loader

कांग्रेस का नेतृत्व सलाह को विद्रोह के रूप में देखता है: आज़ाद

अपने बयानों के जरिये कांग्रेस नेतृत्व पर सवाल खड़े करते रहे वरिष्ठ नेता ग़ुलाम नबी आज़ाद ने फिर से कुछ ऐसा कहा है जो पार्टी नेतृत्व को चुभ सकता है। आज़ाद ने कहा है कि कांग्रेस की वर्तमान पीढ़ी सुझावों को स्वीकारने को तैयार नहीं दिखती और वरिष्ठ नेताओं की ओर से दी गई सलाहों को अपराध या विद्रोह के रूप में देखती है। 

ग़ुलाम नबी आज़ाद कांग्रेस में बाग़ी नेताओं के गुट G-23 के नेता हैं और  इन दिनों अपने गृह राज्य जम्मू-कश्मीर में रैलियां कर रहे हैं। 

आज़ाद के कांग्रेस की वर्तमान पीढ़ी वाले इस बयान को राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के बारे में किया गया इशारा माना जा रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

आज़ाद ने न्यूज़ 18 को दिए इंटरव्यू में कहा, “जब राजीव गांधी राजनीति में आए तो इंदिरा गांधी ने उन्हें और मुझे बुलाया और कहा कि ग़ुलाम नबी आज़ाद उन्हें भी ना कह सकते हैं लेकिन इस ना का मतलब अनादर करना या आदेश मानना नहीं होगा, यह पार्टी की बेहतरी के लिए होगा।” 

जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री रहने के साथ ही कई बार केंद्र सरकार में मंत्री रहे आज़ाद ने कहा, “लेकिन आज कोई भी ना सुनने के लिए तैयार नहीं है। ना कहने पर आपकी कोई अहमियत नहीं रह जाती।” 

Ghulam Nabi Azad said  Congress brass sees advice as rebellion  - Satya Hindi

कांग्रेस के बड़े मुसलिम चेहरे आज़ाद ने कहा कि जब सलाह पर ध्यान नहीं दिया जाता तो उन्हें और बाक़ी वरिष्ठ नेताओं को दुख होता है। आज़ाद ने न्यूज़ 18 से कहा, “हम पार्टी की बेहतरी के लिए सुझाव देते हैं। हम में से कोई भी पार्टी में कोई पद नहीं चाहता। हम चाहते हैं कि पार्टी का प्रदर्शन सुधरे। यह वो वक़्त है जब सत्ताधारी दल मज़बूत है जबकि विपक्ष कमजोर। विपक्ष के कमजोर होने से सत्ताधारी दल को फ़ायदा होता है।” 

आज़ाद ने कुछ दिन पहले कहा था कि उन्हें ऐसा नहीं लगता कि कांग्रेस अगले आम चुनाव में 300 सीटें जीत पाएगी। 

राजनीति से और ख़बरें

...राजनीति में कब क्या हो जाए

आज़ाद ने कहा कि वह कट्टर कांग्रेसी हैं। उन्होंने अपनी नई पार्टी बनाने की ख़बरों को खारिज कर दिया लेकिन उन्होंने यह भी कहा कि कोई नहीं जानता कि राजनीति में कब क्या हो जाए, ठीक उसी तरह जैसे कोई नहीं जानता कि कोई कब मरेगा। 

उन्होंने कहा कि पार्टी को मिलकर काम करने, चिंतन करने की ज़रूरत है। आज़ाद कई दशक से जम्मू-कश्मीर और इसके बाहर भी कांग्रेस के जाने-पहचाने मुसलिम चेहरे हैं। वह कई राज्यों में पार्टी के प्रभारी भी रहे हैं।

बीते कुछ दिनों में आज़ाद के कई समर्थकों ने जम्मू-कश्मीर में पार्टी से इस्तीफ़ा दिया है। इनमें राज्य के कई पूर्व मंत्री और विधायक शामिल हैं। इनके निशाने पर जम्मू-कश्मीर कांग्रेस के अध्यक्ष ग़ुलाम अहमद मीर रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें