loader

उत्तराखंड हाई कोर्ट : चार धाम यात्रा को नहीं बनने देंगे एक और कुंभ

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को फटकार लगाते हुए कहा है कि वह चार धाम यात्रा से जुड़े दिशा निर्देश जारी करे, कोरोना से निपटने की तैयारी के बारे में बताए और कोरोना-अस्पतालों व ऑक्सीजन लगे बिस्तरों की तादाद बढ़ाए। अदालत ने रवैया सख़्त करते हुए कहा है कि चार धाम यात्रा को एक और कुंभ नहीं बनने दिया जाएगा। हाई कोर्ट की यह सख़्ती ऐसे समय आई है जब सुप्रीम कोर्ट इस मुद्दे पर खामोश है। 

मुख्य न्यायाधीश आर. एस चौहान और जस्टिस आलोक वर्मा के खंडपीठ ने कोरोना महामारी से जुड़ी एक जनहति याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि इस तीर्थ यात्रा को एक और कुंभ नहीं बनने दिया जाएगा। 

ख़ास ख़बरें

क्या कहा सरकार ने?

उत्तराखंड सरकार ने इसके जवाब में कहा है कि वह जल्द ही एसओपी यानी स्टैडंर्ड ऑपरेशन प्रोसीज़र यानी मानक दिशा निर्देश जारी कर देगी। 

मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के ज़रिए सरकार का पक्ष रखते हुए कहा कि जल्द ही इस मुद्दे पर एक बैठक होगी और उसमें एसओपी तय किया जाएगा। 

उन्होंने कहा कि इस बैठक में कर्फ्यू, लॉकडाउन, कॉलेजों के कामकाज और महामारी से निपटने के दूसरे उपायों पर विस्तार से चर्चा की जाएगी। 

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि चार धाम यात्रा में दूसरे राज्यों से आने वाले तीर्थ यात्रियों को कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट पेश करनी होगी।

सरकार को फटकार

अदालत ने राज्य सरकार से यह भी कहा है कि 12 मई को होने वाली अगली सुनवाई में वह उसे कोरोना टीका और रेमडिसिविर इंजेक्शन के बारे में पूरी जानकारी दे। उत्तराखंड में रेमडिसिविर पिछले कई हफ्तों से नहीं मिल रहा है। 

हाई कोर्ट ने यह भी कहा है कि राज्य में सिर्फ चार कोरोना अस्पताल हैं जो इस महामारी से निपटने के लिए पर्याप्त नहीं है। इसे बढ़ाया जाए।

अदालत ने इसके साथ ही ऑक्सीज सिलिंडर युक्त बिस्तरों और पीपीई की संख्या बढ़ाने का आदेश भी राज्य सरकार को दिया है। 

अदालत ने सरकार से यह भी पूछा है कि जो अस्पताल ग़रीबों के लिए 25 प्रतिशत बिस्तर आरक्षित नहीं रखते, उनके ख़िलाफ़ क्या कार्रवाई की गई है। 

अदालत ने स्वास्थ्य व वित्त सचिव अमित नेगी से कहा है कि वह इन तमाम बातों पर विस्तृत रिपोर्ट 12 मई को सौंप दे।

कुंभ से सबक

बता दें उत्तराखंड में हुए महाकुंभ स्नान के पहले ही दिन सरकारी आँकड़ों के अनुसार 30 लाख से ज़्यादा लोगों ने स्नान किया जबकि पूरे देश में कोरोना महामारी तेजी से फैल रहा है। 

इसमें 30 साधुओं के कोरोना पॉजिटिव होने की ख़बर आई, एक साधु की मौत हो गई है। 

uttarakhand high court asks state for SOP on char dham yatra - Satya Hindi

मेला प्रशासन के मुताबिक़, 332 लोग कोरोना संक्रमित मिले। निरंजनी अखाड़े के सचिव रविंद्र पुरी ने कहा है कि हालात बिगड़ रहे हैं और ऐसे वक़्त में हमने कुंभ मेले से बाहर जाने का फ़ैसला लिया है। 

10 से 15 अप्रैल के बीच कुंभ मेले में कोरोना के 2,167 पॉजिटिव मामले सामने आए। इनमें अखाड़ों के साधुओं से लेकर मेले में आए आम लोग शामिल हैं। मेले में 12 से 14 अप्रैल तक शाही स्नान चला और इसमें लाखों लोगों की भीड़ जुटी थी। 

बाद में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अपील के बाद जूना अखाड़ा ने मेला समाप्ति और सभी आहूत देवताओं के विसर्जन का एलान कर दिया। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें