loader
फ़ोटो साभार: @Karanpartap01

काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के लिए बीजेपी का एक महीने का उत्सव क्यों?

अगले कुछ महीनों में होने वाले चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश में चुनावी रैलियों और सभाओं के बीच बीजेपी ने अब काशी विश्वनाथ कॉरिडोर को लेकर विशेष रणनीति बनाई है। पार्टी नवनिर्मित काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के उद्घाटन का जश्न एक महीने तक मनाने जा रही है। इसमें प्रधानमंत्री से लेकर पार्टी अध्यक्ष, मंत्री और मुख्यमंत्री तक शामिल होंगे। कार्यक्रम कितने बड़े स्तर पर है इसका अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि इसके लिए 51 हज़ार एलईडी स्क्रीन लगाई जाएंगी।

बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने इसके लिए पार्टी महासचिव तरुण चुग की अध्यक्षता में एक समन्वय समिति का गठन भी कर दिया है। यह समिति 13 दिसंबर से 14 जनवरी तक कई कार्यक्रमों की योजना बनाएगी और आयोजन करेगी।

ताज़ा ख़बरें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 13 दिसंबर को नव विकसित कॉरिडोर को राष्ट्र को समर्पित करेंगे। इस कार्यक्रम के लिए बीजेपी देश भर में 51,000 स्थानों पर एलईडी स्क्रीन लगाएगी जहाँ 'दिव्य काशी-भव्य काशी' कार्यक्रम का सीधा प्रसारण किया जाएगा। इसके अलावा सभी प्रमुख मंदिरों, आश्रमों और धार्मिक संगठनों में बड़े एलईडी स्क्रीन लगाई जाएंगी। 

इस एलईडी स्क्रीन लगाने का मक़सद क्या हो सकता है, यह इससे ही समझा जा सकता है कि काशी विश्वनाथ धाम से लोग सीधा प्रसारण देख सकें, इसके लिए चुनाव वाले उत्तर प्रदेश के सभी गांवों में इसकी व्यवस्था की जा रही है।

हालाँकि, 13 दिसंबर से उस योजना को चलाने की तैयारी है,  लेकिन कार्यक्रम 9 दिसंबर को ही शुरू हो जाएँगे। इकॉनमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, इसी दिन से बीजेपी कार्यकर्ता देश भर के सभी जिलों में 'दिव्य काशी-भव्य काशी' पर 'प्रभात फेयरी' निकालेंगे। 

10 दिसंबर से तीन दिनों तक देश भर के सभी मंदिरों, आश्रमों और धार्मिक स्थलों पर स्वच्छता अभियान चलाया जाएगा। इसमें बीजेपी के कार्यकर्ता से लेकर विधायक, सांसद, मंत्री और मुख्यमंत्री भी शरीक होंगे।

बीजेपी हर शहर, कस्बे और गांव में 'दीपोत्सव' भी आयोजित करेगी। पार्टी 14 दिसंबर को सभी सीएम और डिप्टी सीएम का एक सम्मेलन आयोजित करेगी जिसमें प्रधानमंत्री मोदी, पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा और संगठन महासचिव बीएल संतोष हिस्सा लेंगे।

सीएम और डिप्टी सीएम भी 13 दिसंबर से काशी में तीन दिवसीय धार्मिक और सांस्कृतिक 'प्रवास' पर होंगे। 17 दिसंबर को केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय और यूपी के शहरी विकास विभाग काशी में महापौरों का एक सम्मेलन आयोजित करेंगे। इसके अलावा भी कई कार्यक्रम होंगे। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें
उत्तर प्रदेश में यह सब घटनाक्रम तब चल रहा है जब अगले कुछ ही महीनों में राज्य में चुनाव होने वाले हैं। चुनावी रैलियों में ध्रुवीकरण की पूरी कोशिश की जा रही है। चुनावी विश्लेषक मानते हैं कि यह सब इसलिए हो रहा है क्योंकि कई ओपिनियन पोल में नतीजे कुछ राजनीति दलों के अनुकूल नहीं लग रहे हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें