loader

उत्तराखंड: तीरथ सिंह को अचानक बुलाया दिल्ली, अटकलों का बाज़ार गर्म

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को अचानक दिल्ली बुलाए जाने से राज्य के अंदर अटकलों का बाज़ार गर्म हो गया है। तीरथ इन दिनों संवैधानिक संकट का सामना कर रहे हैं। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम के अनुच्छेद 151ए के मुताबिक़, चूंकि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत विधायक नहीं हैं इसलिए उन्हें इस पद पर बने रहने के लिए मुख्यमंत्री चुने जाने के दिन से छह महीने के अंदर विधानसभा का निर्वाचित सदस्य बनना होगा और यह समय सीमा 9 सितंबर को ख़त्म हो जाएगी। ऐसे में तीरथ के पास दो महीने से कुछ ज़्यादा दिन का वक़्त ही बचा है। 

तीरथ सिंह रावत अभी पौड़ी सीट से सांसद हैं और उन्होंने 10 मार्च, 2021 को मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। 

लेकिन यहां भी एक मुश्किल है। लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम का अनुच्छेद 151ए यह भी कहता है कि ऐसे राज्य में जहां चुनाव होने में एक साल से कम का वक़्त हो, वहां उपचुनाव नहीं कराए जा सकते। 

ताज़ा ख़बरें

राज्य की विधानसभा का कार्यकाल मार्च 2022 में ख़त्म होगा। इसका मतलब अभी 9 महीने का वक़्त बचा हुआ है। लेकिन अनुच्छेद 151ए के हिसाब से देखें तो तीरथ सिंह रावत के लिए 9 सितंबर, 2021 के बाद मुख्यमंत्री के पद पर बने रहना संभव नहीं हो पाएगा क्योंकि वे विधायक नहीं हैं और राज्य में चुनाव होने में एक साल से कम का वक़्त बचा है और ऐसे में यहां उपचुनाव नहीं कराए जा सकते। 

अब ऐसे में बीजेपी करे तो क्या करे, इसी पर पार्टी में विचार चल रहा है। उधर, कांग्रेस ने इस मामले में राज्यपाल को पत्र लिखकर इस संवैधानिक संकट को दूर करने की गुहार लगाई है। इस साल मार्च में बीजेपी ने त्रिवेंद्र सिंह रावत को मुख्यमंत्री की कुर्सी से हटाकर तीरथ सिंह रावत को इस पद की जिम्मेदारी सौंपी थी। 

Uttarakhand political crisis CM Tirath singh rawat in delhi  - Satya Hindi

आलाकमान के सामने मुश्किल 

एक चर्चा यह चल रही है कि राज्य में विधानसभा भंग कर चुनाव पहले करा लिए जाएं जबकि दूसरी चर्चा यह है कि राज्य में अगर तय वक़्त पर चुनाव कराने हैं तो फिर नेतृत्व परिवर्तन करना ज़रूरी हो जाएगा। लेकिन अगर बीजेपी आलाकमान फिर से नेतृत्व परिवर्तन करता है तो उसके लिए चुनाव में लोगों को जवाब देना मुश्किल हो जाएगा। ऐसे में बीजेपी आलाकमान इस संवैधानिक संकट से निकलने के रास्ते खोज रहा है। 

उत्तराखंड से और ख़बरें

सरकार बोली- आयोग को बता दिया

राज्य सरकार के प्रवक्ता और कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल का उपचुनाव को लेकर कहना है कि सरकार की जिम्मेदारी चुनाव आयोग को यह बताने की है कि राज्य में कौन सी विधानसभा सीट खाली है और इस बारे में फ़ैसला चुनाव आयोग ही लेता है। उन्होंने कहा कि आयोग को इस बारे में सूचना दे दी गई है। राज्य में इन दिनों दो सीट- गंगोत्री और हल्द्वानी खाली हैं। ये दोनों सीटें यहां के विधायकों के निधन के बाद खाली हुई हैं। 

राज्यपाल को लिखा पत्र 

उत्तराखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने राज्यपाल बेबी रानी मौर्य को पत्र लिखकर कहा है कि तीरथ सिंह रावत के विधानसभा का सदस्य बनने की संभावना कमज़ोर होती जा रही है और इस कारण पैदा हुए संवैधानिक संकट की वजह से नौकरशाही का मनोबल टूट रहा है। इससे पहले भी कांग्रेस के कई नेता राज्य में उपचुनाव को लेकर स्थिति साफ करने की मांग कर चुके हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

उत्तराखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें