सरकार को चिट्ठी लिख कर इसकी शिकायत की है और नाकेबंदी हटाने की गुजारिश की है। मिज़ोरम का कहना है कि असम-मिज़ोरम सीमा विवाद पहले भी हुआ है और उस समय भी इसकी आर्थिक नाकेबंदी कर दी गई थी। 

ख़ास ख़बरें

केंद्र को चिट्ठी

मिज़ोरम के गृह सचिव ललबियाकसांगी ने केंद्र सरकार को चिट्ठी लिख कर राष्ट्रीय राजमार्ग 306 खुलवाने का आग्रह किया है। 

उन्होंने लिखा है, "यह चिंता की बात है कि असम आर्थिक नाकेबंदी पर उतारू हो जाता है। वह ऐसा सिर्फ़ इसलिए करता है कि प्रमुख राजमार्ग और रेल लाइन उस राज्य से होकर गुजरती हैं।" 

इन्होंने इसके आगे कहा है,

आर्थिक नाकेबंदी से मिज़ोरम के लोगों की आजीविका पर बुरा असर पड़ रहा है। मिज़ोरम जाने वाली दूसरी सड़कों को भी असम में बंद कर दिया गया है।


ललबियाकसांगी, गृह सचिव, मिज़ोरम

'रेल लाइन भी उखाड़ी'

मिज़ोरम सरकार का कहना है कि इस तरह की आर्थिक नाकेबंदी इसके पहले 2020 में भी कर दी गई थी और उस समय भी दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद हुआ था। 

इस चिट्ठी में यह भी कहा गया है कि असम के हेलाकांडी ज़िले में रेल पटरी को उखाड़ दिया गया है और कम से कम दो रेल स्टेशनों को नुक़सान पहुँचाया गया है। 

मिज़ोरम के गृह सचिव ने यह भी कहा है कि राज्य के बिराबी रेल स्टेशन को जोड़ने वाली एक मात्र रेल लाइन की नाकेबंदी कर दी गई है। 

उन्होंने कहा कि मुहम्मदपुर और रामनाथपुर स्टेशनों में तोड़फोड़ की गई है। 

ललबियाकसांगी ने यह भी कहा है कि रेल लाइन और राजमार्ग केंद्र सरकार की संपत्ति है और कोई सरकारी एजेन्सी या आम जनता उसे बंद नहीं कर सकती है।

'पहले भी हुई है नाकेबंदी'

उन्होंने यह भी कहा कि पिछले साल 17 अक्टूबर से 11 नंवबर के बीच इसी तरह की नाकेबंदी कर दी गई थी। 

असम-मिज़ोरम सीमा पर लैलापुर में केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल (सीआरपीएफ़) तैनात होने के बावजूद आर्थिक नाकेबंदी है। 

assam enforces mizoram blockade after assam-mizoram clashes  - Satya Hindi

केंद्रीय बल की मौजूदगी में नाकेबंदी?

सीआरपीएफ़ के एक जवान ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से कहा, "हम किसी को भी आगे नहीं जाने दे सकते, ट्रक, बस, आदमी, कुछ नहीं, हमें ऊपर से आदेश मिला है।"

लैलापुर में राष्ट्रीय राजमार्ग पर सीआरपीएफ़ के जवानों के अलावा उसके ब्लैक पैंथर कमान्डो और असम पुलिस के लोग तैनात हैं। केंद्रीय बल के लोग नाकेबंदी हटाने के बजाय उसे लागू कर रहे हैं।

गाड़ियाँ लौटाईं

बुधवार की शाम मीडिया की गाड़ियों को असम-मिज़ोरम सीमा से एक किलोमीटर पहले ही रोक दिया गया और उन्हें वापस लौटने पर मज़बूर किया गया। 

सीआरपीएफ के जवानों ने इसकी वजह भी बताई। उनमें से एक ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से कहा, "फ़िलहाल सीमा पर शांति है, पर यदि हमने लोगों को जाने दिया तो पता नहीं क्या हो जाए, इसलिए हम किसी को आगे नहीं जाने दे रहे हैं।"

assam enforces mizoram blockade after assam-mizoram clashes  - Satya Hindi

असम के कछार ज़िले की पुलिस सुपरिटेंडेंट रमनदीप कौर ने नाकेबंदी से इनकार किया है। पर उन्होंने यह ज़रूर कहा कि कुछ संगठनों ने असम बंद का एलान किया है। 

उन्होंने कहा, 

बहुत ही नाजुक स्थिति है। हम कोई जोखिम नहीं ले सकते, ट्रकों को उनकी सुरक्षा के लिए ही रोका गया है।


रमनदीप कौर, पुलिस सुपरिटेंडेंट, कछार, असम

मिज़ो मुख्यमंत्री की अपील

इस बीच मिज़ोरम के मुख्यमंत्री ज़ोरमथंगा ने कहा है कि असम की आम जनता को या किसी दूसरे ग़ैर-मिज़ो व्यक्ति को कोई दिक्क़त नहीं है।

उन्होंने एक वीडियो पोस्ट किया, जिसमें असम की बराक घाटी का एक नागरिक बांग्ला में कहता दिख रहा है कि मिज़ोरम में वह पूरी तरह सुरक्षित है।

ज़ोरमथंगा ने यह भी कहा कि

ऑइज़ोल के चर्च में हमारे असमिया भाइयों ने कोरोना का टीका लगवाया। तमाम ग़ैर-असमिया मिज़ोरम में पूरी तरह सुरक्षित हैं और शांति से रह रहे हैं।


ज़ोरमथंगा, मुख्यमंत्री, मिज़ोरम

मंगलवार को असम-मिज़ोरम सीमा पर दोनों राज्यों के बीच झड़पें हुईं, जिसमें असम पुलिस के छह लोग मारे गए। इस पर काफी विवाद मचा।मिज़ोरम के मुख्य सचिव ने बुधवार को एलान किया कि वे अपनी पुलिस को विवादित क्षेत्र से लौट आने का आदेश दे चुके हैं।

दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों की नई दिल्ली में गृह मंत्रालय के अफ़सरों के साथ हुई बैठक के बाद मिज़ोरम के मुख्य सचिव ने यह फ़ैसला लिया।

उन्होंने कहा, "हम शांति बनाए रखेंगे।"

नई दिल्ली में बैठक

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने इस बैठक की अध्यक्षता की। इसमें असम के मुख्य सचिव जिष्णु बरुआ और पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति महंत मौजूद थे।

इसके अलावा इस बैठक में मिज़ोरम के मुख्य सचिव ललनुमाविया चुआनगो और पुलिस महानिदेशक एस. बी. के. सिंह ने भी भाग लिया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

मिज़ोरम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें