loader

सऊदी अरब ने तब्लीग़ी जमात पर प्रतिबंध क्यों लगाया?

सऊदी अरब ने तब्लीग़ी जमात पर प्रतिबंध लगा दिया है। उसने तब्लीग़ी जमात से जुड़ी चेतावनी जारी की है और तब्लीगी जमात को 'आतंकवाद के दरवाजों में से एक' क़रार दिया है और कहा है कि यह 'समाज के लिए ख़तरा' पैदा करता है।

सऊदी इसलामी मामलों के मंत्रालय ने मसजिदों को निर्देश दिया है कि शुक्रवार के उपदेश के दौरान लोगों को जमात के साथ किसी जुड़ाव को लेकर चेतावनी दें। सऊदी अरब के इस मंत्रालय ने इसको लेकर एक के बाद एक कई ट्वीट किये हैं। मंत्रालय ने एक ट्वीट में कहा, 'इसलामिक मामलों के महामहिम मंत्री डॉ. अब्दुल्लातिफ अल_अलशेख ने शुक्रवार की नमाज अदा करने वाली मसजिदों और इसके मौलानाओं को निर्देश दिया है कि वे अगले शुक्रवार के उपदेश 6/5/1443 एच को (तब्लीग़ी और दवाह समूह) के ख़िलाफ़ चेतावनी देने के लिए समर्पित करें।'

एक अन्य ट्वीट में मंत्रालय ने लिखा है, 'महामहिम ने यह भी निर्देश दिया कि उपदेश में निम्नलिखित विषय शामिल हों:

1- इस समूह के ग़लत निर्देशन, भटकाव और ख़तरे की घोषणा करें, और यह भी कि यह आतंकवाद के द्वारों में से एक है, भले ही वे कुछ और दावा करें।

2- उनकी सबसे प्रमुख ग़लतियों का उल्लेख करें।'

इसके आगे के ट्वीट में कहा गया है, '3- समाज के लिए उनके ख़तरे का उल्लेख करें।

4- यह कथन कि सऊदी अरब साम्राज्य में (तब्लीग़ी और दवाह समूह) सहित पक्षपात करने वाले समूहों से जुड़ाव भी प्रतिबंधित है।'

यह तब्लीग़ी जमात वही संगठन है जो पिछले साल मार्च में भारत में कोरोना संक्रमण फैलने के दौरान चर्चा में रही थी। तब एक वर्ग ने इस संगठन और इसमें भाग लेने वालों को भारत में कोरोना फैलने के लिए ज़िम्मेदार ठहराया था। इसके बाद से यह संगठन सुर्खियों में आया। 

ताज़ा ख़बरें

तब्लीग़ी जमात आख़िर क्या है?

तब्लीग़ी जमात यानी मौलानाओं का एक समूह। इसकी शुरुआत 1926 में मेवात क्षेत्र में हुई थी। इसलाम के जानकार मौलाना मुहम्मद इलियास ने इसको शुरू किया था। कहा जाता है कि तब्लीग़ी जमात एक ऐसा बदलावकारी आंदोलन है जिसका उद्देश्य ग़ैर-मुसलिमों को परिवर्तित करना नहीं है। इसका उन आम मुसलमानों में यह विश्वास जगाना है कि वे मुसलिम हैं और इसी विश्वास को पुनर्जीवित करना है। हालाँकि, कोई आधिकारिक आँकड़ा तो नहीं है, लेकिन प्यू रिसर्च सेंटर के रिलिजन एंड पब्लिक लाइफ़ प्रोजेक्ट में कहा गया है कि उनकी संख्या 12 से 80 मिलियन तक है, जो 150 से अधिक देशों में फैली हुई है।

पैगंबर मुहम्मद के समय में जिस तरह से मुसलमान रहते थे, जमात उसे दोहराने की कोशिश करती है। वे उस तरह से कपड़े पहनते हैं, जैसा कि मुसलमान तब करते थे- पुरुष एक निश्चित लंबाई की दाढ़ी रखते हैं, और वे टूथब्रश के बजाय मिसवाक (दांतों की सफ़ाई करने वाली टहनी) का उपयोग करते हैं। 

वास्तव में इसे 'वर्चस्ववादी आंदोलन' कहा जाता है जो अलगाववाद को बढ़ावा देता है। ऐसा खासकर इसलिए भी क्योंकि संगठन का कोई संविधान या औपचारिक पंजीकरण नहीं है।

इसका साफ़ मतलब यह है कोई भी यह नहीं जानता है कि इसमें कौन आता है या उससे बाहर कौन जाता है। किसी भी सदस्य के अतीत या भविष्य का हिसाब नहीं रखा जाता है।

तब्लीग़ी जमात पहले भी इसलिए चर्चा में रही थी क्योंकि उज्बेकिस्तान, तजाकिस्तान और कज़खिस्तान ने इस पर पाबंदी लगा दी थी। यह पाबंदी ख़ासकर इसलिए लगाई गई क्योंकि वे देश इसके इसलाम के प्रति 'मूल की ओर लौटो' के इसके नज़रिये को कट्टरवाद मानते हैं।

एक रिपोर्ट के अनुसार 2011 में विकीलीक्स के एक डॉक्यूमेंट में दावा किया गया था कि आतंकी संगठन अल क़ायदा के साज़िशकर्ताओं ने दिल्ली के निज़ामुद्दीन में तब्लीग़ी जमात के हेडक्वार्टर का छुपने और यात्रा के काग़जात बनवाने के लिए इस्तेमाल किया था। 

दुनिया से और ख़बरें

कुछ लोगों का मानना है कि तब्लीग़ी जमात कट्टरवादियों के लिए ज़मीन तैयार करती है। कई ऐसे लोगों के आतंकी संगठनों में शामिल होने की रिपोर्ट आती रही है जो तब्लीग़ी जमात के कार्यक्रम में भी शामिल हुए थे। हालाँकि जमात से किसी आतंकी के सीधे जुड़े होने के प्रमाण नहीं हैं। 'लाइव मिंट' के अनुसार, खुफिया एजेंसी में रहे अजीत डोभाल ने भी एक समय कहा था कि कई चीजें गुप्त होने के कारण इस पर संदेह होता है। 

मेवात क्षेत्र में हुई थी शुरुआत

शैक्षणिक और आर्थिक रूप से कमज़ोर मेवात के मेव किसानों के बीच 1926 में तब्लीग़ी जमात अस्तित्व में आयी थी। मेव के बारे में कहा जाता है कि वे कई हिंदू रीति-रिवाजों को मानते थे। शादी में फेरी लेने की रस्में करते थे, ईद की तरह होली भी मनाते थे और गोत्र-व्यवस्था में विश्वास करते थे। कहा जाता है कि ऐसा इसलिए था कि मुसलिमों के हिंदू में धर्मांतरण से रोकने में मदद मिलने की उम्मीद थी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दुनिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें