loader

त्रिपुरा स्थानीय निकाय चुनाव में बीजेपी की ज़बरदस्त जीत, सीपीआईएम की क़रारी हार

भारतीय जनता पार्टी ने त्रिपुरा में हुए स्थानीय निकाय चुनाव में ज़बरदस्त जीत हासिल की है। दूसरी ओर, कभी सत्ता में रही भारतीय मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी को क़रारी हार का सामना करना पड़ा है। 

शहरी स्थानीय निकाय चुनावों में बीजेपी को 351 में से 329 सीटों पर जीत हासिल हुई। इनमें से 112 सीटों पर इसके उम्मीदवार निर्विरोध चुन लिए गए। 

इसके साथ ही भगवा पार्टी ने किसी समय वामपंथियों के गढ़ रहे इस राज्य के छह नगर पंचायतों व 13 म्युनिसपल कॉरपोरेशनों पर क़ब्ज़ा कर लिया। 

ख़ास ख़बरें
अगरतला म्युनिसपल कॉरपोरेशन की सभी 51 सीटें बीजेपी को मिल गईं। विपक्ष का सफाया हो गया। बीजेपी को खोवाई नगर परिषद, कुमारघाट नगर परिषद, सबरूम नगर पंचायत और अमरपुर नगर पंचायत में भी जीत मिली।
इसने कैलाशहर, तेलियामुरा, मेलाघर और बेलोनिया नगर परिषदों के अलावा धर्मपुर और अंबासा नगर पालिकाओं, पानीसागर, जिरानिया और सोनापुरा नगर पंचायतों पर भी क़ब्ज़ा कर लिया है।

सीपीआईएम हारी

सीपीआईएम का बुरा हाल है, इसे क़रारी शिकस्त का सामना करना पड़ा है। सीपीआईएम को ढालाई ज़िले के अंबासा नगर पंचायत में एक, उत्तरी ज़िले के पानीसागर नगर पंचायत में एक और ऊनाकोटी के कैलाशहर म्युनिसपल कॉरपोरेशन में एक सीट मिली है। 

बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि त्रिपुरा नगर निकाय चुनाव के परिणामों ने पूर्वोत्तर राज्य में पैठ जमाने के तृणमूल कांग्रेस के दावों के 'खोखलेपन' को उजागर कर दिया है। 

घोष ने त्रिपुरा में चुनाव प्रचार करने वाले तृणमूल कार्यकर्ताओं को 'भाड़े के लोग' बताया और कहा कि बीजेपी और राज्य के लोगों के बीच 'मजबूत संबंध' हैं।

Tripura BJP sweeps tripura civic body polls - Satya Hindi

धाँधली का आरोप

लेकिन टीएमसी ने इसे खारिज करते हुए सत्तारूढ़ दल पर धांधली करने का आरोप लगाया है। उसने कहा है कि चुनावों को अवैध घोषित किया जाना चाहिए।

सीपीआईएम ने भी एएमसी के पाँच वार्डों में चुनाव रद्द करने की माँग की है।

इसके पहले विपक्षी दलों ने मतदान के दिन आरोप लगाया था कि बीजेपी कार्यकर्ता मोटरसाइकिल पर घूम रहे हैं और उनके उम्मीदवारों को धमका रहे हैं।

सीपीआईएम और तृणमूल कांग्रेस ने कहा था कि मतदाताओं को मतदान केंद्रों में प्रवेश नहीं करने दिया गया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

त्रिपुरा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें