loader

एक हफ़्ते में गठबंधन पर फ़ैसला करें अखिलेश, हमें 100 सीटें चाहिए: शिवपाल

उत्तर प्रदेश की सियासत में चल रहे घमासान में नज़रें इस बात पर भी हैं कि अखिलेश यादव अपने चाचा शिवपाल सिंह यादव को साथ लेंगे या नहीं। हालांकि अखिलेश कहते रहे हैं कि चाचा और उनके समर्थकों को पूरा सम्मान दिया जाएगा लेकिन चुनाव में जब सिर्फ़ साढ़े तीन महीने का ही वक़्त बचा है, फिर भी दोनों नेताओं के बीच गठबंधन के लिए ठोस बातचीत होती नहीं दिख रही है। शायद इसीलिए शिवपाल ने सोमवार को अखिलेश को अल्टीमेटम दे दिया। 

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (लोहिया) के अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने इटावा में कहा कि सभी लोग चाहते हैं कि एक होकर चुनाव लड़ा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस बारे में फ़ैसला जल्दी हो जाना चाहिए और अगर ऐसा नहीं होता है तो वे एक हफ़्ते के अंदर लखनऊ में पार्टी का बड़ा सम्मेलन बुलाएंगे। 

ताज़ा ख़बरें
शिवपाल ने अपनी पार्टी के लिए 100 सीटें मांगी और कहा कि समाजवादी पार्टी 303 सीटों पर चुनाव लड़े। लेकिन ऐसा कहीं से नहीं लगता कि अखिलेश अपने चाचा को इतनी सीटें देंगे। अखिलेश कह चुके हैं कि वे जसवंत नगर की सीट चाचा के लिए छोड़ सकते हैं। 

शिवपाल और अखिलेश यादव के रिश्ते 2018 में बहुत ज़्यादा ख़राब हो गए थे और इसके बाद शिवपाल समाजवादी पार्टी से अलग हो गए थे। शिवपाल समाजवादी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष रहने के साथ ही उत्तर प्रदेश में कैबिनेट मंत्री भी रहे हैं। 

साथ नहीं दिखे चाचा-भतीजा

सोमवार को पूर्व मुख्यमंत्री मुलायम सिंह यादव के जन्मदिन पर भी चाचा और भतीजा साथ नहीं दिखाई दिए। पहले अखिलेश और दूसरे चाचा रामगोपाल यादव पहुंचे तो शाम को शिवपाल सिंह यादव मुलायम के पास पहुंचे। 

Shivpal Yadav on alliance With samajwadi party - Satya Hindi

बीते दिनों में अखिलेश यादव ने महान दल, सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के साथ गठबंधन फ़ाइनल किया है और राष्ट्रीय लोकदल के साथ भी सीटों के बंटवारे को लेकर उनकी बातचीत अंतिम चरण में है। 

सत्ता में लौटने के लिए बेकरार दिख रहे अखिलेश यादव को बाक़ी छोटे दलों की तरह ही शिवपाल सिंह यादव की पार्टी को भी साथ लेना होगा। क्योंकि इससे वोटों का बिखराव ज़रूर रुकेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें