loader

शाह-अखिलेश की रैलियों से गर्माया यूपी का चुनावी माहौल

चुनाव के मुहाने पर खड़े उत्तर प्रदेश में इन दिनों ताबड़तोड़ रैलियां हो रही हैं। बीजेपी और एपसी के साथ ही कांग्रेस, बीएसपी, राष्ट्रीय लोकदल सहित तमाम राजनीतिक दलों ने अपनी सियासी फ़ौज़ को मैदान में उतार दिया है। शनिवार के दिन में बीजेपी की ओर से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रैलियां की तो एसपी की ओर से अखिलेश यादव ने मोर्चा संभाला। 

शाह ने अखिलेश यादव के गढ़ आज़ममढ़ में चुनावी रैली की और अखिलेश यादव के जिन्ना वाले बयान को लेकर उन्हें निशाने पर लिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस बात का संकेत दिया कि आज़मगढ़ का नाम बदलकर आर्यमगढ़ किया जा सकता है। 

ताज़ा ख़बरें

योगी को फिर सीएम बनाएंगे शाह?

शाह की चुनावी रैलियों को देखकर यह साफ लगता है कि वह योगी आदित्यनाथ के पीछे पूरी ताक़त के साथ खड़े हैं। हाल ही में उन्होंने पार्टी कार्यकर्ताओं से कहा था कि अगर आप 2024 में नरेंद्र मोदी को फिर से प्रधानमंत्री देखना चाहते हैं तो 2022 में योगी आदित्यनाथ को उत्तर प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाएं। लेकिन इसके बाद प्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने शाह के उलट बयान दिया था। मौर्य ने साफ कहा था कि बीजेपी कमल के फूल के नेतृत्व में चुनाव लड़ेगी। 

आज़मगढ़ की रैली में भी शाह ने लोगों से कहा कि वे यहां की सारी सीटें बीजेपी को जिताएं जिससे योगी आदित्यनाथ दुबारा मुख्यमंत्री बन सकें। 

BJP SP fight in UP polls 2022 - Satya Hindi

दूसरी ओर, अखिलेश यादव प्रदेश भर में "समाजवादी विजय यात्रा" निकाल रहे हैं। शनिवार को वह गोरखपुर और कुशीनगर पहुंचे। यहां उनकी रैलियों में जन सैलाब उमड़ा। इस दौरान अखिलेश ने कहा कि 2022 में बदलाव होना तय है। उन्होंने कहा कि महंगाई और बेरोज़गारी से जनता बुरी तरह त्रस्त है। 

BJP SP fight in UP polls 2022 - Satya Hindi
साफ है कि उत्तर प्रदेश में चुनावी मैदान सज चुका है। अखिलेश यादव और शिवपाल सिंह यादव यात्राएं निकाल रहे हैं जबकि बीएसपी ब्राह्मण सम्मेलनों और कांग्रेस प्रतिज्ञा यात्राओं के जरिये जनता के बीच पहुंच रही है। इसके अलावा एआईएमआईएम प्रमुख असदउद्दीन ओवैसी भी लगातार चुनावी रैलियां कर रहे हैं। 
उत्तर प्रदेश का चुनाव कितना अहम है, यह बताने की ज़रूरत नहीं है। इस चुनाव के नतीजे 2024 के आम चुनाव पर सीधा असर डालेंगे। इसलिए बीजेपी ने सत्ता में वापसी के लिए और बाक़ी दलों ने बीजेपी को रोकने के लिए पूरा जोर लगा दिया है।

जोरदार मुक़ाबले की उम्मीद

इस बीच, ABP-C Voter का ताज़ा सर्वे इस बात को दिखाता है कि उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव की एसपी बीजेपी को कड़ी चुनौती दे रही है। सर्वे के मुताबिक़, उत्तर प्रदेश में बीजेपी फिर से सरकार बनाती दिख रही है लेकिन वह 2017 के चुनाव जैसा करिश्मा नहीं दोहरा पाएगी। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

403 सीटों वाली उत्तर प्रदेश की विधानसभा में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों को 213-221 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया है जबकि 2017 में यह आंकड़ा 325 था। एसपी गठबंधन को 152 से 160 जबकि बीएसपी को 16 से 20, कांग्रेस को 6 से 10 और अन्य को 2 से 6 मिलने की बात कही गई है। 

उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने के लिए ज़रूरी विधायकों का आंकड़ा 202 है, ऐसे में बीजेपी के पास बहुत ज़्यादा लीड नहीं है और एसपी इस आंकड़े से बहुत ज़्यादा दूर नहीं है। ऐसे में सर्वे के मुताबिक़, चुनाव बेहद रोमांचक होने जा रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें