loader

गुड़गाँव नमाज़ : भड़काऊ भाषण पर कार्रवाई की माँग

राजधानी दिल्ली से सटे गुड़गाँव में प्रशासन द्वारा तय खुली जगह पर नमाज़ पढ़ने से रोकने का मुद्दा थम नहीं रहा है। उस जगह गोवर्धन पूजा करने और उसमें बीजेपी नेता कपिल मिश्रा के भाषण के बाद इस मामले में एक नया मोड़ आ गया है।

मुसलमानों ने माँग की है कि उनके ख़िलाफ़ भड़काऊ भाषण करने वालों पर कार्रवाई की जाए। इतना ही नहीं, उन्होंने सरकार से ज़मीन की माँग की है, जहाँ मसजिद बनाई जा सके और वे वहाँ नमाज अदा कर सकें।

बता दें कि गुड़गाँव के 22 दक्षिणपंथी संगठनों की शीर्ष संस्था संयुक्त हिन्दू संघर्ष समिति ने शुक्रवार को नमाज की जगह गोवर्धन पूजा की, जिसमें बीजेपी नेता कपिल मिश्रा और हरियाणा बीजेपी के प्रवक्ता सूरज पाल अमू ने भी शिरकत की। इसके बाद विश्व हिन्दू परिषद के एक स्थानीय नेता ने कहा कि 'जो लोग इस जगह नमाज पढना चाहते हैं वे पाकिस्तान चले जाएं।'

ख़ास ख़बरें

भड़काऊ भाषण

स्थानीय मुसलमानों ने गुड़गाँव मुसलिम कौंसिल के बैनर तले उपायुक्त से मुलाक़ात की और माँग की कि सेक्टर 12 'ए' में 5 नवंबर को जिन लोगों ने मुसलमानों के ख़िलाफ़ भड़काऊ बातें कहीं, उन पर कार्रवाई की जाए।

पूर्व राज्यसभा सदस्य मुहम्मद अदीब ने 'इंडियन एक्सप्रेस' से कहा,

जिस जगह नमाज़ पढ़ी जाती थी, उस जगह कुछ बाहरी लोग पहुँच गए और मुसलमानों के ख़िलाफ़ भड़काऊ बातें कहीं व आपत्तिजनक नारे लगाए, लेकिन उनके ख़िलाफ़ किसी तरह की कार्रवाई नहीं की गई। इससे समुदाय के लोगों की भावनाएँ आहत हुई हैं।


मुहम्मद अदीब, पूर्व सदस्य, राज्यसभा

मसजिद के लिए ज़मीन

उन्होंने यह भी कहा कि उन्होंने प्रशासन से गुजारिश की है कि मुसलमानों को सरकार ज़मीन दे या इसकी अनुमति दे कि वे खुद ज़मीन खरीद लें और उस पर मसजिद बनाएं। उन्होंने यह भी कहा कि स्थानीय मुसलमान प्रशासन की ओर से तय जगह पर नमाज़ अदा करते आए हैं, पर अब उन्हें ऐसा करने से रोका जा रहा है।

गुड़गाँव मुसलिम कौंसिल ने हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर से मुलाक़ात का समय भी माँगा है।

Gurgaon News : Gurgaon Namaz Protests Escalate - Satya Hindi
हिन्दू संगठनों की सभा

मामला क्या है?

बता दें कि गुड़गाँव प्रशासन की ओर से 37 ऐसी जगहों को चिन्हित किया गया है, जहाँ मुसलमानों को शुक्रवार की नमाज़ पढ़ने की इजाज़त है। अक्टूबर के अंतिम हफ़्ते में  नमाज़ियों का विरोध करने पर पुलिस ने 30 लोगों को हिरासत में ले लिया था। लगातार विरोध के बाद गुड़गांव के प्रशासन ने 37 में से 8 जगहों पर नमाज़ के लिए दी गई इजाज़त को वापस ले लिया था।

ताज़ा विवाद इस पर है कि कपिल मिश्रा ने वहाँ मौजूद हिंदू संगठनों के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि 'शाहीन बाग की तरह यहाँ भी सड़कों को जाम न किया जाए।' उन्होंने कहा कि 'गुड़गाँव के लोगों ने दिखाया है कि हमें सड़कों पर चलने, अस्पताल जाने की आज़ादी चाहिए।'

पाकिस्तान?

विहिप के नेता सुरेंद्र जैन ने पिछली बार गिरफ़्तार किए गए 26 लोगों की तारीफ़ की और उन्हें धर्म योद्धा बताया। उन्होंने कहा,

यह दूसरा पाकिस्तान नहीं बनेगा, जो लोग सार्वजनिक जगहों पर नमाज़ अदा करना चाहते हैं, वे पाकिस्तान जा सकते हैं। नमाज़ के लिए सड़कों को बंद करना जिहाद है और यह आतंकवाद है।


सुरेंद्र जैन, नेता, विश्व हिन्दू परिषद

'गुड़गाँव तो झाँकी है'

 

इस दौरान वहां मौजूद कार्यकर्ताओं ने 'जय श्री राम' और 'गुड़गाँव तो बस झाँकी है, पूरा देश बाकी है' के नारे लगाए थे। कुछ और नेताओं ने कहा कि 'आने वाले दिनों में किसी भी सार्वजनिक जगह पर नमाज़ नहीं पढ़ने दी जाएगी।'

गुड़गाँव में जुमे के नमाज़ के सार्वजनिक जगहों पर पढ़े जाने के विरोध की पहली घटना 2018 में हुई थी। इसके बाद मुसलिम समुदाय, हिंदू समुदाय और प्रशासन के अफ़सरों के बीच लंबी बातचीत हुई थी और नमाज़ पढ़ने के लिए 37 जगहों का चयन किया गया था। उसके बाद से मुसलिम समुदाय के लोग इन जगहों पर नमाज़ अदा करते आ रहे थे और दो साल तक मामला शांत रहा था।

लेकिन बीते कुछ हफ़्तों से एक बार फिर से दक्षिणपंथी संगठनों के लोगों ने सेक्टर 12-A और सेक्टर 47 में नमाज़ पढ़ने वाले लोगों का विरोध शुरू कर दिया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें