loader

ग़ाज़ियाबाद मुठभेड़ की जाँच होगी, सभी 7 लोगों को पैर में एक ही जगह गोली लगी

ग़ाज़ियाबाद के लोनी में क़रीब एक हफ़्ते पहले हुई मुठभेड़ पर सवाल उठ रहे हैं और इसकी अब जाँच होगी। मुठभेड़ में 7 मुसलिम युवकों को गोली मारी गई थी। इनका इलाज किया गया। सभी के पैर के घुटने के कुछ इंच नीचे एक ही जगह पर पट्टी बंधी है। पुलिस ने कहा था कि 11 नवंबर को सुबह क़रीब सवा छह बजे बाहेटा हाजीपुर में कबाड़ गोदाम में छापा मारा था। उनपर गोहत्या का आरोप है। जिस एसएचओ के नेतृत्व में वह कार्रवाई की गई थी उन्होंने जनरल डायरी में नोट लिखा है कि एनकाउंटर के दौरान वहाँ से अन्य चीजों के अलावा हाथी के बच्चे के शव भी बरामद किए गए थे। गोदाम का मालिक लापता बताया जा रहा है।

मुठभेड़ के बाद 11 नवंबर को पुलिस द्वारा जारी एक प्रेस विज्ञप्ति में कहा गया है कि उन्होंने गोहत्या के संबंध में एक गुप्त सूचना पर कार्रवाई की। इसने कहा कि आरोपी ने सात राउंड फ़ायरिंग की और उन्होंने 13 बार गोलियाँ चलाईं, जिससे सभी आरोपियों के पैर में गोली लगी। उन्होंने आरोपियों के पास से तीन जानवरों के शव, सात देसी पिस्तौल, दो कुल्हाड़ी, पांच चाकू और प्लास्टिक के तार के दो बंडल बरामद करने का दावा किया है।

ताज़ा ख़बरें

इस मामले में आरोपी शोएब, मुस्तकीन, सलमान, मोनू, इंतेज़ार, नाज़िम और एक अन्य युवक है जिसके परिवार वाले दावा करते हैं कि वह अवयस्क है। परिवार वाले पुलिस के आरोपों को खारिज करते हैं। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार शोएब के पिता मोहम्मद इस्लाम गाड़ी से कपड़े बेचने का काम करते हैं। वह कहते हैं कि उन्होंने शोएब को फोन करके पूछा था कि क्या वह अगले दिन उनके साथ जाएगा। उन्होंने कहा, 'उसने कहा कि उसे उस गोदाम में सफाई पूरी करनी है जहाँ वह काम करता है। अगले दिन मुझे पता चला कि शोएब और छह अन्य को गोली मारकर गिरफ्तार कर लिया गया है। ये झूठे आरोप हैं...उसे फंसाया जा रहा है।'

इंतेजार का परिवार लोनी इलाके के अशोक विहार में रहता है। रिपोर्ट के अनुसार उनके परिवार का कहना है कि वह एक स्थानीय रेस्तरां और कबाड़ गोदाम में सहायक के रूप में काम करता है। उसके पिता का क़रीब एक दशक पहले ही निधन हो गया था।

इंतेज़ार की मां शमीना कहती हैं, 'अक्सर, वे गोदाम में ही सो जाते थे। 10 तारीख़ की रात को उन्होंने मुझसे कहा कि वे अगली सुबह वापस आएंगे। फोन पर मैंने देखा कि मेरे लड़कों सहित कुछ युवकों को गोली मारी गई थी। यह एक सदमे के रूप में था... हम मुश्किल से अपना गुजारा करते हैं, हमें बंदूकें कहां से मिलेगीं? पूरा मोहल्ला हैरान है।'

इस घटना की जाँच का आदेश लोनी पुलिस थाने के एसएचओ राजेंद्र त्यागी के 12 नवंबर को तबादले के बाद दिया गया।

एसएचओ त्यागी ने ही 'ऑपरेशन' का नेतृत्व किया था। द इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार तबादले के बाद उन्होंने जनरल डायरी में एक लिखित नोट दिया जिसमें कहा गया था कि उन्हें 'मुठभेड़' के कारण निशाना बनाया जा रहा था।

उन्होंने नोट में लिखा है, '11 नवंबर को मेरी टीम और मैंने सात लोगों को गोहत्या के आरोप में तब गिरफ्तार किया था जब उनके पैर में गोली लगी। हमने गायों और छोटे हाथियों के शव बरामद किए। जब से मैंने ऑपरेशन संभाला है, मेरा मानना ​​है कि मुझे इसी कारण से स्थानांतरित किया गया है। इससे मेरा मनोबल गिरा है। मैं काम करने की स्थिति में नहीं हूं और मुझ पर कभी इस तरह का आरोप नहीं लगाया गया... मेरा चरित्र उत्तम स्तर का है। मेरा तबादला करने से पहले इस घटना की जांच होनी चाहिए थी।'

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

रिपोर्ट के अनुसार, ग़ाज़ियाबाद के एसएसपी पवन कुमार ने कहा है कि पुलिस अधिकारी के 'कदाचार' के बाद मुठभेड़ की जांच की जा रही है, मैंने अंचल अधिकारी से तथ्यों पर रिपोर्ट मांगी है। उन्होंने यह भी कहा कि 'इंस्पेक्टर को आधिकारिक गोपनीयता अधिनियम का उल्लंघन करने के लिए निलंबित कर दिया गया था। आधिकारिक दस्तावेज़ में जो दर्ज किया गया था वह अवैध था। दूसरे, यह गुप्त दस्तावेज लीक हो गया था। वह छुट्टी पर चले गए थे जिसकी मंजूरी नहीं दी गई थी।'

त्यागी का समर्थन करने वालों में लोनी भाजपा विधायक नंद किशोर गुर्जर भी हैं, जिन्होंने पुलिस पर गाय तस्करों से पैसे लेने और इसलिए इंस्पेक्टर को स्थानांतरित करने का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि वह इस मामले पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लिखेंगे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें