loader

न्यूयॉर्क में भी मिले ओमिक्रॉन के 5 मामले, अमेरिका के 5 राज्यों में फैला

न्यूयॉर्क ने कहा है कि कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के 5 मामले उनके वहां भी मिले हैं। गवर्नर कैथी होचुल ने गुरुवार को कहा कि अमेरिका में अब तक इस वैरिएंट के कुल 8 मामले सामने आ चुके हैं। 

उन्होंने कहा कि हम इस बारे में जानते थे कि यह नया वैरिएंट फैल रहा है और हमारे पास इसे रोकने के लिए ज़रूरी हथियार हैं। उन्होंने ट्वीट कर लोगों से कहा कि वे वैक्सीन लगवाएं, बूस्टर डोज़ लगवाएं और मास्क ज़रूर पहनें। 

अमेरिका में अब तक मिले 8 मामलों में से एक मामला मिनेसोटा में भी है लेकिन यह शख़्स देश से बाहर नहीं गया था। इसका मतलब है कि यह वायरस वहां फैल रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन ने कहा है कि वे कोरोना के ख़िलाफ़ अपने अभियान को और मजबूत करेंगे। बाइडेन ने कहा है कि वे किसी तरह का लॉकडाउन नहीं लगाने जा रहे हैं। उन्होंने टीकाकरण अभियान को तेज़ करने की ज़रूरत पर जोर दिया है। 

ताज़ा ख़बरें
अमेरिका में कुछ ही दिन पहले इसका पहला मामला सामने आया था लेकिन अब तक यह कम से कम पांच राज्यों में फैल चुका है। इससे पता चलता है कि यह बहुत तेज़ी से फैल रहा है। कैलिफ़ोर्निया, मिनेसोटा, कोलोराडो में भी इस वैरिएंट से संक्रमित लोग मिले हैं। 
दुनिया से और ख़बरें

सबसे पहले इस वैरिएंट का पता दक्षिण अफ्रीका में 24 नवंबर को चला। लेकिन एक रिपोर्ट के मुताबिक़, यह इससे पहले ही यह कम से कम 20 देशों में फैल चुका था। इधर, भारत में इस वैरिएंट के मिलने के बाद चिंता बढ़ गई है। 

भारत सरकार के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि इस वैरिएंट के बारे में कहा जा रहा है कि यह पांच गुना अधिक संक्रमण फैलाने वाला हो सकता है। मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा, "विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इसे वैरिएंट ऑफ़ कंसर्न माना है और इसमें 45 से 52 म्यूटेशन होते हैं, इनमें से 26 से 32 स्पाइक प्रोटीन से संबंधित हैं। स्टडी से यह पता चला है कि यह बहुत तेज़ी से फैलता है।” उन्होंने कहा कि यूरोप के हालात पर भी हमारी नज़र बनी हुई है। 

मॉडर्ना के सीईओ स्टीफ़न बांसेल ने कुछ दिन पहले कहा था कि मौजूदा वक़्त में दी जा रहीं तमाम वैक्सीन ओमिक्रॉन वायरस के लिए उतनी कारगर साबित नहीं होंगी जितनी यह बाक़ी वैरिएंट के लिए हुई हैं।  

बांसेल ने कहा था कि ओमिक्रॉन के लिए नई डोज बनाने में दवा कंपनियों को कई महीने लगेंगे। दुनिया भर के कई देशों में वैज्ञानिक ओमिक्रॉन वैरिएंट को लेकर स्टडी कर रहे हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें