loader

बिहार: सिब्बल का हमला, बोले- कांग्रेस प्रभावी विकल्प नहीं

बिहार में महागठबंधन की हार ने कांग्रेस के जख़्मों को कुरेद दिया है। राजनीतिक विश्लेषक उस पर हमलावर हैं, सहयोगी आरजेडी के प्रवक्ता कहते हैं कि कांग्रेस महागठबंधन के पैरों में जंजीर बन गई। वरिष्ठ नेता तारिक़ अनवर, पी. चिदंबरम कांग्रेस के प्रदर्शन पर निराशा जाहिर करते हैं और पटना में कांग्रेस दफ़्तर में विधायक दल का नेता चुनने को लेकर कार्यकर्ताओं में भिड़ंत होती है। 

ये सारी बातें कांग्रेस आलाकमान को सवालों के कठघरे में खड़ा करती हैं। पत्रकार, राजनीतिक विश्लेषक कांग्रेस से सवाल पूछ रहे हैं कि बिहार चुनाव में उसकी इस बुरी गत के लिए वह बताए कि इसके क्या कारण हैं, क्योंकि उसकी ही वजह से महागठबंधन सत्ता से दूर रह गया। 

कांग्रेस से पूछा जा रहा है कि उसे आख़िर क्या ज़रूरत थी कि वह 70 सीटों पर चुनाव लड़े, थोड़ा कम पर लड़ती तो आरजेडी के कोटे में ज़्यादा सीटें जातीं और 3 सीटों के बेहद मामूली बहुमत से सरकार बना रहा एनडीए आज शपथ ग्रहण की तैयारी नहीं कर रहा होता। 

कांग्रेस को वाम दलों के प्रदर्शन के बारे में बताकर उसे उलाहने दिए जा रहे हैं और इससे लोकसभा चुनाव में करारी हार और दिल्ली विधानसभा चुनाव में शून्य सीटें मिलने के बाद लगा जख़्म हरा हो गया है।

कुछ महीने पहले जब पार्टी के 23 वरिष्ठ नेताओं ने चिट्ठी लिखकर नेतृत्व पर सवाल खड़े किए थे और आंतरिक चुनाव कराने की मांग की थी, तो पार्टी ने सख़्त रूख़ अपनाते हुए कुछ नेताओं के पर कतर दिए थे। इनमें लंबा सियासी तजुर्बा रखने वाले ग़ुलाम नबी आज़ाद भी थे, जिन्हें पार्टी ने कांग्रेस महासचिव के पद से हटा दिया था। 

ताज़ा ख़बरें
बहरहाल, इन उलाहनों के अलावा वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल के ताज़ा बयानों से भी ये जख़्म हरे हुए हैं। याद दिला दें कि सिब्बल भी चिट्ठी लिखने वालों में शामिल थे। सिब्बल ने अब बिहार के विधानसभा चुनाव और कई राज्यों के उपचुनाव में कांग्रेस के प्रदर्शन को लेकर मुंह खोला है और चुभने वाली टिप्पणी करते हुए कहा है कि लोग अब कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प के रूप में नहीं देखते। पूर्व केंद्रीय मंत्री सिब्बल ने यह भी कहा कि नेतृत्व उन मुद्दों पर ध्यान नहीं दे रहा है, जिनसे पार्टी जूझ रही है। 
Kapil Sibal on congress in bihar election 2020 - Satya Hindi

‘हमसे मुंह फेर लिया’

सिब्बल ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ को दिए इंटरव्यू में कहा, ‘हम में से कुछ लोगों ने बताया कि कांग्रेस में आगे क्या किया जाना चाहिए। लेकिन हमारी बात सुनने के बजाय उन्होंने हमसे मुंह फेर लिया। अब हम रिजल्ट्स देख सकते हैं। केवल बिहार के ही लोग नहीं, बल्कि जहां-जहां उपचुनाव हुए हैं, स्वाभाविक रूप से वहां के लोग कांग्रेस को एक प्रभावी विकल्प नहीं मानते।’ 

बता दें कि बिहार में तो पार्टी 70 सीटों पर लड़कर सिर्फ़ 19 सीटें जीती है जबकि उपचुनावों में गुजरात, उत्तर प्रदेश में उसका खाता तक नहीं खुला है। मध्य प्रदेश में 28 सीटों पर हुए उपचुनाव में वह सिर्फ़ 9 सीटें जीती है जबकि विधानसभा चुनाव, 2018 में वह इनमें से 27 सीटें जीती थी।

‘आत्मचिंतन का वक़्त ख़त्म’

सिब्बल आगे कहते हैं कि आत्मचिंतन का वक़्त अब ख़त्म हो चुका है। उन्होंने कहा, ‘मेरे एक सहयोगी जो कांग्रेस वर्किंग कमेटी के सदस्य (सीडब्ल्यूसी) हैं, ने कहा, ‘मुझे उम्मीद है कि कांग्रेस आत्मचिंतन करेगी।’ लेकिन जब छह साल तक कांग्रेस ने आत्मचिंतन नहीं किया, तो अब हम इसकी क्या उम्मीद कर सकते हैं। हम जानते हैं कि कांग्रेस में दिक्क़त कहां पर है।’ 

कांग्रेस के ताज़ा हालात पर देखिए, चर्चा- 

दिल्ली की चांदनी चौक सीट से लोकसभा का चुनाव जीत चुके सिब्बल ने ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ से कहा, ‘कांग्रेस भी इन दिक्क़तों का हल जानती है लेकिन वह इसे स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं है। इसलिए ग्राफ़ नीचे गिरता जा रहा है। कांग्रेस को इसे स्वीकार करने की हिम्मत दिखानी चाहिए।’ 

सिब्बल पहले भी सीडब्ल्यूसी में चुनाव कराए जाने की मांग को जोरदार ढंग से उठा चुके हैं और इस बार भी उन्होंने यही कहा है कि पार्टी में फ़ैसले लेने वाली इस सर्वोच्च संस्था में सदस्यों के चयन के लिए लोकतांत्रिक प्रक्रिया को अपनाया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आप मनोनीत किए गए सदस्यों से सवाल पूछने की उम्मीद नहीं कर सकते। 

राजनीति से और खबरें

‘ऐसे ही चलता रहता है’ 

राज्यसभा सांसद सिब्बल ने गुजरात, मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के उपचुनाव में कांग्रेस की हार पर सवाल उठाया। उन्होंने कहा कि हमें अभी भी पार्टी की ओर से बिहार चुनाव और उपचुनाव में प्रदर्शन पर उसकी राय का इंतजार है। लेकिन हो सकता है कि वे सोचते हों कि सब ठीक है और यह सब ऐसे ही चलता रहता है। 

उन्होंने कहा कि हर संगठन में संवाद की ज़रूरत होती है। पूर्व केंद्रीय मंत्री ने गठबंधन किए जाने की ज़रूरत को लेकर कहा, ‘हम अब ये बहुत उम्मीद नहीं कर सकते कि लोग हमारे पास आएंगे। हम उस तरह की ताक़त नहीं रह गए हैं, जैसी कांग्रेस हुआ करती थी।’ 

आलाकमान को संदेश 

सिब्बल का मैसेज लाउड और क्लियर है। सिब्बल आलाकमान को चेताना चाहते हैं कि वह पार्टी में स्थायी अध्यक्ष के मसले और सीडब्ल्यूसी में चुनाव कराए जाने को गंभीरता से ले। उनका यह भी मैसेज है कि जो लोग पार्टी में रहकर सुधारों की आवाज़ उठा रहे हैं, वे ऐसा पार्टी के भले के लिए ही कर रहे हैं और पार्टी उन्हें अपना दुश्मन ना समझे। 

चिट्ठी लिखे जाने के बाद हमने देखा था कि सिब्बल, आज़ाद, जितिन प्रसाद सहित कुछ और नेताओं के ख़िलाफ़ पार्टी के ही अन्य नेताओं ने बयानबाज़ियां की थीं और इससे कार्यकर्ताओं के बीच बेहद ख़राब संदेश गया था।
दो लोकसभा चुनावों में करारी हार सहित कई राज्यों में सत्ता गंवा चुकी कांग्रेस आख़िर चेतने के लिए तैयार क्यों नहीं है। गिने-चुने राज्यों में वह सत्ता में है और इनमें से भी पंजाब, राजस्थान में उसके नेताओं में जबरदस्त गुटबाज़ी है। ऐसे में आलाकमान पार्टी में सीडब्ल्यूसी के चुनाव और स्थायी अध्यक्ष के चयन के सुझाव को जल्द मान ले तो निश्चित तौर पर इससे पार्टी को फ़ायदा हो न हो नुक़सान तो नहीं ही होगा। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें