loader

कुंभ: कोरोना टेस्टिंग फ़र्जीवाड़े पर त्रिवेंद्र बोले- हाई कोर्ट के जज करें जांच

कुंभ मेले के दौरान कोरोना की फ़र्जी टेस्टिंग के मामले में उत्तराखंड बीजेपी के दो बड़े नेता आमने-सामने हैं। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के इस बयान पर कि फ़र्जी टेस्टिंग का मामला उनके मुख्यमंत्री की कुर्सी संभालने से पहले का है, पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने उन्हें जवाब दिया है। 

त्रिवेंद्र सिंह रावत को चार महीने पहले उत्तराखंड के मुख्यमंत्री की कुर्सी से हटा दिया गया था और उनकी जगह पर तीरथ सिंह रावत को बैठाया गया था। तब से इन दोनों नेताओं के बीच तल्खियां बरकरार हैं। 

त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने ताज़ा बयान में कहा है कि इस मामले की जांच हाई कोर्ट के किसी वर्तमान जज से कराई जानी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि कोरोना की फ़र्जी रिपोर्ट बनाने के आरोपों की जांच होनी चाहिए और जो लोग इसमें शामिल रहे हैं, उनके ख़िलाफ़ हत्या का मुक़दमा दर्ज होना चाहिए। 

ताज़ा ख़बरें

इससे पहले त्रिवेंद्र सिंह रावत ने एएनआई से बातचीत में कहा था कि यह लापरवाही नहीं बल्कि गंभीर अपराध है और इसे जान-बूझकर किया गया है। उन्होंने कहा था कि इस मामले में निष्पक्ष कार्रवाई होनी चाहिए। 

तीरथ ने दिया था जवाब 

त्रिवेंद्र के बयान के बाद मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत सामने आए थे और उन्होंने अपना बचाव किया था। तीरथ सिंह रावत ने कहा था कि यह उनके कुर्सी संभालने से पहले का मामला है और उन्होंने इस मामले में जांच बिठाई है। उन्होंने कहा था कि वह चाहते हैं कि दूध का दूध और पानी का पानी हो जाए और जो भी इस मामले में दोषी पाया जाएगा उसके ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाएगी। 

तीरथ सिंह रावत ने सीधे तौर पर इस फ़र्जीवाड़े के लिए पूर्ववर्ती त्रिवेंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराने की कोशिश की थी। 

उत्तराखंड से और ख़बरें

एक लाख से ज़्यादा है आंकड़ा

उत्तराखंड सरकार ने इस मामले के तूल पकड़ने के बाद हरिद्वार के जिला प्रशासन को प्राइवेट लैब के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज करने के निर्देश दिए हैं। इन प्राइवेट लैब की कुल संख्या 22 है और इनके साथ राज्य सरकार ने ही कुंभ मेले के दौरान कोरोना की टेस्टिंग के लिए करार किया था। ऐसी ख़बरें हैं कि फ़र्जी टेस्ट का आंकड़ा एक लाख से ज़्यादा है। 

राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग ने मैक्स कॉरपोरेट सर्विसेस, लालचंदानी लैब्स और नलवा लैब्स के ख़िलाफ़ एफ़आईआर दर्ज कराई है। 

यह मामला तब चर्चा में आया था जब पंजाब के फरीदकोट के रहने वाले एक शख़्स ने शिकायत की थी कि उन्हें एक मैसेज मिला है, जिसमें कहा गया है कि वह अपनी कोरोना की रिपोर्ट ले जाएं जबकि उन्होंने कभी जांच कराई ही नहीं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें