loader

हैदराबाद चुनाव: जोर लगा रही बीजेपी, अलग लड़ रहे केसीआर-ओवैसी

उत्तर भारत में बिहार चुनाव के शोर के बाद अब बारी दक्षिण की है। दक्षिण में इन दिनों हैदराबाद नगर निगम के चुनावों को लेकर माहौल गर्म है। माहौल गर्म होने के पीछे पहला कारण बीजेपी का निगम चुनाव में पूरी ताक़त के साथ उतरना है और दूसरा तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) और असदउद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम का अलग-अलग लड़ना। 

टीआरएस और एआईएमआईएम के अलग-अलग लड़ने के पीछे वजह बीजेपी का ओवैसी पर हमलावर होना बताया जा रहा है। बीजेपी ओवैसी को जिन्ना बताने पर तुली हुई है। 

टीआरएस के मुखिया और राज्य के मुख्यमंत्री के. चंद्रशेखर राव (केसीआर) को डर है कि ओवैसी के साथ गठबंधन जारी रखने से हिंदू मतदाता नाराज़ होकर बीजेपी के पाले में जा सकते हैं। ऐसे में केसीआर का यह क़दम आने वाले वक़्त में तेलंगाना की राजनीति में त्रिकोणीय संघर्ष की स्थिति को पैदा करेगा क्योंकि बीजेपी भी राज्य में जनाधार बढ़ा रही है। 

ताज़ा ख़बरें

चुनाव के लिए मतदान 1 दिसंबर को होगा। इस  चुनाव में टीआरएस, बीजेपी, कांग्रेस और एआईएमआईएम के बीच सीधा मुक़ाबला है। हैदराबाद नगर निगम में 150 वार्ड हैं और 40 फ़ीसदी मुसलिम आबादी है। 

2016 के निगम चुनाव में एआईएमआईएम को 44 सीटें मिली थीं जबकि टीआरएस को 99। इस चुनाव को राज्य में 2023 में होने वाले विधानसभा चुनाव का सेमी फ़ाइनल माना जा रहा है।  

ध्रुवीकरण में जुटी बीजेपी

बीजेपी तेलंगाना में ध्रुवीकरण की कोशिश कर रही है और इसीलिए उसके नेता चुनाव में रोहिंग्या मुसलमानों का मुद्दा उठा रहे हैं। बीजेपी नेता तेजस्वी सूर्या ने कहा है कि हर एक वोट जो ओवैसी को मिलेगा वो भारत के ख़िलाफ़ जाएगा। सूर्या का कहना है कि असदउद्दीन ओवैसी मुहम्मद अली जिन्ना की भाषा बोलते हैं। 

Fight in ghmc elections 2020  - Satya Hindi

दक्षिण में विस्तार में जुटी बीजेपी

तेलंगाना में बीजेपी का अच्छा प्रदर्शन उसे आंध्र प्रदेश में भी मजबूती देगा। वैसे भी अमित शाह, इन दिनों दक्षिण में पार्टी को मजबूत करने के काम में जुटे हुए हैं। हाल ही में वह तमिलनाडु का दौरा करके लौटे हैं और केरल और पुडुचेरी के चुनाव पर भी उनकी नज़र है। इन तीनों ही राज्यों में 6 महीने के भीतर चुनाव होने हैं। 

Fight in ghmc elections 2020  - Satya Hindi

दुब्बका उपचुनाव में बीजेपी जीती 

नगर निगम चुनाव के साथ ही राज्य में कुछ ही दिन पहले दुब्बका सीट पर हुए उपचुनाव के नतीजे की बात करनी होगी। दुब्बका सीट पर मिली जीत से पता चलता है कि तेलंगाना में बीजेपी की स्वीकार्यता बढ़ रही है क्योंकि दो साल पहले ही इस सीट पर टीआरएस को बड़ी जीत मिली थी। 

दिसंबर, 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में टीआरएस को जबरदस्त जीत मिली थी और इसके बाद 2019 के लोकसभा चुनाव में भी वह राज्य की 17 में से 11 सीटें जीती थी। लेकिन दुब्बका सीट पर हुए उपचुनाव में बीजेपी से मिली हार के बाद उसे इस बात का डर सता रहा है कि कहीं ओवैसी की पार्टी के साथ गठबंधन रखना उसके लिए ख़तरा न बन जाए। 

बीजेपी की कोशिश तेलंगाना में कांग्रेस को तीसरे स्थान पर धकेलकर टीआरएस से सीधा मुक़ाबला करने की है। इसलिए, इस बार उसने प्रकाश जावड़ेकर, स्मृति ईरानी से लेकर कई बड़े नेताओं को प्रचार में उतारा है।

भूपेंद्र यादव को दी जिम्मेदारी

तेलंगाना में बीजेपी के पास चार सांसद और दो विधायक हैं। नगर निगम चुनाव को लेकर वह कितनी गंभीर है, इसका अंदाजा इस बात से लगता है कि बिहार चुनाव में जीत के शिल्पी रहे पार्टी प्रभारी भूपेंद्र यादव को हैदराबाद चुनाव में भी जीत दिलाने की जिम्मेदारी दी गई है। पार्टी नेताओं का कहना है कि दुब्बका के नतीजे बताते हैं कि राज्य की जनता टीआरएस के विकल्प के रूप में उसे देख रही है। 

2018 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 7.1 फ़ीसदी वोट मिले थे जो लोकसभा चुनाव में बढ़कर 19.45 फ़ीसदी हो गए थे। बीजेपी को इस बार जन सेना पार्टी का भी साथ मिला है। इस पार्टी के अध्यक्ष और अभिनेता पवन कल्याण ने कहा है कि वह चुनाव लड़ने के बजाए बीजेपी का समर्थन करेंगे। 

करीमनगर से बीजेपी सांसद और तेलंगाना इकाई के अध्यक्ष बांडी संजय कुमार के नेतृत्व में पार्टी लगातार केसीआर सरकार पर हमलावर है।

तेलंगाना से और ख़बरें

केसीआर को सतर्क रहना होगा

केसीआर और उनके बेटे केटीआर ने बीजेपी की राजनीति को बांटने वाला बताया है और कहा है कि इस पार्टी के कारण देश में आर्थिक संकट खड़ा हो गया है। यह तेलंगाना में बीजेपी की बढ़ती ताक़त को दिखाता है कि 2018 के विधानसभा चुनाव में केसीआर कांग्रेस को अपना सियासी प्रतिद्वंद्वी बताते थे और बीजेपी को मुक़ाबले में नहीं मानते थे। जबकि नगर निगम के चुनाव में वे कांग्रेस को नज़रअंदाज कर बीजेपी पर हमले कर रहे हैं। 

एंटी बीजेपी फ्रंट बनाने की मुहिम में जुटने जा रहे केसीआर को तेलंगाना का अपना किला बचाए रखना होगा क्योंकि बीजेपी ने दक्षिण में विस्तार को अपना मक़सद बना लिया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

तेलंगाना से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें