loader

क्या ममता बनर्जी के साथ जा सकते हैं बीजेपी सांसद वरुण गांधी? 

किसानों के मसलों को लेकर लगातार मोदी सरकार से सवाल पूछ रहे बीजेपी सांसद वरुण गांधी क्या पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के साथ जा सकते हैं। यह चर्चा दिल्ली के सियासी गलियारों में चल रही है। लखीमपुर खीरी की घटना के बाद से वरुण गांधी बीजेपी से ख़ासे नाराज़ हैं और ‘भीख में मिली आज़ादी’ वाला बयान देने के कारण वह सिने अदाकारा कंगना रनौत पर भी हमला बोल चुके हैं। 

ममता बनर्जी इन दिनों टीएमसी का सियासी विस्तार करने में जुटी हैं। बीते कुछ दिनों में उन्होंने कांग्रेस के कई बड़े नेताओं को तोड़ा है तो शायद अब वह वरुण गांधी को अपने पाले में करना चाहती हैं। 

कांग्रेस से टीएमसी में आने वाले बड़े नेताओं में सुष्मिता देव, राजेशपति और ललितेशपति त्रिपाठी और लुईजिन्हो फलेरो शामिल हैं। 

ताज़ा ख़बरें
ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी गोवा का चुनाव पूरे जोर-शोर से लड़ रही है। ममता इसके अलावा त्रिपुरा, असम और उत्तर प्रदेश में भी चुनाव लड़ना चाहती हैं। ममता वरुण के सहारे उत्तर प्रदेश की राजनीति में टीएमसी को मजबूत करना चाहती हैं। 

कांग्रेस में जाने की भी चर्चा 

वरुण ने बीते दिनों में जिस तरह के ट्वीट कर बीजेपी और मोदी सरकार को निशाने पर लिया, इससे उनके कांग्रेस में जाने की भी अटकलें लगने लगीं। यह भी कहा गया है कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा इसके लिए कोशिश कर रही हैं। लेकिन यह कोशिश अभी तक तो कम से कम सिरे चढ़ते नहीं दिखाई दी है। 

ममता बनर्जी अगले हफ़्ते दिल्ली आ रही हैं और बताया जा रहा है कि इस दौरान वरुण गांधी की उनसे मुलाक़ात हो सकती है। टीएमसी के नेताओं का कहना है कि ममता का यह दिल्ली दौरा बेहद अहम है। 

Varun Gandhi May join tmc  - Satya Hindi
लखीमपुर खीरी की घटना के बाद से वरुण गांधी ने अपने हमले तेज़ किए हैं। उन्होंने कहा था कि लखीमपुर खीरी की घटना को हिंदू बनाम सिख बनाने की कोशिश की जा रही है। वरुण ने कुछ दिन पहले गोडसे जिंदाबाद के नारे लगाने वालों को भी लताड़ा था और कहा था कि ऐसे लोग इस देश को शर्मिंदा कर रहे हैं। 
उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

बीजेपी ने कुछ दिन पहले वरुण और उनकी मां और पूर्व केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी को राष्ट्रीय कार्यकारिणी में जगह नहीं दी थी। 

ऐसा साफ लगता है कि वरुण गांधी बीजेपी में सहज महसूस नहीं कर रहे हैं और इसे छोड़ने की सूरत में टीएमसी ही उनके लिए बेहतर विकल्प है। निश्चित रूप से ममता बनर्जी भी वरुण को अपने साथ लेना चाहेंगी क्योंकि वरुण के आने से टीएमसी को बंगाल से बाहर एक बड़े राज्य में पहचान बनाने का मौक़ा मिलेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें