loader

कानपुर : बलात्कार का केस दर्ज कराया, पीड़िता के पिता की सड़क हादसे में मौत

उत्तर प्रदेश के कानपुर ज़िले में 13 साल की जिस बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार का मामला पुलिस में दर्ज कराया गया था, उसके पिता की सड़क हादसे में बुधवार को मौत हो गई। परिजनों ने इसे हत्या क़रार दिया है और पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लगाया है। 

इस सामूहिक बलात्कार कांड के अभियुक्त दीपू यादव और सौरभ यादव के पिता कन्नौज में पुलिस सब इंस्पेक्टर हैं। पीड़िता के परिजनों ने कहा है कि मामला दर्ज कराए जाने के बाद अभियुक्त के परिवार वालों ने उन्हें डराया-धमकाया था। 

'पुलिस वालों ने धमकाया'

पीड़िता के परिवार के एक सदस्य ने कहा, "ज्यों ही हमने मामला दर्ज करवाया, मुख्य अभियुक्त के बड़े भाई ने हमें धमकाया और चेतावनी देते हुए कहा था, हमारे पिता पुलिस में सब इंस्पेक्टर हैं।"

पीड़िता के दादा ने पत्रकारों से कहा, "मेरे बेटे की हत्या की गई है....पुलिस की इन लोगों से सांठ-गांठ है।" इसके एक दिन पहले यानी मंगलवार को पीड़िता के परिवार के अन्य सदस्य ने भी पत्रकारों को बताया था कि उन्हें धमकियाँ मिल रही हैं। 

'जाँच जारी है'

कानपुर के ज़िला मजिस्ट्रेट डॉक्टर आलोक तिवारी ने एक वीडियो संदेश में कहा है कि दोनों मामलों की विवेचना की जाँच की जा रही है। उन्होंने कहा, "पूरा प्रशासन पीड़िता के परिवार के साथ है। मुख्यमंत्री विवेकाधीन कोष से पीड़िता के परिवार को पाँच लाख का मुआवजा देने की घोषणा की गई है। दोनों ही मामलों की जाँच की जा रही है। अभियुक्तों के ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।"

कानपुर पुलिस के प्रमुख डॉक्टर प्रीतिंदर सिंह ने कहा, "जब मेडिकल चेकअप चल रहा था, लड़की के पिता चाय पीने के लिए बाहर आए। हमें पता चला है कि उनकी मौत ट्रक एक्सीडेंट में हुई है। उन्हें तुरंत कानपुर अस्पताल ले जाया गया था, लेकिन उनकी मौत हो गई। हमने एक्सीडेंट केस फाइल किया और जाँच कर रहे हैं।" 

कानपुर पुलिस ने मंगलवार को पीड़िता के पिता की शिकायत पर सामूहिक बलात्कार और आपराधिक दबाव बनाने के आरोपों के तहत मामले दर्ज किए थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें