loader

अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर धरने पर बैठे सिद्धू

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 के पहले राजनीतिक सरगर्मियाँ तेज़ हो गई हैं और राजनीतिक दलों ने एक -दूसरे को निशाने पर लेना शुरू कर दिया है। जब से आम आदमी पार्टी ने पंजाब चुनाव में दिलचस्पी ली है, वह पंजाब कांग्रेस के निशाने पर है। 

पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू  रविवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री व 'आप' नेता अरविंद केजरीवाल के घर के बाहर धरने पर बैठ गए।दरअसल, वहाँ, दिल्ली सरकार में ठेके पर काम करने वाले शिक्षक स्थायी शिक्षकों के बराबर वेतनमान की माँग के समर्थन में केजरीवाल के घर के बाहर धरने पर पहले से ही हैं। रविवार को सिद्धू भी वहाँ पहुँच गए, उनके प्रति समर्थन जताया और वहीं उनके बीच ही धरने पर बैठ गए। 

ख़ास ख़बरें

सिद्धू के सवाल

इतना ही नहीं, सिद्धू ने दिल्ली सरकार के शिक्षा मॉडल की आलोचना करते हुए ट्वीट भी कर दिया। उन्होंने ट्वीट में लिखा, "आपने 2015 में के चुनाव घोषणा पत्र में दिल्ली में आठ लाख  नौकरियों और 20 नए कॉलेजों का एलान किया था। कहाँ हैं वे नौकरियाँ? आपने दिल्ली में सिर्फ 440 नौकरियाँ दी हैं।"

क्या कहना है शिक्षकों का?

इस पूरे विवाद में ऑल इंडिया गेस्ट टीचर्स एसोसिएशन भी कूद पड़ा है, जिसने पहले ही दिल्ली के मुख्यमंत्री को उनकी तीसरी गारंटी की याद दिलाई। 

पंजाब कांग्रेस- 'आप'

दरअल 'आप' और पंजाब कांग्रेस एक दूसरे पर लगातार हमले करते आए हैं। सिद्धू के घरने पर बैठने के पहले 'आप' के राघव चड्ढा ने पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के विधानसभा क्षेत्र चमकौर कथित अवैध बालू खनन का मुद्दा उठाया था।  

सिद्धू की तारीफ की थी केजरीवाल ने?

दिलचस्प बात यह है कि इसके पहले अरविंद केजरीवाल ने नवजोत सिंह सिद्धू की तारीफ की थी। यह बात और है कि वह इस बहाने पंजाब कांग्रेस को निशाने पर ले रहे थे।

navjot singh sidhu pickets on arvind kejriwal house - Satya Hindi

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा था, 'सिद्धू जनता के मुद्दों को उठा रहे हैं, लेकिन कांग्रेस उन्हें दबाने पर तुली है।'

उन्होंने कहा था, "सिद्धू ने मंच पर जो कहा, मैं उनकी बहादुरी की सराहना करता हूँ। चन्नी कह रहे थे कि 'मैंने राज्य में रेत माफ़िया को ख़त्म कर दिया है और रेत की कीमतें 5 रुपये प्रति किलो तक कम कर दी हैं। इस पर तुरंत, सिद्धू ने कहा था कि 'नहीं ... यह झूठ है, यह दर अभी भी 20 रुपए है।"

navjot singh sidhu pickets on arvind kejriwal house - Satya Hindi
केजरीवाल ने सिद्धू की तारीफ करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी पर जमकर निशाना साधा था। उन्होंने कहा था कि सत्तारूढ़ कांग्रेस पंजाब में 2017 के चुनावी वादों को पूरा करने में नाकाम रही है। याद दिला दें कि यही बात सिद्धू तत्कालीन मुख्यमंत्री अमरिंदर  सिंह  के बारे में कहा करते थे, जो उनकी ही पार्टी की सरकार के मुख्यमंत्री थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें