loader

उत्तर प्रदेश में गायों के लिए शुरू होगी एंबुलेंस सेवा 

उत्तर प्रदेश देश का पहला ऐसा राज्य बनने जा रहा है, जहां गायों के लिए एंबुलेंस सेवा शुरू होगी। यह सेवा उन गायों के लिए होगी जो बीमार हैं। राज्य के डेयरी विकास मंत्री लक्ष्मी नारायण चौधरी ने रविवार को यह बात कही। चौधरी ने कहा कि इस काम के लिए 515 एंबुलेंस बनकर तैयार हो चुकी हैं। 

मंत्री ने मथुरा में पत्रकारों को बताया कि बीमार गायों के बारे में जानकारी देने के लिए आपातकालीन नंबर 112 जारी किया गया है। 

मंत्री ने कहा, “एंबुलेंस में एक पशु चिकित्सक और दो सहयोगी भी रहेंगे और किसी बीमार गाय के बारे में सूचना मिलने के 15 से 20 मिनट के अंदर एंबुलेंस मौक़े पर पहुंच जाएगी।” 

ताज़ा ख़बरें

उन्होंने बताया कि इस योजना को दिसंबर में शुरू कर दिया जाएगा और इसके लिए लखनऊ में एक कॉल सेंटर भी बनाया जा रहा है। चौधरी ने कहा कि उत्तर प्रदेश के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब सरकार की ओर से गोशालाओं के लिए पैसा दिया गया और यह योगी सरकार ने किया। 

2019 में उत्तर प्रदेश सरकार ने आवारा गायों की देखभाल के लिए आश्रय स्थल बनाने, उनके चारे-पानी के लिए शराब की बिक्री पर 0.5 फ़ीसदी अतिरिक्त 'सेस' लगाया था। इसके अलावा गायों के लिए आश्रयस्थल बनाने और उनकी देखभाल के लिए नगर निगमों को पैसे दिए गए थे। प्रदेश सरकार ने गांवों, स्थानीय निकायों में गौशालाएं बनाने के लिए भी फंड जारी किया था। 

बीजेपी नेताओं के बयान 

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हाल ही में कहा है कि गाय, गाय के गोबर और गोमूत्र के बल पर कोई व्यक्ति अपनी आर्थिक हालत सुधार सकता है और देश की अर्थव्यवस्था को भी ठीक किया जा  सकता है। इससे पहले बीजेपी की ही सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने कहा था कि वह गोमूत्र अर्क लेती हैं, इसलिए उन्हें कोरोना नहीं हुआ। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

याद दिला दें कि मोदी सरकार ने 2019 के अंतरिम बजट में गायों के लिए अलग से बजट की व्यवस्था की थी। अंतरिम बजट पेश करते  हुए तत्कालीन कार्यकारी वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने कई बड़े वादे किए थे।

उन्होंने गायों के लिए अलग आयोग बनाने और कामधेनु योजना की घोषणा की थी। बजट भाषण में गोयल ने कहा था, 'गौमाता के सम्मान में और गौमाता के लिए यह सरकार कभी पीछे नहीं हटेगी। जो ज़रूरत होगी, वह काम करेगी।'  

कांग्रेस ने भी मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में प्रत्‍येक ग्राम पंचायत में गोशाला खोलने का वादा किया था। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने 2019 में गायों के लिए ‘पीजी हॉस्टल’ बनाने का एलान किया था।

गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी 

बीते कुछ सालों में गोरक्षा के नाम पर गुंडागर्दी भी बहुत हुई है। कई जगहों पर गोरक्षकों ने मुसलमानों को गोमांस ले जाने या घर में रखे होने के शक में उन्हें पीटा है और उनके घरों पर भी हमला किया है। अखलाक से लेकर पहलू खान सहित कई ऐसे चर्चित मामले हैं, जब गोरक्षा के नाम पर लोगों की हत्या तक कर दी गई। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें