loader

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

BJP
0
AAP
0
CONG
0
OTH
0

हिंदू बन गए वसीम रिज़वी, मिला जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी नाम 

इसलाम के ख़िलाफ़ लगातार विवादित बयानबाज़ी करने वाले उत्तर प्रदेश शिया वक़्फ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष सैयद वसीम रिज़वी ने सोमवार को हिंदू मज़हब कुबूल कर लिया। उन्हें इसलाम के ख़िलाफ़ ही बेहूदी बातें कहने वाले डासना मंदिर के महंत स्वामी यतिनरसिंहानंद सरस्वती ने हिंदू धर्म में शामिल कराया। 

इस मौक़े पर बाक़ायदा मंत्रोच्चार भी हुआ। वसीम रिज़वी को जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी नाम दिया गया है। 

आयतें हटाने की मांग 

वसीम रिज़वी के ख़िलाफ़ बीते दिनों तब विरोध तेज़ हुआ था, जब उन्होंने क़ुरान में से 26 आयतों को हटाने की मांग को लेकर सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी। मुसलिम समुदाय के लोगों ने उनके ख़िलाफ़ फतवे दिए थे लेकिन दक्षिणपंथी विचारधारा से जुड़े लोग रिज़वी के समर्थन में आ गए थे। 

ताज़ा ख़बरें
लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने वसीम रिज़वी की याचिका को खारिज कर दिया था और उन पर 50 हज़ार का जुर्माना भी लगाया था। 

इस मामले में रिज़वी के ख़िलाफ़ कई जगहों पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने को लेकर एफ़आईआर दर्ज कराई गई थी। तेलंगाना, कश्मीर सहित कई अन्य राज्यों में भी रिज़वी के ख़िलाफ़ मुसलिम समुदाय के लोग सड़कों पर उतरे थे। 

वहाबी मुसलमानों के बड़े इसलामिक इदारे दारूल उलूम देवबंद, बरेलवी मुसलमानों के इदारे दरगाह आला हज़रत की ओर से रिज़वी के बयानों की मज़म्मत की गई थी। शिया धर्मगुरू मौलाना कल्बे जव्वाद ने मांग की थी कि वसीम रिज़वी को तुरंत गिरफ़्तार किया जाए।

उत्तर प्रदेश से और ख़बरें

हिंदू धर्म में शामिल होने के मौक़े पर वसीम रिज़वी ने कहा कि उन्हें इसलाम से निकाल दिया गया। जुमे की नमाज़ के बाद उनके पुतले जलाए जाते हैं और उनके सिर काटने पर रखा इनाम बढ़ाया जाता है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म दुनिया का पहला धर्म है। 

गड़बड़ी के हैं आरोप 

वसीम रिज़वी के ख़िलाफ़ शिया वक्‍फ़ बोर्ड की संपत्तियों की बिक्री और ख़रीद में धोखाधड़ी की शिकायत की गई थी। इसके बाद सीबीआई ने रिज़वी के ख़िलाफ़ दो एफ़आईआर भी दर्ज की थीं। रिज़वी पर आरोप था कि उन्होंने प्रयागराज और कानपुर में वक़्फ़ से जुड़ी संपत्तियों की ख़रीद-बिक्री और ट्रांसफ़र में गड़बड़ी की है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तर प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें