loader

उत्तराखंड: बीजेपी सरकार से नाराज़ चार धाम पुजारियों ने क्यों कहा- तबाही आएगी?

शांत रहने वाला पर्वतीय राज्य उत्तराखंड इन दिनों अशांत है। देवभूमि कहे जाने वाले उत्तराखंड के प्रमुख धामों के पुजारी वहां की राज्य सरकार के एक फ़ैसले से बेहद नाराज़ हैं। राज्य में बीजेपी की सरकार है और उसने हाल ही में अपनी विधानसभा में चार धाम देवस्थानम मैनेजमेंट एक्ट पास किया है। इस एक्ट के पास होने का मतलब यह है कि राज्य के लगभग 50 मंदिरों का नियंत्रण राज्य सरकार के हाथों में आ जाएगा। इन 50 मंदिरों में चार धाम कहे जाने वाले केदारनाथ, बद्रीनाथ, गंगोत्री और यमुनोत्री भी शामिल हैं। 
ताज़ा ख़बरें

इन चार धामों के पुजारियों ने श्रद्धालुओं को चेताया है कि वे इस साल इन पवित्र मंदिरों में न आयें वरना वे 2013 से भी ख़तरनाक आपदा का शिकार हो सकते हैं। 2013 में उत्तराखंड में भयावह आपदा आई थी और इसमें केदारनाथ मंदिर के आसपास ख़ासा नुक़सान पहुंचा था। इसके अलावा राज्य के बाक़ी हिस्सों में भी जबरदस्त नुक़सान हुआ था और राज्य अभी तक इस आपदा से पूरी तरह नहीं उबर पाया है। इस आपदा में कई घर तबाह हो गये थे। 

‘भावनाओं से खेल रही सरकार’

इन धामों के पुजारियों ने आरोप लगाया है कि राज्य सरकार लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ कर रही है। उत्तरकाशी में स्थित गंगोत्री मंदिर के मुख्य पुजारी (रावल) शिव प्रकाश ने अंग्रेजी अख़बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया (टीओआई) से मंगलवार को कहा, ‘इस क़ानून के द्वारा मंदिरों को अपने अधिकार में लेकर राज्य सरकार धर्म और लोगों की भावनाओं के साथ खेल रही है। अगर सरकार इस क़ानून को रद्द नहीं करती है तो 2013 की आपदा से भी ज़्यादा भयावह घटना इस बार होगी।’ 

शिव प्रकाश ने इस मामले में गुजरात, राजस्थान और दिल्ली का दौरा किया है और लोगों से इस साल चार धाम की यात्रा पर नहीं जाने के लिये कहा है। शिव प्रकाश ने बताया कि इसके बाद वह असम के दौरे पर जायेंगे।

गंगोत्री धाम के दूसरे पुजारी राजेश सेमवाल ने टीओआई से कहा कि अगर राज्य सरकार इस क़ानून को वापस नहीं लेती है तो पुजारी इस साल मंदिर के धार्मिक संस्कारों का बहिष्कार करेंगे और इस वजह से श्रद्धालु पूजा नहीं कर पायेंगे और उनकी यात्रा अधूरी रह जाएगी। सेमवाल ने कहा कि सरकार के क़दम से श्रद्धालुओं में सकारात्मक संदेश नहीं गया है। 

स्वामी ने दायर की याचिका 

इस मामले में बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यन स्वामी भी मुखर हैं और उन्होंने इस क़ानून के ख़िलाफ़ उत्तराखंड हाई कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है। हाई कोर्ट ने स्वामी की जनहित याचिका पर जवाब देने के लिये राज्य सरकार को तीन हफ़्ते का समय दिया है। स्वामी ने मांग की है कि अदालत को इस क़ानून पर रोक लगा देनी चाहिए। 

उत्तराखंड से और ख़बरें

सरकार बोली, रद्द हो याचिका 

सरकार की ओर से पेश हुए वकीलों ने अदालत में इस क़ानून का बचाव करते हुए कहा कि इस क़ानून को देश के संविधान के नियमों का पालन करते हुए ही बनाया गया है और इसके विरोध में अदालत में दायर की गई याचिका महज राजनीतिक स्टंट है और इसलिये इसे रद्द कर दिया जाना चाहिए। इस साल चार धाम यात्रा अप्रैल में शुरू होगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें