loader
प्रतीकात्मक तसवीर

राजस्थान में पुजारी को ज़िंदा जलाया, मौत से पहले कहा- ज़मीन विवाद में हमला हुआ

राजस्थान के करौली में एक पुजारी को ज़िंदा जला दिया गया। ज़मीन विवाद में कुछ लोगों ने उनपर हमला किया था। मरने से पहले पुलिस को उन्होंने बयान दिया है। रिपोर्टों में कहा गया है कि लोगों के एक समूह द्वारा बुधवार को मंदिर के पुजारी पर पेट्रोल डालकर जलाया गया। गंभीर रूप से झुलसे पुजारी को जयपुर के एसएमएस अस्पताल में भर्ती कराया गया था। उपचार के दौरान गुरुवार शाम को उनकी मौत हो गई।

राजस्थान से और ख़बरें

'दैनिक भास्कर' की रिपोर्ट के अनुसार, यह मामला करौली के सपोटरा ग्राम पंचायत बूकना का है। 'मंदिर माफी' ज़मीन का विवाद  था। 'मंदिर माफी' का मतलब है कि मंदिर ट्रस्ट की ज़मीन उस मंदिर के प्रमुख पुजारी के नाम होती है। सामान्य रूप से ऐसी ज़मीन को मंदिर के केयरटेकर पुजारी को दिया जाता है। यह उनकी आमदनी का ज़रिया होता है। लेकिन इसी ज़मीन को लेकर सपोटरा ग्राम पंचायत बूकना के मंदिर की ज़मीन को लेकर विवाद हो गया। 

रिपोर्टों में कहा गया है कि पुजारी के पास 13 बीघा ज़मीन थी जो राधा कृष्ण मंदिर ट्रस्ट के नाम से है। गाँव के मंदिर के पुजारी बाबूलाल वैष्णव अपनी ज़मीन के पास एक प्लॉट पर मकान बनाना चाहते थे। मीणा समुदाय के कुछ लोगों ने इस पर आपत्ति की और उन्होंने उस ज़मीन को अपना बताया। रिपोर्ट के अनुसार इस विवाद को गाँव के बुजुर्गों के पास ले जाया गया जिन्होंने पुजारी के पक्ष में फ़ैसला दिया। 

उस ज़मीन पर पुजारी ने अपना दावा ठोका तो दूसरे पक्ष ने भी झोपड़ी बनाकर दावा किया। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच विवाद बढ़ गया। 

इन घटनाओं के बाद पुजारी को जब जलाया गया था तो मरने से पहले उन्होंने पुलिस को बयान दिया था। पुलिस के अनुसार, पुजारी ने कहा है कि छह लोगों ने उसके बाजरे (बाजरा) की गांठ पर पेट्रोल डाला जो विवादित जगह पर पड़ा था और बुधवार को उसमें आग लगा दी। उन्होंने दावा किया कि आरोपियों ने उन पर भी पेट्रोल डाला और उन्हें आग लगाने की कोशिश की। उस घटना के बाद गंभीर रूप से जख्मी होने के कारण पीड़ित को जयपुर के एसएमएस अस्पताल ले जाया गया।

'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हरजी लाल यादव ने कहा है कि हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया है और मुख्य आरोपी कैलाश मीणा को हिरासत में लिया गया है। पुजारी ने पुलिस को दिए अपने बयान में कैलाश, शंकर, नमो मीणा सहित छह लोगों का नाम लिया था। 

बाबूलाल वैष्णव ने बयान में आरोप लगाया है कि  वह 15 बीघा मंदिर 'माफी जमीन' पर खेती करते थे और आरोपी कैलाश, शंकर व नमो मीणा ने उनके बाड़े पर जबरन कब्जा कर लिया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

राजस्थान से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें