loader

डीएमके ने खेला ‘हिंदू कार्ड’, स्थानीय लोगों को 75% नौकरी का भी वादा

तमिलनाडु की सत्ता में बैठी एआईएडीएमके का मुक़ाबला कर रही डीएमके ने अपने चुनाव घोषणा पत्र में लोक लुभावन वादों की बौछार कर दी है। इसमें सबसे बड़ा वादा स्थानीय लोगों को राज्य के उद्योगों में 75 फ़ीसदी रोज़गार देने के लिए क़ानून बनाने का है। हाल ही में हरियाणा की खट्टर सरकार ने ऐसा क़ानून बना दिया है। तमिलनाडु की 234 सीटों पर एक चरण में 6 अप्रैल को मतदान होगा और 2 मई को नतीजे आएंगे। 

बंगाल में जिस तरह हिंदुओं को लुभाने की राजनीति चल रही है, उसका असर डीमएके के घोषणा पत्र में भी दिखा है। डीएमके ने वादा किया है कि सत्ता में आने पर उसकी सरकार राज्य के बड़े हिंदू मंदिरों में जाने वाले 1 लाख श्रद्धालुओं में से प्रत्येक को 25 हज़ार रुपये की वित्तीय सहायता देगी। इसके अलावा हिंदू मंदिरों की मरम्मत और उनके सुधार के लिए 1000 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे।

ताज़ा ख़बरें

दूसरे समुदायों की भावनाओं का ध्यान रखते हुए चर्च और मसजिदों के लिए भी 200 करोड़ रुपये दिए जाने का वादा किया गया है। इसके अलावा मातृत्व अवकाश की अवधि को बढ़ाने, पेट्रोल-डीजल की क़ीमतों को कम करने का भी वादा किया गया है। 

शनिवार को पार्टी का घोषणा पत्र जारी करते वक़्त डीएमके प्रमुख स्टालिन ने कहा कि अगर उनकी पार्टी सत्ता में आती है तो सरकारी स्कूलों और कॉलेजों में छात्रों को टैबलेट दिए जाएंगे और इनमें डाटा भी फ्री होगा। उन्होंने कहा कि पेट्रोल और डीजल की क़ीमत में क्रमश: 5 और 4 रुपये की कमी की जाएगी। 

स्टालिन ने बड़ा एलान यह किया कि उनकी पार्टी सत्ता में आने पर एलपीजी सिलेंडर में 100 रुपये की सब्सिडी देगी। पेट्रोल-डीजल की बढ़ी क़ीमतें और महंगे एलपीजी सिलेंडर को लेकर मोदी सरकार निशाने पर है। इसके अलावा उन्होंने छोटे किसानों को सब्सिडी देने का भी वादा किया। 

स्टालिन ने कहा कि राज्य की पूर्व मुख्यमंत्री जे. जयललिता की मौत की जांच के लिए बनी कमेटी की रिपोर्ट को सामने लाने के लिए क़दम उठाए जाएंगे। 

तमिलनाडु से और ख़बरें

डीएमके ने वीसीके, सीपीआई और एमडीएमके को 6-6 सीटें दी हैं। कांग्रेस 34 सीटें मांग रही थीं लेकिन उसे 25 सीटें दी गई हैं। जबकि 2016 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 41 सीटें दी गई थीं। डीएमके 174 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। 

DMK poll manifesto released For Tamil Nadu election 2021 - Satya Hindi

पलानिस्वामी-स्टालिन आमने-सामने

तमिलनाडु में इस बार का विधानसभा चुनाव पिछले चुनावों से पूरी तरह अलग है। वह इसलिए क्योंकि राज्य की या दक्षिण की राजनीति के दो बड़े दिग्गज इस बार चुनाव में नहीं हैं। पूर्व मुख्यमंत्रियों जयललिता और करूणानिधि का देहांत हो चुका है और इनकी जगह इस बार क्रमश: मुख्यमंत्री ई. पलानिस्वामी (ईपीएस) और स्टालिन आमने-सामने हैं। पलानिस्वामी एआईएडीएमके तो स्टालिन डीएमके की चुनावी कमान संभाल रहे हैं। 
हाल ही में आए 'टाइम्स नाउ- सी वोटर' के सर्वे के मुताबिक़, डीएमके की अगुवाई वाले यूपीए को चुनाव में 158 जबकि एनडीए को सिर्फ़ 65 सीटें मिलने का अनुमान है। इसके अलावा राज्य के लोगों ने स्टालिन को मुख्यमंत्री के रूप में पहली पसंद बताया था।
2016 के विधानसभा चुनाव में एआईएडीएमके और डीएमके के बीच कड़ी टक्कर रही थी। तब एआईएडीएमके को 135 और डीएमके को 88 सीटें मिली थीं। लेकिन तब जयललिता और करूणानिधि जीवित थे, इस बार इन दिग्गजों के बिना हो रहे पहले विधानसभा चुनाव में राज्य के मतदाता किसे वोट देते हैं, ये देखना दिलचस्प रहेगा। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें