loader
UNHCR

अफ़ग़ानिस्तान में भयानक मानवीय संकट, यूएनएचसीआर ने दी चेतावनी

ऐसे समय जब अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान लड़ाकों और अफ़ग़ान सेना के बीच ज़बरदस्त लड़ाई चल रही है, बहुत बड़ा मानवीय संकट पैदा हो गया है।

महिलाओं व बच्चों समेत सैकड़ों नागरिक मारे गए हैं, लगभग ढ़ाई लाख लोगों को अपना घर-बार छोड़ कर भागना पड़ा है।

सहायता एजेन्सियाँ प्रभावित लोगों तक नहीं पहुँच पा रही हैं, संयुक्त राष्ट्र की अपीलों का कोई असर नहीं पड़ रहा है और अंतरराष्ट्रीय समुदाय तमाशबीन बना हुआ है। 

ख़ास ख़बरें

सड़क पर लाश!

हालत इतने खराब हो चुके हैं कि हेलमंद की राजधानी लश्कर गाह में सड़कों पर लाशें पड़ी मिलीं, जिनमें कई नागरिकों की लाशें थीं। 

अंतरराष्ट्रीय समाचार एजेन्सी 'रॉयटर्स' ने हेरात ज़ोनल हॉस्पिटल के प्रमुख आरिफ़ जलाली के हवाले से कहा है कि बीते 11 दिनों की लड़ाई में उस प्रांत में 36 लोग मारे गए हैं और 220 लोग जख़्मी हो गए।

इनमें नागरिकों की बड़ी तादाद हैं, जिनमें महिलाएं व बच्चे भी शामिल हैं। 

afghanistan : taliban- afghan army clash leads to humanitarian crisis - Satya Hindi
UNHCR

महिलाएं-बच्चे शिकार

बच्चों से जुड़ी संयुक्त राष्ट्र संस्था यूनिसेफ़ ने पत्रकारों को सोमवार को बताया कि तालिबान-अफ़ग़ान सेना लड़ाई में पिछले 72 घंटों में दक्षिण कांधार में 20 बच्चे मारे गए और 130 घायल हो गए।

यूनिसेफ़ की अफ़ग़ानिस्तान स्थित प्रतिनिधि हर्वे लुडोविच डे लिस ने 'रॉयटर्स' से कहा, "इस तरह के अत्याचार रोज़ाना बढ़ते ही जा रहे हैं।"

कुंदूज़ पर तालिबान के क़ब्ज़े के बाद सैकड़ों लोग अपने घरों से निकल आए और वहाँ से 315 किलोमीटर दूर राजधानी काबुल की ओर बढ़ने लगे। इनमें गर्भवती महिलाएं व छोटे-छोटे बच्चे भी हैं।

यह काफ़िला बड़ा होता जा रहा है और सैकड़ों भूखे प्यासे लोग पैदल ही काबुल की ओर बढ़ रहे हैं। 

सैकड़ों सड़क पर

पेशे से इंजीनियर ग़ुलाम रसूल भी अपने पूरे परिवार के साथ पैदल ही काबुल जा रहे हैं। उन्होंने कहा, "हम किसी तरह काबुल पहुँच जाना चाहते हैं क्योंकि यहाँ सुरक्षित नहीं हैं, पर पता नहीं कि पहुँच पाएंगे या रास्ते में ही मारे जाएंगे।" 

काबुल की स्थिति खराब है। वहाँ रोज़ाना इस तरह के जत्थे पहुँच रहे हैं, जिनमें महिलाओं व बच्चों समेत सैकड़ों लोग होते हैं। राजधानी में अफरातफरी और अनिश्चितता का माहौल है।

हालत नाजुक

काबुल में तालिबान-अफ़ग़ान सेना में लड़ाई नहीं चल रही है, पर बीते हफ़्ते सबसे सुरक्षित ग्रीन ज़ोन स्थित रक्षा मंत्री के घर पर जिस तरह आत्मघाती हमला हुआ और आठ लोग मारे गए, उससे लोग दहशत में हैं। 

तालिबान ने निमरोज़, सर-ए-पुल, ताखर, हेलमंद, कुंदूज और अयबाक प्रांतों की राजधानियों पर क़ब़्जा कर लिया है। वे कांधार और हेरात में कई जगहों पर पकड़ बना चुके हैं। 

ऐसे में स्थिति बहुत ही चिंताजनक है। 

क्या कहना है यूएनएचसीआर का?

संयुक्त राष्ट्र की शरणार्थी एजेन्सी यूनाइटेड नेशन्स हाई कमिश्नर फ़ॉर रिफ़्यूज़ीज़ यानी यूएनएचसीआर ने चेतावनी दी है कि अफ़ग़ानिस्तान में लड़ाई के और तेज़ होने से बड़ा मानवीय संकट खड़ा हो सकता है।

यूएनएचसीआर ने एक बयान में कहा है,

अफ़ग़ानिस्तान में जनवरी 2021 से अब तक 2,70,00 लोग बेघर हो चुके हैं। इस देश में अब तक 35 लाख आंतरिक शरणार्थी के रूप में रह रहे हैं।


यूएनएचसीआर के बयान का अंश

यूएनएचसीआर के अनुसार, "साल 2020 में जितने नागिरक मारे गए थे, मौजूदा संघर्ष में उससे 29 प्रतिशत अधिक मारे जा चुके हैं। आंतरिक रूप से विस्थापित हुए लोगो को तुरन्त आश्रय, भोजन, पानी, स्वास्थ्य सुविधाएं, और सैनिटरी सुविधाएं दी जानी चाहिए। 

संयुक्त राष्ट्र एजेन्सी ने यह भी कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान के 20 लाख से अधिक लोग ईरान और पाकिस्तान में शरणार्थी के रूप में रहने को मजबूर हैं।" 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें