loader

तमिलनाडु: एम के स्टालिन ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

डीएमके अध्यक्ष एम के स्टालिन ने शुक्रवार सुबह मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उनके साथ कैबिनेट के 33 मंत्रियों ने भी शपथ ली है। क़रीब एक दर्जन मंत्री ऐसे हैं जो पहली बार इस तरह की ज़िम्मेदारी संभाल रहे हैं। शपथ ग्रहण से पहले राजभवन की एक विज्ञप्ति में कहा गया था कि मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार एमके स्टालिन की मंत्रियों की सूची को राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित ने मंजूरी दे दी।

हाल ही में संपन्न हुए तमिलनाडु विधानसभा चुनाव में डीएमके और यूपीए के गठबंधन ने शानदार प्रदर्शन किया है। इसने 232 सीटों वाली विधानसभा में 159 सीटें जीतकर क़रीब दो-तिहाई बहुमत प्राप्त किया है। एआईएडीएमके और बीजेपी के गठबंधन ने 75 सीटें ही जीतीं। इस चुनाव में शानदार प्रदर्शन के साथ ही साफ़ हो गया था कि एम के स्टालिन मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठेंगे। 

ताज़ा ख़बरें

पहली बार मुख्यमंत्री के रूप में पद ग्रहण करने वाले एम के स्टालिन गृह और अन्य विभागों के अलावा सार्वजनिक और सामान्य प्रशासन, अखिल भारतीय सेवाएँ, ज़िला राजस्व अधिकारी, विशेष कार्यक्रम कार्यान्वयन और विभिन्न-विकलांग व्यक्तियों के कल्याण की ज़िम्मेदारी संभालेंगे।

पार्टी के दिग्गज और महासचिव दुरीमुरुगन सिंचाई परियोजनाओं के प्रभारी और खानों व खनिजों सहित अन्य जल संसाधन मंत्री होंगे। उन्होंने पिछले डीएमके शासनकाल (2006-11) के दौरान सार्वजनिक निर्माण जैसे विभागों का संचालन किया था। 

चेन्नई के पूर्व मेयर एमए सुब्रमण्यन और पी के सेकरबाबू उन लोगों में शामिल हैं जो पहली बार मंत्री बने। सुब्रमण्यन को स्वास्थ्य और परिवार कल्याण विभाग की ज़िम्मेदारी दी गई है। 

कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय का नेतृत्व कुड्डालोर ज़िले के कुरिन्जिपडी के पांच बार विधायक रहे एमआरके पन्नीरसेल्वम करेंगे। पर्यावरण मंत्रालय की अध्यक्षता शिव वी मयनाथन करेंगे। एमके स्टालिन ने के एन नेहरू को नगर प्रशासन, शहरी और जल आपूर्ति विभाग की ज़िम्मेदारी दी है। आर गांधी को हैंडलूम और टेक्स्टाइल, खादी और ग्रामोद्योग बोर्ड, भूदान और ग्रामधान विभाग की ज़िम्मेदारी सौंपी गई है।

तमिलनाडु से और ख़बरें

बता दें कि एमके स्टालिन 2009-11 के बीच तमिलनाडु के पहले उपमुख्यमंत्री बने थे। उनके पिता एम करुणानिधि के निधन के बाद बाद 28 अगस्त 2018 को स्टालिन को आम सहमति से डीएमके अध्यक्ष चुन लिया गया। इससे पहले मंगलवार को स्टालिन को आम सहमति से पार्टी के विधायक दल का नेता चुना गया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

तमिलनाडु से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें