loader

पुष्कर सिंह धामी होंगे उत्तराखंड के नए मुख्यमंत्री

पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड के नये मुख्यमंत्री होंगे। शनिवार को देहरादून में बीजेपी विधायक दल की बैठक बुलाई गई और इसमें नए मुख्यमंत्री का चुनाव किया गया। विधायक दल का नेता चुने जाने के बाद धामी पार्टी के नेताओं के साथ राज्यपाल से मिलने पहुंचे और उन्हें इस संबंध में पत्र सौंपा। 

केंद्रीय पर्यवेक्षक के तौर पर कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और डी. पुरंदेश्वरी बीजेपी विधायक दल की बैठक में मौजूद रहे। बैठक में बीजेपी के प्रदेश प्रभारी दुष्यंत गौतम व सह प्रभारी रेखा वर्मा भी मौजूद रहीं। इस सारे सियासी घटनाक्रम से उत्तराखंड का सियासी माहौल बेहद गर्म है। 

इससे पहले तीरथ सिंह रावत ने शुक्रवार रात को राज्यपाल बेबी रानी मौर्य से मिलकर उन्हें अपना इस्तीफ़ा सौंप दिया था। तीरथ सिंह को तीन दिन पहले ही अचानक दिल्ली बुलाया गया था और इसके बाद से ही राज्य के अंदर उनके इस्तीफ़े की चर्चाओं ने जोर पकड़ लिया था। 

ताज़ा ख़बरें

कौन हैं पुष्कर सिंह धामी?

पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड के कुमाऊं क्षेत्र की खटीमा सीट से विधायक हैं। 45 साल के युवा धामी लगातार दो बार विधायक का चुनाव जीत चुके हैं। धामी को पूर्व मुख्यमंत्री और महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी का क़रीबी माना जाता है। 

धामी ने अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से राजनीति शुरू की थी और उसके बाद वह दो बार उत्तराखंड में भारतीय जनता युवा मोर्चा के अध्यक्ष रहे थे। धामी की अपने इलाक़े में अच्छी सक्रियता रही है। 

कुछ ही महीने में दो बार मुख्यमंत्री बदले जाने के कारण उत्तराखंड में बीजेपी की खासी किरकिरी हो चुकी है। राज्य में 7 महीने बाद विधानसभा चुनाव होने हैं। ऐसे में धामी और बीजेपी की उत्तराखंड इकाई के सामने विधानसभा का चुनाव जीतना मुश्किल काम है। 

उत्तराखंड से और ख़बरें

उधर, तीरथ सिंह रावत ने मुख्यमंत्री पद की जिम्मेदारी देने के लिए केंद्रीय नेतृत्व का आभार जताया था और कहा कि संवैधानिक संकट के कारण यह क़दम उठाना पड़ा। 

तीरथ संवैधानिक संकट का सामना कर रहे थे। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के अनुच्छेद 151ए के मुताबिक़, चूंकि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत विधायक नहीं हैं इसलिए उन्हें इस पद पर बने रहने के लिए मुख्यमंत्री चुने जाने के दिन से छह महीने के अंदर विधानसभा का सदस्य निर्वाचित होना ज़रूरी था और यह समय सीमा 9 सितंबर को ख़त्म हो रही थी। 

लेकिन यहां एक मुश्किल थी। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम का अनुच्छेद 151ए यह भी कहता है कि ऐसे राज्य में जहां चुनाव होने में एक साल से कम का वक़्त हो, वहां उपचुनाव नहीं कराए जा सकते। 

तीरथ सिंह रावत अभी पौड़ी सीट से सांसद हैं और उन्होंने 10 मार्च, 2021 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें