loader

खट्टर सरकार के ख़िलाफ़ अविश्वास प्रस्ताव पेश हुआ

किसान आंदोलन के बीच हरियाणा की मनोहरलाल खट्टर सरकार के ख़िलाफ़ विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव पेश कर दिया गया। हरियाणा कांग्रेस की तरफ़ से भूपिंदर सिंह हुड्डा ने यह प्रस्ताव पेश किया। इसने कहा है कि किसान आंदोलन के दौरान 250 किसानों की मौत हो गई है। इससे पहले कांग्रेस ने कहा था कि दो निर्दलीय विधायकों ने अपना समर्थन वापस ले लिया है। हालाँकि इससे सरकार पर ज़्यादा ख़तरा नहीं दिखता है क्योंकि मौजूदा समय में बीजेपी के पास बहुमत का आँकड़ा पर्याप्त लगता है। माना जाता है कि कांग्रेस को भी शायद इसका अंदाज़ा होगा, लेकिन इस अविश्वास प्रस्ताव का मक़सद शायद किसानों के ग़ुस्से का सामना कर रही बीजेपी को घेरना होगा।

कांग्रेस के बुधवार को अविश्वास प्रस्ताव की संभावना के मद्देनज़र ही पक्ष और विपक्ष दोनों ने अपने-अपने सदस्यों को सदन में अनिवार्य रूप से उपस्थित रहने के लिए ह्विप जारी किया है। 

ताज़ा ख़बरें

हरियाणा सरकार के मंत्री और बीजेपी के मुख्य सचेतक कंवरपाल ने कहा है कि हरियाणा विधानसभा के बजट सत्र के दौरान भारतीय जनता विधायक दल के सभी सदस्यों से 10 मार्च को सदन में लगातार उपस्थित रहने का अनुरोध किया जाता है। बीजेपी के सहयोगी दल जेजेपी ने भी अपने विधायकों को ह्विप जारी किया है। कांग्रेस के मुख्य सचेतक बीबी बत्रा ने कहा है कि कांग्रेस विधायक दल हरियाणा के सदस्यों को सूचित किया जाता है कि सदन में सरकार के विरुद्ध 10 मार्च को अविश्वास प्रस्ताव लाया जाएगा।

विधानसभा में जो मौजूदा स्थिति है उससे गठबंधन सरकार को ज़्यादा मुश्किल नहीं आती दिख रही है। राज्य की 90 सदस्यों वाली विधानसभा में बीजेपी और जेजेपी गठबंधन के पास 50 विधायक हैं। इसके अलावा सात निर्दलीयों में से पाँच का समर्थन है और हरियाणा लोकहित पार्टी का भी साथ है। फ़िलहाल 88 विधायक ही सदन में हैं और दो पद खाली हैं। बहुमत के लिए 45 सदस्यों का समर्थन चाहिए।

कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा, 

सरकार का समर्थन कर रहे दो निर्दलीय विधायकों ने अपना समर्थन वापस ले लिया है। उनकी गठबंधन पार्टी के कुछ विधायकों ने कहा है कि यह सबसे भ्रष्ट सरकार है।


भूपेंद्र सिंह हुड्डा

हुड्डा ने यह भी कहा कि जब अविश्वास प्रस्ताव आएगा तो पता चल जाएगा कि मनोहर लाल खट्टर सरकार के साथ कौन हैं और कौन ख़िलाफ़ हैं।

congress moves no confidence motion against bjp haryana khattar government  - Satya Hindi

सरकार पर ख़तरे के सवालों पर मुख्यमंत्री खट्टर और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला कहते रहे हैं कि सरकार पर कोई ख़तरा नहीं है। जनवरी महीने के मध्य में भी हरियाणा में बीजेपी-जेजेपी गठबंधन सरकार पर संकट की आशंकाओं के बीच मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा था कि सरकार पर कोई ख़तरा नहीं है और यह पाँच साल पूरा करेगी। दोनों नेताओं ने यह बात तब कही थी जब वे गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर आए थे। 

तब कहा गया था कि मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार चौतरफा दबाव में है। तब यह भी कहा जा रहा था कि किसान आंदोलन के बाद से बीजेपी और दुष्यंत के नेतृत्व वाली जेजेपी में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। 

congress moves no confidence motion against bjp haryana khattar government  - Satya Hindi

बता दें कि कई विधायकों ने खुले तौर पर किसान आंदोलन का समर्थन किया है। कृषि क़ानूनों को लेकर किसान आंदोलन के बाद बीजेपी विधायकों और जेजेपी विधायकों पर भी किसानों का साथ देने का दबाव है। इनके बारे में भी कहा जा रहा है कि उन्हें डर है कि अगले चुनाव में उन्हें वोट नहीं मिलेंगे। उन्हें यह डर इसलिए भी है क्योंकि किसान आंदोलन ने गठबंधन सरकार के मंत्रियों और विधायकों के लिए गाँवों में सार्वजनिक बैठकें करना मुश्किल कर दिया। 

किसानों ने उन्हें काले झंडे दिखाए। यहाँ तक कि मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर की करनाल में किसान महापंचायत का ज़बरदस्त विरोध हुआ था और उनको अपना कार्यक्रम रद्द करना पड़ा था। 

हरियाणा से और ख़बरें

इधर, देश के पाँच राज्यों के चुनावों में बीजेपी को वोट नहीं देने की अपील करने के बाद अब संयुक्त किसान मोर्चा ने हरियाणा सरकार को गिराने में सहयोग करने का आह्वान किया है। इसने कहा है कि किसान आंदोलन को और तेज़ करते हुए संयुक्त किसान मोर्चा हरियाणा में अभियान चलाएगा जिससे सरकार गिर जाए। इसने कहा है कि वह लोगों से अपील करेगा कि वे अपने विधायकों से कहें कि 10 मार्च को आने वाले अविश्वास प्रस्ताव में बीजेपी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार को हराएँ।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें