loader
TOLO NEWS

काबुल एयरपोर्ट: धमाकों में 170 लोगों की मौत; ISIS ने ली ज़िम्मेदारी

काबुल हवाई अड्डे के बाहर गुरुवार शाम दो जबरदस्त बम धमाके हुए, उसके बाद गोलियाँ चलीं, जिनमें अब तक कम से कम 170 लोगों की मौत हो चुकी है। वाल स्ट्रीट जर्नल की रिपोर्ट के अनुसार इनमें से 72 अफ़ग़ान नागरिक, 28 तालिबानी और 13 अमेरिकी सैनिक भी शामिल हैं। 200 लोग घायल भी हुए हैं। अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने धमाकों की पुष्टि की है। एएफ़पी की रिपोर्ट के अनुसार उन दो धमाकों के बाद एक तीसरा विस्फोट भी हुआ था।

हमलों के बाद शुरुआती रिपोर्ट में जिस आईएसआईएस-के को इस विस्फोट के लिए ज़िम्मेदार होने की आशंका जताई जा रही थी उसने इस घटना की ज़िम्मेदारी ली है। 

आईएसआईएस यानी इस्लामिक स्टेट से जुड़े आईएसआईएस-के ने कहा है कि उसके एक आत्मघाती हमलावर ने 'अमेरिकी सेना के अनुवादकों और सहयोगियों' को निशाना बनाया। अमेरिकी अधिकारी भी हमले के तुरत बाद इसी आतंकी संगठन को दोषी ठहरा रहे थे।
ताज़ा ख़बरें

पेंटागन ने पुष्टि की

पेंटागन के प्रवक्ता जॉन किर्बी ने ट्वीट कर कहा, "एबी गेट पर हुआ धमाका एक जटिल हमले का नतीजा था जिसमें कई अमेरिकी और आम लोगों की मौत हुई है। हम इस बात की भी पुष्टि कर सकते हैं कि एबी गेट से थोड़ी दूरी पर स्थित बैरन होटल पर या उसके पास एक अन्य धमाके को अंजाम दिया गया है।"

विदेश मामलों और राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति समितियों की सदस्य एलिसिया केर्न्स ने बीबीसी से कहा, "बैरन होटल के पास हमले में कई लोग घायल हुए हैं, वहाँ ब्रिटेन उन लोगों के नाम को अंतिम रूप दे रहा था जिन्हें वहां से बाहर निकाला जाना है।"

उनकी सहयोगी नुस ग़नी ने कहा कि जब धमाका हुआ तब वे काबुल हवाई अड्डे के बाहर खड़े किसी शख़्स से बात कर रही थीं।

फ्रांसीसी राष्ट्रपति की चेतावनी

फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमेनुएल मैक्रों ने कहा है कि अफ़ग़ानिस्तान में स्थिति बहुत ही ज़्यादा ख़राब हो गयी है। उन्होंने कहा है कि इस बात का ध्यान रखा जाना चाहिए कि स्थिति ऐसी न हो जाए जिस पर हम नियंत्रण ही न रख सकें।

isis claims responsibility for kabul airport attack, at least 103 killed - Satya Hindi

गुरुवार सुबह ही अमेरिका व कुछ अन्य देशों ने काबुल एयरपोर्ट पर आतंकी हमले के ख़तरे का अंदेशा जाहिर किया था। अमेरिका व कुछ अन्य देशों ने अपने नागरिकों से कहा था कि वे तुरंत एयरपोर्ट के आसपास से हट जाएं। 

चूंकि काबुल एयरपोर्ट पर पिछले कुछ दिनों से जबरदस्त भीड़ है और तमाम देशों के लोग वहां से अपने लोगों को निकालने के काम में जुटे हैं, इसलिए धमाके के बाद वहां अफरा-तफरी का माहौल बन गया है। 

अब तक 90 हज़ार अफ़ग़ान नागरिक और विदेशी लोग मुल्क़ छोड़कर जा चुके हैं। बीते लगभग दो हफ़्ते से इस मुल्क़ में पंजशिर को छोड़कर सभी इलाक़े आतंकवादी संगठन तालिबान के कब्जे में आ चुके हैं। 

isis claims responsibility for kabul airport attack, at least 103 killed - Satya Hindi
काबुल में हुए धमाके में घायल को अस्पताल ले जाते हुए लोग।TOLO NEWS

अमेरिकी सरकार ने गुरूवार को लगातार एक के बाद एक एडवाइजरी जारी कर अपने नागरिकों को चेताया था कि वे एयरपोर्ट न जाएं। अमेरिका के रक्षा विभाग ने कहा था कि जो लोग एब्बे गेट, ईस्ट गेट और नॉर्थ गेट पर हैं, वे वहां से तुरंत हट जाएं और सुरक्षित जगहों पर चले जाएं। 

लंदन, आस्ट्रेलिया और ब्रिटेन ने भी इसी तरह की चेतावनी अपने नागरिकों के लिए जारी की थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें