loader

तालिबान-अफ़ग़ानिस्तान पर सोशल मीडिया में नैरेटिव गढ़ने की कोशिश

आतंकवादी संगठन तालिबान ने अफ़ग़ानिस्तान में सरकार को हटाकर हुकूमत अपने हाथ में ले ली है। भारत में इसे लेकर जबरदस्त रिएक्शन है क्योंकि तालिबान कट्टरपंथी मुसलिम संगठन है और भारत में हिंदुत्ववादी संगठन इसे लेकर टिप्पणी कर रहे हैं तो दूसरी ओर से उन्हें जवाब भी मिल रहा है। हिंदुत्ववादी संगठन और इसलामिक ताक़तें इसे लेकर या ऐसे ही बाक़ी मुद्दों पर आमने-सामने हैं और पहले भी होती रही हैं। 

इनकी कोशिश अपनी-अपनी बातों को लोगों के जेहन तक पहुंचाकर उन पर मानसिक रूप से कब्जा करने की है। भारत में भी अच्छी संख्या में अफ़ग़ानिस्तान के लोग रहते हैं और वे भी तालिबान को लेकर अपना रिएक्शन दे रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें

बीते कई दिनों से ट्विटर पर कभी #अफ़ग़ानिस्तान, कभी #तालिबान कभी #Indian Muslims ट्रेंड हो रहा है। इन सारे ट्रेंड्स में राजनीतिक दलों के लोग भी शामिल हैं। जैसे बीजेपी की विचारधारा से जुड़े धर्मेंद्र कहते हैं कि अमेरिका के हटते ही तालिबानियों ने अफ़ग़ानिस्तान को नर्क बना दिया..!! कांग्रेस भी मोदी जी को हटा के भारत को नर्क बनाने की तैयारी में है। 

narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi
कांग्रेस की विचारधारा के समर्थक राजेश जाखड़ बिना नाम लिए कट्टर हिंदूवादी संगठनों पर टिप्पणी करते हैं कि सुनो ढोंगियों, वो भी तुम्हारी तरह अपने आप को धर्म का रक्षक मानते हैं। 
narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi

इसी तरह सुनील भारतीय जो हिंदुत्व को सर्वोपरि मानने की बात कहते हैं, उन्होंने लिखा है कि इन लोगों को बहुत डर लगता था भारत में, अफ़गानिस्तान के द्वार तालिबान ने खोल दिए हैं जाइए और वहां रहिए। 

narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi
लिबरल्स के ख़िलाफ़ हमला बोलते हुए अली सोहराब नाम के ट्विटर यूजर लिखते हैं कि इनको सबसे ज़्यादा तकलीफ़ शरीयत से है। 

narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi
काबुल में लगी महिलाओं की तसवीरों को ढके जाने को लेकर जब पत्रकार श्याम मीरा सिंह ने टिप्पणी की कि इन्हें महिलाओं की आज़ादी तसवीरों में भी बर्दाश्त नहीं है तो सलमान खान नाम के ट्विटर यूजर ने लिखा कि इसी तरह की तसवीरें आप आपके चाहने वालों की लगवा लीजिए और उन्हें आज़ादी भी दिलवा दीजिए।

narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi
सत्य वचन नाम के ट्विटर हैंडल ने लिखा है, “अफ़ग़ानिस्तान की घटना से क्या सीखा? सारा व्यापार, घर और बैंक बैलेंस यहीं रह जाता है।”
narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi
दीपक जेठवा नाम के शख़्स गले में भगवा गमछा और हाथों में तलवार लिए कुछ लोगों की फ़ोटो पोस्ट कर कहते हैं कि इन लोगों और तालिबान में कोई फर्क है क्या। 
narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi

पीस पार्टी के प्रवक्ता शादाब चौहान का एक ट्वीट भी वायरल हो रहा है जिसमें वे तालिबान को शुभकामनाएं दे रहे हैं कि तालिबान ने सत्ता को शांति पूर्ण तरीके से हासिल किया। 

narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi
इस ट्वीट पर कि तालिबान के स्थानीय नेताओं ने काबुल के गुरुद्वारे में हिंदू और सिख समुदाय के लोगों के साथ बैठक की है। पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी के सलाहकार रहे सुधींद्र कुलकर्णी ने कहा है कि नया अफ़ग़ानिस्तान उभर रहा है और हमें इसका स्वागत करना चाहिए। इसे पत्रकार गज़ाला वहाब ने री-ट्वीट किया है। 
narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi
मशहूर लेखक जावेद अख़्तर अमेरिका को लताड़ते हुए कहते हैं कि वह किस तरह का सुपर पावर वाला देश है जो तालिबान जैसे दुर्दांत लोगों को नहीं खदेड़ सका और यह कैसी दुनिया है जिसने अफगान महिलाओं को इन उन्मादियों के हाथ में छोड़ दिया है। 
narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi

बीजेपी के समर्थक अंकित जैन ने ट्वीट कर कहा है कि भारत के मुसलमान तालिबान की जीत का जश्न मना रहे हैं। इससे उनकी सोच का पता चलता है। 

narrative on social media in  Taliban Afghanistan war - Satya Hindi
इसके अलावा ट्विटर पर नफ़रती संदेशों की भी बाढ़ आई हुई है। इन संदेशों की आड़ में मुसलमानों को लेकर तमाम तरह की बातें कही जा रही हैं। कुछ लोगों को कहना है कि तालिबान की मुखालफ़त के मामले में वामपंथियों ने चुप्पी साध ली है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें