loader

डरपोकों की ज़रूरत नहीं, आरएसएस के हो तो भागो, मजे लो: राहुल गांधी

कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने पार्टी के असंतुष्टों और बाग़ी तेवर अपनाए नेताओं को दो टूक संदेश दिया है। उन्होंने कहा कि उन्हें निडर लोग चाहिए और जो आरएसएस के हें उन्हें चले जाना चाहिए। समझा जाता है कि उनका यह बयान कांग्रेस छोड़कर जाने वाले नेताओं के लिए है और उन नेताओं के लिए भी जिन्हें 'जी-23' समूह कहा जा रहा है। हाल के दिनों में उत्तर प्रदेश में कांग्रेसी रहे जितिन प्रसाद बीजेपी में शामिल हुए हैं और उससे पहले मध्य प्रदेश के नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया भी बीजेपी में शामिल हुए थे और उन्हें तो अब मंत्री भी बना दिया गया है। 

राहुल गांधी शुक्रवार को कांग्रेस की सोशल मीडिया यूनिट के साथ बैठक के दौरान बोल रहे थे। उन्होंने साफ़-साफ़ नये लोगों को पार्टी में शामिल करने की वकालत की। उनका इशारा बीजेपी-आरएसएस की नीतियों का बिना डरे विरोध करने वालों की तरफ़ था। राहुल ने कहा, 'बहुत सारे लोग हैं जो डर नहीं रहे हैं। कांग्रेस के बाहर हैं। उनको अंदर लाओ। और जो हमारे यहाँ डर रहे हैं, उनको बाहर निकालो। आरएसएस के हो। चलो भैया जाओ। भागो। मजे लो। ज़रूरत नहीं है तुम्हारी। हमें निडर लोग चाहिए। ये हमारी आइडियोलॉजी है।'

ताज़ा ख़बरें

राहुल गांध के इस बयान को ज्योतिरादित्य सिंधिया, जितिन प्रसाद जैसे नेताओं पर निशाना साधे जाने के तौर पर देखा जा रहा है। ये दोनों ही नेता कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए हैं। पिछले साल तो सिंधिया कई विधायकों के साथ बीजेपी में शामिल हो गए थे और इस वजह से मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार गिर गई थी और बीजेपी ने अपनी सरकार बना ली। अब सिंधिया प्रधानमंत्री मोदी की कैबिनेट में शामिल किए गए हैं। 

राहुल गांधी के इस संदेश को पार्टी के उन असंतुष्टों के लिए भी संदेश माना जा रहा है जो बागी तेवर अपनाए हुए हैं। पार्टी में पहले से ही असंतुष्ट नेताओं को 'जी-23' समूह कहा जा रहा है। इसी साल मार्च में भी 'जी-23' समूह का विवाद रहा था। 

'जी-23' समूह में शामिल कई नेताओं ने पिछले साल सोनिया गांधी को ख़त भी लिखा था। कई नेताओं ने इंटरव्यू देकर खुले तौर पर पार्टी में नेतृत्व को लेकर सवाल उठाए थे। उसके बाद से लगातार पार्टी में अंदरूनी घमासान बढ़ता ही गया था।

तब मार्च महीने में सलमान खुर्शीद ने भी जी-23 पर क़रारा हमला करते हुए उनके नाम एक खुला खत लिखा था। उन्होंने पार्टी के अंदरूनी लोकतंत्र का हवाला देते हुए कहा था कि हज़ारों कांग्रेस कार्यकर्ता हैं जिन्हें पार्टी से कुछ नहीं मिला है या बहुत ही कम मिला है, वे भी लोकतंत्र में यक़ीन करते हैं। उन्होंने असंतुष्टों को निशाने पर लेते हुए उन्हें दिलाया कि पार्टी के आंतरिक चुनाव सही समय पर कराए जाएँगे, यह उन्हें पता है। 

राजनीति से और ख़बरें

सलमान खुर्शीद ने जी-23 के नेताओं को याद दिलाया था कि कांग्रेस पार्टी का पिछले 50 सालों का इतिहास बहुत ही जटिलताओं से भरा रहा है और अब उसे बीजेपी-आरएसएस की विभाजनकारी राजनीति का सामना करना है। उन्होंने कहा कि पार्टी दो पाटों के बीच फँसी है, कुछ लोग यह मानते हैं कि कांग्रेस धर्मनिरपेक्षता पर कोई समझौता कर ही नहीं सकती और कुछ लोग यह मानते हैं कि उसने धर्मनिरपेक्षता का फ़ायदा नहीं उठाया है। 

अब राहुल गांधी ने भी अपने ताज़ा बयान में उसी बीजेपी-आरएसएस का ज़िक्र किया है और कहा है कि जो डर रहे हैं उन्हें छोड़कर चले जाना चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजनीति से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें