loader

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

BJP
0
AAP
0
CONG
0
OTH
0

ट्विटर : डिजिटल नियमों के पालन की पूरी कोशिश, एक हफ़्ते में देंगे रिपोर्ट

केंद्र सरकार के दबाव में आने से शुरू में इनकार करने वाली सोशल मीडिया प्लैटफ़ॉर्म ट्विटर के रुख में अहम बदलाव आया है। 

ट्विटर इंडिया ने बुधवार को केंद्र सरकार को लिखी चिट्ठी में कहा है कि वह नए डिजिटल नियम-क़ानूनों को लागू करने की हर कोशिश कर रहा है, उसने भारत में कुछ अफसरों को नियुक्त किया है और एक हफ़्ते में सरकार को विस्तृत रिपोर्ट देगा। 

ट्वविटर इंडिया ने कहा है कि उसने 'नोडल ऑफ़िसर, रेजिडेंट ग्रीवांस ऑफ़िसर और चीफ कंप्लायंस ऑफ़िसर नियुक्त कर दिया है।' 

ख़ास ख़बरें

क्या कहा ट्विटर ने?

ट्विटर इंडिया के एक प्रवक्ता ने 'एनडीटीवी' से कहा, 'हम इन नियमनों का अर्थ समझते हैं और इन दिशा-निर्देशों के पालन की कोशिश कर रहे हैं, हमने कुछ नियुक्तियाँ भी की हैं। दिशा-निर्देश 25 फरवरी को जारी किए गए और उस समय कोरोना महामारी चरम पर था, इसलिए हम व्यवाहारिक तौर पर इसे लागू नहीं कर सके।' 

बता दें कि इसके पहले केंद्र सरकार ने ट्विटर इंडिया से कहा था कि उसे भारत में व्यवसाय करना है तो दिशा-निर्देशों और डिजिटल क़ानूनों का पालन हर हाल में करना होगा। उसे एक अंतिम मौका भी दिया गया था। 
twitter india : will follow digital rules, digital guidelines - Satya Hindi

केंद्र से टकराव

ट्वविटर के पहले फेसबुक, गूगल समेत और दूसरी कंपनियों ने डिजिटल नियमों के मुताबिक़, शिकायत अधिकारी नियुक्त करने जैसे कई कदम उठाए थे। लेकिन ट्विटर टालमटोल कर रहा था और इस मुद्दे पर सरकार के साथ उसका टकराव कम नहीं हो रहा था।

सरकार ने ट्विटर इंडिया को एक नोटिस जारी किया था। उसमें कहा गया था, 'ट्विटर को यह अंतिम नोटिस दिया जा रहा है कि वह नए डिजिटल नियमों का तुरंत पालन करे। अगर वह ऐसा नहीं करता है तो उसे आईटी एक्ट, 2000 में धारा 79 के तहत मिलने वाली छूट वापस ले ली जाएगी और आईटी क़ानून और भारत सरकार के दंड नियमों के नियमों के मुताबिक़ ट्विटर ही नतीजों के लिए उत्तरदायी होगा।'  

केंद्र-ट्विटर विवाद पर क्या कहना है वरिष्ठ पत्रकार मुकेश कुमार का, देखें यह वीडियो। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

सोशल मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें