loader
फ़ोटो क्रेडिट- @AjayLalluINC

फिरोज़ाबाद: 10 दिन में 45 बच्चों की मौत, मचा हाहाकार 

उत्तर प्रदेश के फिरोज़ाबाद और इसके आस-पास के इलाक़ों में इन दिनों बुरा हाल है। अस्पताल मरीजों से भर चुके हैं और लोग इलाज के लिए जहां-तहां भाग रहे हैं। इस इलाक़े में वायरल बुखार का कहर है तो डेंगू के लक्षण भी कई मरीजों में दिखाई दिए हैं। अकेले फिरोज़ाबाद में पिछले दस दिनों में 53 लोगों की मौत हो चुकी है, जिसमें से 45 बच्चे हैं। आसपास के इलाक़ों में हुई मौतों के मामलों को जोड़ दें तो यह आंकड़ा काफ़ी बढ़ जाता है। राज्य सरकार ने सख़्त कार्रवाई करते हुए 

जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी को हटा दिया है। 

फिरोज़ाबाद मेडिकल कॉलेज के जो हालात हैं, वे बेहद भयावह हैं। बड़ी संख्या में बच्चे बुखार से तप रहे हैं और उनके माता-पिता लगातार फैल रहे इस बुखार से बेहद परेशान हैं। 

कई परिवार ऐसे हैं जिनसे कहा जा रहा है कि वे अपने बच्चों को लेकर आगरा चले जाएं लेकिन वहां पहुंचने से पहले ही बच्चों की मौत हो जाती है। 

ताज़ा ख़बरें

कई परिवारों में हालात इसलिए भी ख़राब हैं क्योंकि वहां एक बच्चे की मौत हो गई है और बाक़ी बच्चे बुखार से तप रहे हैं। बुखार से प्रभावित बच्चों और बड़ी उम्र के लोगों में प्लेटलेट्स तेज़ी से गिर रही हैं। 

एनडीटीवी के मुताबिक़, बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. एल.के. गुप्ता ने कहा है कि अधिकतर बच्चों को वायरल बुखार है और कुछ बच्चों का डेंगू का टेस्ट पॉजिटिव आया है। 

Viral fever in firozabad 45 Children Died  - Satya Hindi
पीड़ितों से मिलते कांग्रेस नेता अजय कुमार लल्लू व अन्य।

फिरोज़ाबाद मेडिकल कॉलेज में इन दिनों 186 मरीज भर्ती हैं। हालात को ख़राब होते देख जिलाधिकारी चंद्र विजय सिंह ने कक्षा 1 से कक्षा 8 तक के सभी सरकारी और प्राइवेट स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया है। 

क्लीनिकों के बाहर कतार 

स्थानीय समाचार पत्रों से पता चलता है कि वास्तव में फिरोज़ाबाद के हालात बेहद गंभीर हैं। प्राइवेट डॉक्टर्स के क्लीनिकों के बाहर ऐसे लोगों की लंबी कतारें लगी हुई हैं, जो अपने बच्चों को इलाज के लिए लेकर आए हैं। इसके अलावा मेडिकल कॉलेज में पर्चा बनवाने के लिए कतार में लगे मरीजों की अच्छी-खासी संख्या भी देखी जा सकती है। 

फिरोज़ाबाद के अलावा आगरा, मथुरा, मैनपुरी, एटा, कासगंज से भी वायरल बुखार के मामले सामने आए हैं। पूर्वी उत्तर प्रदेश में गोंडा, बस्ती, देवरिया, बलिया, आज़मगढ़, सुल्तानपुर, जौनपुर और ग़ाजीपुर में भी वायरल बुखार से लोग पीड़ित हुए हैं। 

Viral fever in firozabad 45 Children Died  - Satya Hindi

मुख्यमंत्री ने किया दौरा 

हालात को लगातार बिगड़ते देख मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस इलाक़े का दौरा किया है और मौतों की वजह जानने के लिए जांच के आदेश दिए हैं। इस दौरान उन्होंने मेडिकल कॉलेज में सभी ज़रूरी इंतजाम करने का निर्देश देते हुए कहा था कि किसी की भी लापरवाही सामने आएगी तो उसकी जवाबदेही तय की जाएगी। मुख्यमंत्री दो पीड़ित परिवारों से भी मिले थे।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

हरक़त में आया प्रशासन 

मुख्यमंत्री के दौरे के बाद प्रशासन भी हरक़त में आया है और उसने कई इलाक़ों का दौरा किया है। डेंगू प्रभावित क्षेत्रों में नोडल अफ़सरों की टीमें लगाई गई हैं। इस बात की जांच की जा रही है कि घर के कूलरों में कहीं डेंगू का लार्वा तो नहीं है। लोगों को एहतियात समेत ज़रूरी बातें भी बताई जा रही हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें