loader

भवानीपुर में ममता जीतीं, बोलीं- लोगों ने दिया नंदीग्राम में साज़िश का जवाब

ममता बनर्जी ने भवानीपुर उप-चुनाव में बड़े अंतर से जीत दर्ज की है। उन्होंने बीजेपी उम्मीदवार प्रियंका टिबरीवाल को क़रीब 58 हज़ार मतों से हराया। टिबरीवाल ने हार स्वीकार कर ली है। ममता को 84 हज़ार से ज़्यादा वोट मिले। जीत के बाद ममता बनर्जी ने कहा कि नंदीग्राम में रची गई साज़िश का भवानीपुर की जनता ने मुंहतोड़ जवाब दिया। 

ममता ने कहा, 'मैंने भवानीपुर विधानसभा उपचुनाव 58,832 मतों के अंतर से जीता है और निर्वाचन क्षेत्र के हर वार्ड में जीत दर्ज की है।' उन्होंने कहा कि जनता के प्यार से जीत मिली है। मुख्यमंत्री ने यह कहते हुए सवाल उठाए कि भवानीपुर जैसी छोटी जगह पर भी 3500 सुरक्षाकर्मी लगाए गए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वह नंदीग्राम से कई कारणों से जीत नहीं पाईं। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी पार्टी के ख़िलाफ़ साज़िश हुई थी। उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं से कहा कि वे विजय जुलूस नहीं निकालें, बल्कि इसके बदले बाढ़ पीड़ितों की मदद करें। 

ताज़ा ख़बरें

चुनाव परिणाम की घोषणा के बाद से तृणमूल समर्थकों में जश्न का माहौल है। ममता को मतगणना शुरू होने के साथ ही बढ़त मिलने लगी थी और वह लगातार बढ़ती ही गई। मतगणना के 13वें दौर में उनकी बढ़त क़रीब 37000 हो गई थी। ममता पहले दौर में क़रीब 3000 मतों से आगे थीं। इसके बाद तीसरे दौर की मतगणना में उनकी बढ़त 6 हज़ार, चौथे दौर में 13 हज़ार और फिर पाँचवें दौर में 18 हज़ार हो गई थी। छठे दौर की मतगणना में क़रीब 24000 मतों से वह आगे हो गई थीं। मतगणना के ग्यारहवें दौर में ममता की बढ़त क़रीब 34000 हो गई थी। शुरुआती रुझान आने के बाद से ही ममता बनर्जी अपने प्रतिद्वंद्वियों से आगे चल रही थीं। मुख्यमंत्री के रूप में ममता के लिए यह चुनाव उनके पद पर बने रहने के लिए बेहद अहम था क्योंकि मुख्यमंत्री होते हुए भी वह विधायक नहीं थीं।

भवानीपुर सीट के अलावा पश्चिम बंगाल की ही समसेरगंज और जंगीपुर सीटों के लिए भी आज मतगणना हो रही है। इन सीटों पर भी तृणमूल आगे चल रही है। 

कोलकाता के सखावत मेमोरियल स्कूल में भवानीपुर विधानसभा क्षेत्र के लिए 21, समसेरगंज के लिए 26 और जंगीपुर निर्वाचन क्षेत्र के लिए 24 राउंड में मतगणना हुई। मतगणना केंद्र पर भारी सुरक्षा व्यवस्था की गई थी। 30 सितंबर को हुए चुनाव के दिन भी भारी पुलिस बल लगाया गया था। राज्य चुनाव आयोग के अनुसार, भवानीपुर में गुरुवार को मतदान के दौरान 57.09 प्रतिशत मतदान हुआ था। समसेरगंज में 79.92 फीसदी और जंगीपुर में 77.63 फीसदी मतदान हुआ था।
भवानीपुर से चुनाव लड़ने वाली ममता बनर्जी के लिए यह उपचुनाव बेहद अहम था। ऐसा इसलिए कि ममता बनर्जी फ़िलहाल विधानसभा सदस्य नहीं थीं। बग़ैर विधानसभा सदस्य बने मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए छह महीने का समय 3 नवंबर को पूरा हो जाता।

यदि वह उस समय तक विधानसभा सदस्य नहीं बनतीं तो उन्हें इस पद से इस्तीफा देना पड़ता। हालाँकि नियम के मुताबिक़ वह इस्तीफ़ा देने के बाद एक बार फिर छह महीने के लिए मुख्यमंत्री बन सकती थीं, लेकिन इससे उनकी किरकिरी होती।

ख़ास ख़बरें

पिछले विधानसभा चुनाव में कोलकाता स्थित भवानीपुर सीट से तृणमूल कांग्रेस के शोभनदेव चट्टोपाध्याय ने चुनाव जीता था। उसके बाद उन्होंने उस सीट से इस्तीफ़ा दे दिया था ताकि वह सीट खाली हो जाए और वहाँ होने वाले उपचुनाव में ममता बनर्जी चुनाव लड़ सकें। भवानीपुर सीट को तृणमूल नेता के लिए आसान सीट माना जाता रहा है। ममता बनर्जी पिछला चुनाव नंदीग्राम से हार गई थीं। इस अप्रैल-मई में हुए विधानसभा चुनावों में अपनी पार्टी की जबरदस्त जीत के बावजूद, वह नंदीग्राम से नहीं जीत सकी थीं। 

ममता बनर्जी के ख़िलाफ़ बीजेपी की ओर से बंगाल में चुनाव बाद हिंसा का केस लड़ने वाली वकील प्रियंका टिबरीवाल उम्मीदवार थीं। टिबरीवाल ममता सरकार के ख़िलाफ़ हाई कोर्ट में चुनाव बाद हिंसा की पैरवी करने के लिए चर्चा में रही हैं। यह वह मुद्दा है जिसको लेकर बीजेपी लगातार ममता बनर्जी को घेरती रही है और क़ानून व्यवस्था पर सवाल उठाती रही है। इस मुद्दे पर हाल के दिनों में टीएमसी और बीजेपी में जबरदस्त ठनती रही है। 

पश्चिम बंगाल से और ख़बरें

प्रियंका टिबरीवाल ने एक याचिकाकर्ता के रूप में कलकत्ता उच्च न्यायालय से उस हिंसा के मामलों में पश्चिम बंगाल सरकार को पुलिस केस दर्ज करने का आदेश दिलवाया था। उन्होंने चुनाव बाद हिंसा के मामलों में सीबीआई जांच के अदालत के आदेश में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

पश्चिम बंगाल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें