loader

टाइम्स नाउ सर्वे: यूपी में बीजेपी की सीटें कम होंगी, पर सत्ता मिलने के आसार

अगले कुछ महीनों में जिस उत्तर प्रदेश में विधानसभा के चुनाव होने वाले हैं वहाँ एक और सर्वे में बीजेपी की सीटें कम होने के आसार है, लेकिन उसके सत्ता में बरकरार रहने की संभावना जताई गई है। ताज़ा सर्वे टाइम्स नाउ-पोलस्ट्रट का है। इसने अनुमान लगाया है कि हालाँकि बीजेपी बहुमत पा सकती है, लेकिन पिछली बार से उसकी सीटें काफ़ी कम रहेंगी। 

इस सर्वे में ही समाजवादी पार्टी को दूसरे नंबर पर रहने का अनुमान लगाया गया है। इससे पहले एबीपी- सी-वोटर सर्वे में भी यूपी में बीजेपी को बहुमत मिलते दिखाया गया था और अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी को दूसरे नंबर पर रहने का अनुमान जताया गया। दोनों सर्वे में ख़ास बात यह है कि उसकी सीटें पिछली बार से कम होती हुई दिख रही हैं। यानी बीजेपी 2017 के चुनाव जैसा करिश्मा नहीं दोहरा पाएगी। 

ताज़ा ख़बरें

टाइम्स नाउ-पोलस्ट्रट के ताज़ा सर्वे में कहा गया है कि बीजेपी को 403 सीटों में से 239 से 245 सीटें मिलने का अनुमान है, समाजवादी पार्टी को 119-125 सीटें मिलने का अनुमान है। यदि सपा इतनी सीटें जीतती है तो यह 2017 की संख्या से दोगुनी से अधिक होगी। बीजेपी ने 2017 में 310 से ज़्यादा सीटें जीती थी। बसपा को इस बार 30 सीटें मिलने के आसार हैं और वह तीसरे स्थान पर रह सकती है। कांग्रेस को पांच से आठ सीटें मिलने का अनुमान लगाया गया है। कांग्रेस को 2017 में सात सीटें मिली थीं। 

यह सर्वे 9,000 लोगों की राय के आधार पर है। 6 नवंबर से 10 नवंबर के बीच सर्वे किया गया था। 

इस सर्वे में दावा किया गया है कि क़ानून और व्यवस्था पर योगी सरकार के सख़्त दृष्टिकोण के साथ-साथ, कुछ हद तक, 'जबरन' धर्मांतरण को लेकर सख़्ती के लिए भी समर्थन मिलने का संकेत मिलता है। 

सर्वे में कहा गया है कि नागरिकता संशोधन अधिनियम पर लोगों की राय समान रूप से अलग-अलग थी। उसमें कहा गया है कि आधे उत्तरदाताओं ने योगी सरकार के बचाव को सांप्रदायिकता को बढ़ावा देने के प्रयास के रूप में देखा।

इससे पहले आए एबीपी-सी-वोटर के सर्वे के मुताबिक़ 2022 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी और उसके सहयोगी दलों को 213 से 221 सीटें मिलने का अनुमान है। इस सर्वे में सपा और उसके गठबंधन सहयोगियों को इस बार 152 से 160 सीटें, बसपा को सिर्फ़ 16 से 20 और कांग्रेस को 6 से 10 सीटें मिलने की संभावना है। 

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

उत्तर प्रदेश में सरकार बनाने के लिए ज़रूरी विधायकों का आंकड़ा 202 है। एबीपी के सर्वे के मुताबिक़ बीजेपी के पास बहुत ज़्यादा लीड नहीं है और सपा इस आंकड़े से बहुत ज़्यादा दूर नहीं है। ऐसे में सर्वे के मुताबिक़, चुनाव बेहद रोमांचक होने जा रहा है। 

एबीपी- सी-वोटर का सर्वे कहता है कि बीजेपी गठबंधन को 41%, एसपी गठबंधन को 31%, बीएसपी को 15%, कांग्रेस को 9% और अन्य को 4% वोट मिल सकते हैं। जबकि सीएम की पसंद कौन के सवाल पर 41% लोग योगी आदित्यनाथ, 32% अखिलेश यादव, 16% मायावती, 5% प्रियंका गांधी और 2% लोग जयंत चौधरी के हक़ में हैं। 

ख़ास ख़बरें

कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा बीते दिनों उत्तर प्रदेश में काफ़ी सक्रिय रही हैं। क्या उनकी सक्रियता से कांग्रेस को फायदा होगा, इस सवाल के जवाब में 47% लोगों ने हां कहा है जबकि 53% लोगों ने ना कहा है।

बीजेपी के साथ संजय निषाद की निषाद पार्टी, अपना दल (एस) सहित कुछ और छोटे दल हैं जबकि एसपी के साथ सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी, महान दल, राष्ट्रीय लोकदल हैं और कुछ और दल साथ आ सकते हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें