loader

बीजेपी कार्यसमिति की बैठक में कोरोना से लड़ने पर मोदी की तारीफ

भारतीय जनता पार्टी कार्यसमिति की बैठक में कोरोना से लड़ने के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ की गई और कहा गया कि उनके नेतृत्व में सरकार ने लोगों को मदद पहुँचाने में कोई कसर नही छोड़ी और 100 करोड़ वैक्सीन डोज लगाई जा चुकी हैं।

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा कि बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे. पी. नड्डा ने उपचुनाव में बीजेपी को मिली सफलता को लेकर आभार प्रकट किया। नड्डा ने कहा कि पार्टी के सामने कुछ चुनौतियाँ हैं। केरल, तमिलनाडु, आंध्र, तेलंगाना और ओडिशा में संगठन को मजबूत करना है। 

उन्होंने कहा कि अमित शाह ने एक लक्ष्य रखा था- असम, त्रिपुरा और नार्थ ईस्ट का, अब वहाँ पर बीजेपी की सत्ता है। 

उन्होंने कहा कि नड्डा ने पश्चिम बंगाल के नागरिकों का आभार प्रकट किया, वहाँ हुए चुनाव में वोट प्रतिशत अधिक बढ़ा है। राज्य में चुनाव के बाद हुई हिंसा में 53 कार्यकताओं की हत्या हुई है, एक लाख लोग घर छोड़कर राहत शिविरों में हैं। सारे विषयों पर पार्टी में चर्चा होगी।

ताज़ा ख़बरें

निशाने पर विपक्ष

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि दुनिया में भारत की छवि बेहतर हुई है। उन्होंने विपक्ष पर आरोप लगाया कि उसने कोरोना टीकाकरण को लेकर संशय पैदा करने का काम किया। देश की दुनिया में सकारात्मक चर्चा हुई।

उन्होंने कहा कि विपक्ष कोरोना के दौरान जमीन पर नहीं दिखा, लेकिन ट्विटर पर ज़रूर नज़र आया। उन्होंने कहा कि विपक्षी दल प्रधानमंत्री को कमजोर करने में लगे रहे।

यह बैठक ऐसे समय हो रही है जब पाँच चुनावी राज्यों में उत्तर प्रदेश, गोवा, मणिपुर, पंजाब और उत्तराखंड शामिल हैं जबकि 2022 के अंत में गुजरात और हिमाचल प्रदेश में भी चुनाव होने हैं।

इन सात में से छह राज्यों में बीजेपी की सरकार है। पंजाब में किसान आंदोलन के बेहद मज़बूत होने और शिरोमणि अकाली दल के अलग होने के कारण बीजेपी को वहां से उम्मीद कम ही है। लेकिन अगर मोदी सरकार कृषि क़ानून वापस ले लेती है तो पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के साथ मिलकर चुनाव लड़ने से उसे सियासी फ़ायदा हो सकता है। 

यूपी पर विशेष जोर 

उत्तर प्रदेश को पार्टी किसी क़ीमत पर नहीं खोना चाहती क्योंकि यह प्रदेश दिल्ली का रास्ता तय करता है। 2022 में अगर बीजेपी को यहां चुनावी हार मिली तो इसके बाद एंटी बीजेपी फ्रंट बनाने में जुटे नेताओं को ताक़त मिलेगी और बीजेपी के ख़िलाफ़ एक बड़ा गठबंधन तैयार हो सकता है। इसलिए पार्टी यहां दलित, ओबीसी से लेकर तमाम वर्गों को साध रही है। 

BJP National Executive Meet 2021 in delhi  - Satya Hindi

उपचुनाव के नतीजों से हलचल

तीन लोकसभा और 29 विधानसभा सीटों के हालिया नतीजों का असर क्या पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव पर भी हो सकता है, इसे लेकर भी राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में चर्चा हुई। हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, पश्चिम बंगाल में पार्टी का प्रदर्शन बेहद ख़राब रहा है और इससे उसकी चिंता बढ़ी है। माना जा रहा है कि पार्टी नेतृत्व हिमाचल के मुख्यमंत्री को बदल सकता है और राजस्थान में भी पार्टी संगठन को लेकर कोई बड़ा क़दम उठा सकता है। 

राजनीति से और ख़बरें

किसान आंदोलन से डर

बीजेपी की सबसे बड़ी चिंता किसान आंदोलन है। बीजेपी को किसान आंदोलन के कारण उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और पंजाब में बड़ा सियासी नुक़सान होने का डर सता रहा है। बीजेपी और संघ परिवार जानते हैं कि 2024 के चुनाव नतीजे तय करने में 2022 की बड़ी भूमिका है, इसलिए चुनावों में पूरी ताक़त के साथ उतरा जाए। लेकिन दोनों के पास यह भी फ़ीडबैक है कि किसान आंदोलन उनके लिए मुसीबत बन सकता है। इसलिए संभव है कि मोदी सरकार कृषि क़ानूनों को लेकर कोई फ़ैसला ले ले।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें