loader
फ़ाइल फ़ोटो

बंगाल में बीजेपी की रथयात्रा को हाई कोर्ट में चुनौती क्यों?

पश्चिम बंगाल के चुनाव में ध्रुवीकरण की कोशिश तो काफ़ी पहले से हो रही है, लेकिन अब बीजेपी की प्रस्तावित रथयात्रा से कई लोग आशंकित हैं। ये आशंकाएँ कितनी हैं और किस तरह की हैं यह इससे पता चलता है कि कलकत्ता हाई कोर्ट में इसको चुनौती दी गई है। 

पश्चिम बंगाल में अगले कुछ महीनों में चुनाव होने वाले हैं। राज्य में अब तक रोडशो करती रही बीजेपी ने अब पाँच रथ यात्राएँ निकालने की योजना बनाई है। पहली रथयात्रा 6 फ़रवरी यानी इसी शनिवार को निकलेगी। इस यात्रा को बीजेपी के अध्यक्ष जेपी नड्डा निकालेंगे। इसके पाँच दिन बाद 11 फ़रवरी को अमित शाह कूचबिहार से यात्रा को हरी झंडी दिखाएँगे। 

ताज़ा ख़बरें

माना जा रहा है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री और तृणमूल प्रमुख ममता बनर्जी के क़िले को भेदना बीजेपी के लिए आसान नहीं है। बीजेपी की अब तक जो ध्रुवीकरण की नीति रही है उससे भी लगता है कि बीजेपी तृणमूल के सामने इतनी ज़्यादा मज़बूत स्थिति में नहीं होगी कि ममता के लिए कड़ी मुश्किल खड़ी कर सके। यही बात तब भी सामने आई थी जब चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर कहा था कि बीजेपी पश्चिम बंगाल में डबल डिजिट को क्रॉस नहीं कर सकेगी। समझा जाता है कि डबल डिजिट क्रॉस नहीं करने से उनका मतलब 99 से ज़्यादा सीटें नहीं आने से था। 

वह भी ऐसा विश्लेषण तब किया जा रहा है जब राज्य में लगातार ध्रुवीकरण की कोशिश करने का बीजेपी पर आरोप लग रहा है। तृणमूल कांग्रेस यही आरोप बीजेपी की रथयात्रा पर भी लगा रही है। हालाँकि, वह खुले तौर पर रथयात्रा पर ऐसे आरोप लगाने से बच रही है क्योंकि शायद उसे बीजेपी के इस मामले में विक्टिम कार्ड खेलने का डर होगा।

लेकिन बीजेपी की यात्रा और सार्वजनिक रैलियों के शांतिपूर्ण माहौल के दावे पर कलकत्ता हाई कोर्ट में सवाल खड़े किए गए हैं।

कलकत्ता उच्च न्यायालय के एक वकील ने एक याचिका दायर की है जिसमें कहा गया है कि रथयात्रा सांप्रदायिक तनाव को भड़काएगी और इसकी अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। याचिका में कोरोना संक्रमण और क़ानून-व्यवस्था पर ख़तरा होने का कारण भी बताया गया है। 

'एएनआई' की रिपोर्ट के अनुसार, इस मामले में अगली सुनवाई अब 9 फ़रवरी को होगी। 

बीजेपी का इस पर कहना है कि रथ यात्रा वैध राजनीतिक हथियार है। कोर्ट में मामले को ले जाने पर इसने कहा है कि यह विपक्ष की आवाज़ को दबाने का प्रयास है। 

bjp rath yatras in bengal before polls challenged in calcutta high court  - Satya Hindi

बीजेपी नेता कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है,  'कोर्ट ने रथ यात्रा पर स्थगन आदेश नहीं दिया है, इसलिए ज़िला प्रशासन इसे रोक नहीं सकता है। विपक्ष के रूप में लोगों के बीच होना हमारा मौलिक अधिकार है। 6 फ़रवरी को नड्डा जी यात्रा का उद्घाटन करेंगे और 11 फ़रवरी को अमित शाह कूचबिहार से निकलने वाली एक और यात्रा में शामिल होंगे।'

'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, 'ममता बनर्जी की सरकार हमेशा उन्हें चुप कराने की कोशिश करती है। ... इस यात्रा में कोयला घोटाले, गाय तस्करी, तोलाबाजी पर ममता बनर्जी सरकार में भ्रष्टाचार को उजागर किया जाएगा।'

इस रथयात्रा के बारे में बीजेपी जो भी कहे, लेकिन हाई कोर्ट में जो दलील दी गई है वही तथ्य तो शायद तृणमूल कांग्रेस मानती होगी। तृणमूल को भी शायद यह डर होगा कि रथयात्रा में यदि कहीं कुछ गड़बड़ी हुई तो वोटों का ध्रुवीकरण होगा। बीजेपी ममता बनर्जी पर मुसलिम तुष्टिकरण का आरोप पहले से ही लगाती रही है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें