loader

आप या कांग्रेस, किसके टिकट पर चुनाव लड़ेंगी सोनू सूद की बहन?

पंजाब के विधानसभा चुनाव में फ़िल्म अभिनेता सोनू सूद की बहन भी उतरने जा रही हैं। लेकिन चर्चा इस बात की है कि वे किस राजनीतिक दल के टिकट पर चुनाव लड़ेंगी। कोरोना काल में ग़रीबों के मसीहा और मददगार जैसी छवि बनाने वाले सोनू सूद जैसे लोकप्रिय अभिनेता का साथ लेने की कोशिश कांग्रेस की भी है और आम आदमी पार्टी की भी। 

आम आदमी पार्टी की दिल्ली सरकार सोनू सूद को ब्रांड एम्बेसेडर बना चुकी है। जबकि इस तरह की ख़बरें हैं कि सूद ने कुछ दिन पहले ही मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से भी मुलाक़ात की है। ऐसे में उनका साथ किसे मिलेगा, इसे लेकर जोरदार चर्चाएं हैं। 

ब्रांड एम्बेसेडर बनाए जाने के कुछ दिन बाद ही आयकर विभाग ने सोनू सूद के मुंबई व लखनऊ स्थित घरों व उनकी कंपनी के कार्यालयों का 'सर्वे' किया था। 

ताज़ा ख़बरें

पंजाब के राजनीतिक जानकारों के मुताबिक़, सोनू सूद जब अपनी बहन के चुनाव प्रचार में आएंगे तो इसका अच्छा-खासा असर होगा। ज़रूरतमंदों की मदद करने के कारण सोनू सूद सोशल मीडिया पर खासे लोकप्रिय हैं और देश में उनके समर्थकों की एक बड़ी तादाद है। 

Sonu Sood sister Malvika Sood Sachar will contest from moga seat  - Satya Hindi
सोनू सूद ने रविवार को मीडिया के सामने एलान किया कि उनकी छोटी बहन मालविका सूद सच्चर मोगा शहरी सीट से चुनाव मैदान में उतरेंगी। पार्टी कौन सी होगी, इस लेकर पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि इस बारे में जल्द ही एलान कर दिया जाएगा। उन्होंने इस बात को भी साफ किया कि उनका राजनीति में आने का कोई इरादा नहीं है। 
हालांकि कहा जा रहा है कि इस बात की ज़्यादा संभावना है कि सोनू सूद की बहन कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ सकती हैं। मोगा शहरी सीट इस समय कांग्रेस के ही पास है।

बीते एक साल से अपने घर के झगड़ों से परेशान पंजाब कांग्रेस को निश्चित रूप से सोनू सूद जैसे लोकप्रिय चेहरे का सहारा चाहिए। हालांकि पंजाब सरकार ने बीते दिनों एडवोकेट जनरल ए. पी. एस देओल से इस्तीफ़ा ले लिया है और यह कहा जा रहा है कि नवजोत सिंह सिद्धू अब चन्नी सरकार के लिए मुश्किल खड़ी नहीं करेंगे। लेकिन यह नहीं कहा जा सकता कि सिद्धू फिर किस दिन चन्नी को कठघरे में खड़ा कर दें। 

पंजाब से और ख़बरें
ऐसे में कांग्रेस को सिद्धू के कारण हुए नुक़सान की भरपाई करने में मदद मिल सकती है। पंजाब चुनाव जीतने के लिए पूरा जोर लगा रहे दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की भी कोशिश है कि सोनू सूद की बहन आम आदमी पार्टी के टिकट पर चुनाव लड़ें। 
देखना होगा कि मालविका सूद सच्चर किस राजनीतिक दल का हाथ पकड़ती हैं। लेकिन जिस भी दल से वे चुनाव लड़ेंगी, उसे निश्चित रूप से सोनू सूद की लोकप्रियता का फ़ायदा मिलेगा।

आम आदमी पार्टी आगे! 

फरवरी-मार्च में होने वाले पंजाब के विधानसभा चुनाव से पहले ABP-C Voter का सर्वे आया है। सर्वे आम आदमी पार्टी के सबसे बड़े दल के रूप में उभरने की बात कहता है। 

सर्वे कहता है कि 117 सीटों वाली पंजाब की विधानसभा में आम आदमी पार्टी को 47-53, कांग्रेस को 42-50 और शिरोमणि अकाली दल को 16-24 सीटें मिल सकती हैं। बीजेपी और अन्य को 1-1 सीट मिलने की बात कही गई है। पंजाब में सरकार बनाने के लिए ज़रूरी विधायकों का आंकड़ा 59 है। ऐसे में सर्वे के मुताबिक़, किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिलने जा रहा है इसलिए सरकार बनाने के लिए पंजाब में जोरदार घमासान चल रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

पंजाब से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें