loader

डेल्टा वैरिएंट: एशिया, अफ़्रीका के ग़रीब देशों के सामने ज़्यादा ख़तरा क्यों?

कोरोना का डेल्टा वैरिएंट जैसे-जैसे दुनिया में फैल रहा है कोरोना का नये सिरे से ख़तरा बढ़ता जा रहा है। बचने का एक तरीक़ा है वैक्सीन। लेकिन वैक्सीन तो पर्याप्त रूप से उपलब्ध नहीं है। और है भी तो उन देशों के पास जो संपन्न और तकनीकी तौर पर उन्नत हैं। यानी साफ़ कहें तो अमेरिका, यूरोपीय देश, चीन और दूसरे विकसित देश तो टीके लगा लेंगे, लेकिन एशिया और अफ्रीका के उन ग़रीब मुल्कों का क्या होगा जो न तो आर्थिक रूप से सक्षम हैं और न ही तकनीकी तौर पर इतने विकसित कि वे वैक्सीन बना या खरीद लेंगे। यही वजह है कि अधिकतर विकसित देश जहाँ अपनी 50 फ़ीसदी से भी ज़्यादा आबादी को पूरे टीके लगा चुके हैं वहीं कई ग़रीब देशों में तो एक फ़ीसदी भी टीके नहीं लगाए जा सके हैं। यानी एक बड़ी आबादी के सामने कोरोना के ख़तरे का सामना करने के लिए कोई चारा नहीं है। 

इसका नतीज़ा इंडोनेशिया, बांग्लादेश जैसे देशों में दिख भी रहा है। इंडोनेशिया में हर रोज़ 30-40 हज़ार संक्रमण के मामले आ रहे हैं। वहाँ सिर्फ़ 7.9 फ़ीसदी लोगों को ही टीके लगाए जा सके हैं। बांग्लादेश में भी हर रोज़ 21 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ रहे हैं और वहाँ सिर्फ़ 2.6 फ़ीसदी लोगों को टीके लगाए जा सके हैं।

ताज़ा ख़बरें

वियतनाम में वैक्सीन लेने योग्य आबादी के सिर्फ़ 0.7 फ़ीसदी लोगों को और ताइवान में 1.7 फ़ीसदी लोगों को ही पूरी तरह से टीके लगाए जा सके हैं। ब्लूमबर्ग वैक्सीन ट्रैकर के अनुसार, आइवरी कोस्ट में 0.4, नामीबिया में 2, रिपब्लिक ऑफ़ कांगो में 1.4, तुर्कमेनिस्तान में 0.2, चाड में 0.1, रवांडा में 1.8, नेपाल में 4 फ़ीसदी आबादी को ही टीके लगाए जा सके हैं। ऐसे देशों में संक्रमण के मामले बढ़ने लगे हैं। वियतनाम में क़रीब 8500, अफ़ग़ानिस्तान में क़रीब 7000, बांग्लादेश में 21 हज़ार, क्यूबा में क़रीब 10 हज़ार, लीबिया में 2100 से ज़्यादा संक्रमण के मामले हर रोज़ आने लगे हैं। 

इसकी तुलना में विकसित और संपन्न देशों में टीकाकरण काफ़ी तेज़ी से हुआ है। यूरोपीय यूनियन की वैक्सीन के योग्य कुल आबादी का 50.4 फ़ीसदी लोगों को दोनों टीके लगाए जा चुके हैं। जर्मनी में 52.6 फ़ीसदी, फ्रांस में 55.6, इंग्लैंड में 57.8, इटली में 54.7, स्पेन में 59, कनाडा में 56.4, अमेरिका में 49.7, बेल्जियम में 60.6, नीदरलैंड्स में 45.8 फ़ीसदी से ज़्यादा आबादी को दोनों टीके लगाए जा चुके हैं। 

भारत में भी 7.8 फ़ीसदी आबादी को टीके लगाए जा चुके हैं। चीन के बारे में आँकड़े उपलब्ध नहीं हैं, लेकिन वह दुनिया में सबसे ज़्यादा वैक्सीन लगाने वाला देश है। 

दुनिया भर में लगाए गए 4 अरब 21 करोड़ टीकों में से 1.68 अरब तो अकेले चीन में ही लगाए गए हैं। दुनिया के किसी भी देश में इसके आधे भी टीके नहीं लगाए जा सके हैं। भारत में तो 50 करोड़ टीके भी नहीं लगाए जा सके हैं।

वैक्सीन के संभावित ऐसे हालात के मद्देनज़र ही संयुक्त राष्ट्र संघ ने ग़रीब देशों के लिए ‘कोवैक्स’ नामक अभियान शुरू किया। इसके तहत उन देशों को 2 अरब वैक्सीन की डोज उपलब्ध करायी जानी है जो अपने दम पर या तो वैक्सीन नहीं बना सकते हैं या फिर वैक्सीन निर्माताओं से समझौते नहीं कर सकते हैं। यह मानवीय क़दम है और इसमें संपन्न देशों की भागीदारी की बात कही गई थी। लेकिन कई देशों ने इसमें अपेक्षित रूप से सही समय पर योगदान नहीं दिया और इस वजह से टीके असंतुलित रूप से देशों में लगाए गए। ऐसा तब है जब विश्व स्वास्थ्य संगठन या डब्ल्यूएचओ साफ़ तौर पर कहता रहा है कि जब तक पूरी दुनिया से कोरोना ख़त्म नहीं होगा तब तक पूरी दुनिया पर ख़तरा मंडराता रहेगा। 

covid vaccine disproportionate distribution in poor countries as delta variant hits   - Satya Hindi

अब ऐसे ख़तरे के संकेत भी मिल रहे हैं। कोरोना के जो नये वैरिएंट आ रहे हैं वे कोरोना के दोनों टीके लगाए लोगों को भी संक्रमित कर सकते हैं। इस मामले में डेल्टा वैरिएंट काफ़ी घातक है। इस वैरिएंट के फैलने के बाद अमेरिका, फ्रांस, इंग्लैंड जैसे देशों में भी संक्रमण फिर से तेज़ी से फैल रहा है। 

विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना का डेल्टा वैरिएंट अब तक सबसे ज़्यादा तेज़ फैलने वाला और सबसे ज़्यादा घातक भी है। फ़ोर्ब्स की एक रिपोर्ट के अनुसार चीन के वुहान में सबसे पहले मिले कोरोना संक्रमण से 50 फ़ीसदी ज़्यादा तेज़ी से फैलने वाला अल्फा वैरिएंट था। यह वैरिएंट सबसे पहले इंग्लैंड में पाया गया था। इस अल्फा से भी 40-60 फ़ीसदी ज़्यादा तेज़ी से फैलने वाला डेल्टा वैरिएंट है। यह सबसे पहले भारत में मिला था और अब तक दुनिया के अधिकतर देशों में फैल चुका है। यह डेल्टा वैरिएंट वही है जिसे भारत में कोरोना की दूसरी लहर में तबाही लाने के लिए ज़िम्मेदार माना गया। 

दुनिया से और ख़बरें
हालाँकि ऐसी रिपोर्टें आ रही हैं कि कोरोना के दोनों टीके लगाए लोग भी संक्रमित हो सकते हैं, लेकिन वैक्सीन से बचाव होता है और लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की नौबत नहीं के बराबर आती है। ऐसे में यदि एशिया और अफ्रीका के ग़रीब देशों में टीके नहीं लगे होंगे तो हालात भयावह हो सकते हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें