loader

वरिष्ठ पत्रकार विनोद दुआ नहीं रहे

टीवी पत्रकारिता के दिग्गजों में से एक विनोद दुआ का आज निधन हो गया। वह 67 वर्ष के थे। विनोद दुआ पिछले काफी दिनों से बीमार चल रहे थे और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था। 

दूरदर्शन और एनडीटीवी जैसे समाचार चैनलों में प्रमुख पदों पर रहे विनोद दुआ हिंदी पत्रकारिता के जाने-माने चेहरे थे। उनके निधन की पुष्टि उनकी बेटी मल्लिका दुआ ने की है।

senior journalist vinod dua passed away - Satya Hindi
मल्लिका दुआ ने अपनी इंस्टाग्राम पोस्ट में लिखा है कि उनके निडर और असाधारण पिता, विनोद दुआ का निधन हो गया है। उनकी बेटी ने आगे लिखा, 'उन्होंने एक अद्वितीय जीवन जिया, दिल्ली की शरणार्थी कॉलोनियों से पत्रकारिता की उत्कृष्टता के शिखर तक बढ़ते हुए 42 वर्षों तक सेवा की। हमेशा, हमेशा सत्ता के सामने सच बोलते रहे। वह अब हैं हमारी माँ, उनकी प्यारी पत्नी चिन्ना के साथ स्वर्ग में जहां वे गाना, खाना बनाना, यात्रा करना और एक दूसरे को परेशान करते रहेंगे।'

इससे पहले मल्लिका ने 29 नवंबर को अपने पिता के स्वास्थ्य की जानकारी दी थी। तब उन्होंने अपने पिता की स्थिति नाजुक होने की पुष्टि करते हुए कहा था कि उनकी इच्छा को देखते हुए उनका इनवेज़िव इलाज़ नहीं कराया जाएगा।

मल्लिका ने एक बयान में कहा था, 'वे अपने शर्तों पर जिए और अब उन्हें अपनी ही शर्तों पर संसार छोड़ने का हक है। कृपया उनके असाधारण जीवन से शांतिपूर्ण व कष्टहीन ढंग से गुजरने के लिए प्रार्थना करें।'

ताज़ा ख़बरें

कोरोना वायरस की दूसरी लहर के दौरान विनोद दुआ और उनकी पत्नी डॉ. पद्मावती दुआ को गुरुग्राम के एक अस्पताल में भर्ती किया गया था। उनकी पत्नी का तब लंबे संघर्ष के बाद निधन हो गया था। हालाँकि विनोद दुआ की स्थिति तब उतनी नहीं बिगड़ी थी। कोरोना के इलाज के बाद से ही विनोद दुआ की सेहत में लगातार गिरावट देखने को मिली।

कुछ महीने पहले ही विनोद दुआ पर लगे राजद्रोह के मामले को अदालत ने खारिज किया था। 

श्रद्धांजलि से और ख़बरें

एक स्थानीय बीजेपी नेता ने पिछले साल दिल्ली दंगे पर विनोद दुआ के यूट्यूब शो को लेकर देशद्रोह का मुक़दमा दर्ज कराया था। एफ़आईआर में उनपर फ़ेक न्यूज़ फैलाने, सार्वजनिक उपद्रव फैलाने, मानहानि वाली सामग्री छापने और सार्वजनिक रूप से ग़लत बयान देने का आरोप लगाया गया था। इस एफ़आईआर के ख़िलाफ़ ही विनोद दुआ सुप्रीम कोर्ट में गए थे। इस मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने उस एफ़आईआर को रद्द कर दिया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें